पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • National
  • Fatehabad News Haryana News Orders To Deliver Mid Day Meal Ration To The Children Up To 8th Grade And Account For Cooking Amount

8वीं कक्षा तक के बच्चों के घर मिड-डे मील का राशन पहुंचाने और कुकिंग राशि खाते में डालने के आदेश

एक वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक

कोरोना वायरस के चलते शिक्षा विभाग ने सभी जिला मौलिक शिक्षा अधिकारियों को आदेश जारी कर मुख्य शिक्षकों के माध्यम से पहली कक्षा से 8वीं कक्षा तक के सभी बच्चों के घर मिड-डे मील पहुंचाने के आदेश दिए हैं। इतना ही नहीं यह भी आदेश दिए गए हैं कि मिड-डे मील का राशन घर पहुंचाने के साथ-साथ उसे बनाने के लिए मिलने वाली कुकिंग राशि बच्चों के बैंक खाते में डाली जाए।

यह पूरी कार्यवाही कोर्ट के आदेशों पर की गई है। लेकिन जिले में पिछले 3 महीने से कुकिंग राशि का फंड नहीं मिलने के कारण जिला शिक्षा विभाग के पास कुकिंग फंड नहीं है। अधिकारियों द्वारा सभी बिल भेजे जाने के बाद भी वित्त विभाग द्वारा फंड जारी नहीं किया जा रहा है। ऐसे में देखना होगा कि विभाग किस प्रकार बच्चों के घर तक राशन पहुंचाएगा तथा कैसे उनके खाते में कुकिंग राशि डाली जाएगी।

3 महीने का 5.47 करोड़ रुपये का कुकिंग फंड बकाया

यहां बता दें कि पहली कक्षा से लेकर 8वीं कक्षा तक के बच्चों को प्रति दिन के हिसाब से मिड-डे मील दिया जाता है। जिसका कुकिंग फंड विभाग द्वारा जारी किया जाता है। लेकिन जिले का पिछले 3 महीने से कुकिंग फंड ही जारी नहीं किया गया है। ऐसे में कुकिंग करने वालों को सैलरी भी नहीं मिल रही है जिले भर का 3 महीने का यह बजट 5 करोड़ 47 लाख रुपये है। ऐसे में उक्त फंड जारी हुए बिना बच्चों के खाते में कुकिंग राशि कैसे भेजी जाएगी।

खाते में डाली जाए राशि

कोरोना के संक्रमण के चलते विभाग ने स्कूलों की छुट्टियां की हुई हैं। ऐसे में घर-घर राशन वितरण से संक्रमण फैलने का खतरा है। सभी बच्चों के खाते में ही राशन व कुकिंग की राशि डालनी चाहिए।\\\'\\\' - विकास, जिला प्रधान प्राथमिक शिक्षक संघ|

कोरोना के बारे में करेंगे जागरूक

घर-घर राशन वितरण करने के निदेशक की तरफ से आदेश मिले हैं। सभी बीईओ को जल्द ही राशन वितरण शुरू करने को कह दिया गया है। इस दौरान बच्चों व अभिभावकों को कोरोना से बचाव के उपाय भी बताए जाएंगे। कुकिंग फंड भी जल्द ही जारी होने की उम्मीद है।\\\'\\\' - देवेंद्र कुंडू, डीईईओ

जानिए... प्रति बच्चे ये मिलता है कुकिंग फंड


विभाग द्वारा मिड-डे मिल में बनने वाले चावल व गेहूं सहित काफी सामान स्कूलों में भिजवाया जाता है। लेकिन राशन को पकाने में खर्च होने वाला फंड अलग से जारी किया जाता है। प्राइमरी स्कूल के प्रत्येक बच्चे के लिए प्रति दिन 100 ग्राम तथा अपर प्राइमरी के बच्चे के लिए प्रति दिन 150 ग्राम मिड-डे मिल बनाया जाता है। इसके लिए प्राइमरी के प्रत्येक बच्चे का 4.48 रुपये तथा अपर प्राइमरी के प्रत्येक बच्चे का 6.71 रुपये कुकिंग कोस्ट के मिलते हैं।

बच्चों के घर राशन पहुंचाने में ये आ रही हैं परेशानियां


{कोरोना के चलते स्कूलों की छुट्टियां हैं तथा अध्यापकों को भी घर रहकर काम करने के आदेश हैं। ऐसे में अध्यापक घर-घर जाने को तैयार नहीं हैं।

{अध्यापक व हेल्पर हर बच्चे का घर नहीं जानते जिस कारण उन्हें घर-घर जाने में परेशानी होगी।

{राशन वितरण में एक अध्यापक व एसएमसी के सदस्य कई घरों में जाएंगे ऐसे में उन्हें संक्रमण का खतरा है।

{कई गांवों के स्कूल ऐसे भी हैं जिनमें दूसरे गांवों के भी बच्चे पढ़ते हैं। ऐसे में इतने बच्चों के घर तक जाना तथा राशन वितरित करना पड़ी परेशानी है।

खबरें और भी हैं...