एमआईई में फैक्ट्रियों का प्रदूषण पहुंचा खतरनाक स्तर पर, आज ईपीसीए चेयरमैन भूरेलाल दौर कर जाचेंगे

Jhajjar News - एनसीआर में बढ़ रहे प्रदूषण और बहादुरगढ़ में प्रदूषण फैला रही फैक्ट्रियों की जांच करने पर्यावरण प्रदूषण रोकथाम एवं...

Bhaskar News Network

Oct 13, 2019, 07:30 AM IST
Bahadurgarh News - haryana news pollution of factories reached alarming level in mie epca chairman bhurelal will go round today
एनसीआर में बढ़ रहे प्रदूषण और बहादुरगढ़ में प्रदूषण फैला रही फैक्ट्रियों की जांच करने पर्यावरण प्रदूषण रोकथाम एवं नियंत्रण प्राधिकरण (ईपीसीए) के चेयरमैन भूरेलाल रविवार को दौरा करेंगे। वे पिछले साल भी बहादुरगढ़ आए थे। तब उन्होंने प्रदूषण रोकने में नाकाम रहे प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड व नगर परिषद के अधिकारियों पर नाराजगी जताई थी। अब फिर से बहादुरगढ़ आ रहे हैं। इस कारण जिला प्रशासन के अधिकारियों ने उनके आने से पहले की व्यवस्था दुरुस्त कर ली है। यहां वे एमआईई फैक्ट्रियों में दौरा करेंगे। प्रदूषण बोर्ड के क्षेत्रीय अधिकारी और नगर परिषद अधिकारियों की ओर से प्रदूषण रोकने को उठाए गए कदमों की जानकारी लेंगे। पिछले साल भूरेलाल ने अधिकारियों पर नाराजगी जताते हुए सख्त लहजे में कहा था कि उन्हें बहादुरगढ़ में प्रदूषण किसी भी हालत में नहीं चाहिए। सोलेड वेस्ट के मामले में भी नगर परिषद के अधिकारियों को पास कोई जवाब नहीं है। पीएम 2.5 ऐसे प्रदूषणकारी तत्वों को दर्शाते हैं, जिनका आकार 2.5 माइक्रोमीटर से भी कम होता है। ठोस प्रदूषक तत्वों और तरल पदार्थों के मिश्रण से बने ऐसे कण व्यक्ति के फेफड़ों और रक्त प्रवाह तक पहुंच सकते हैं। सांस संबंधी बीमारियों का कारण बन सकते हैं। फिलहाल एमआई का पीएम2.5 स्तर डब्ल्यूएचओ के मानक से 20 गुना अधिक है। एनसीआर में पहली बार जेनरेटर सेट पर प्रतिबंध लग रहा है। होटल, रेस्तरां एवं ढाबों में कोयला व लकड़ी नहीं जलाई जलेगी। इसके अलावा एनसीआर में ईंट भट्ठे भी वही चलाए जा सकेंगे, जो जिग जैग तकनीक अपना चुके होंगे। हॉट मिक्स प्लांट व स्टोन क्रशर पर धूल न उड़े, इसके उपाय करने होंगे। इस सभी कार्यों की समीक्षा रविवार को होगी। इसमें प्रदूषण रोकने के लिए मंथन किया जाएगा। इस तरह बहादुरगढ़ में करीब पांच सौ फैक्ट्री लाइट जाने पर बंद रहेगी।

पिछले साल सख्त लहजे में बोले थे- किसी भी हालत में नहीं चाहिए प्रदूषण

बहादुरगढ़ में बालौर रोड पर फैला कूड़ा

जिले में दो हॉट स्पॉट की पहचान

दिल्ली-एनसीआर में 19 हॉट स्पॉट की पहचान की गई है। इनमें से 13 हॉट स्पॉट दिल्ली और 6 एनसीआर में है। इनकी निगरानी का जिम्मा दिल्ली प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड समेत राज्य प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड को दिया गया है। हर हॉट स्पॉट पर एक नोडल अधिकारी की नियुक्ति की जाएगी। ईपीसीए ने दो झज्जर, एक-एक पानीपत व दादरी में है। जांच की जाएगी कि क्या यहां पर 2019 तक सभी नियमों का पालन हो रहा है या नहीं।

8 प्रदूषकों की मात्रा तय होगी

बहादुरगढ़ में आठ प्रदूषकों की मात्रा के हिसाब से एक्यूआई पीएम 2.5, पीएम 10, कार्बन डाई आॅक्साइड, कार्बन मोनोऑक्साइड, नाइट्रोजन डाई आक्साइड, सल्फर डाई आक्साइड, ओजोन, अमोनिया और लेड तय हाेगी।

डपिंग स्टेशन हटाने पर सुनवाई नहीं : बहादुरगढ़ में कचरे को लेकर स्थिति संतोषजनक नहीं है। आज भी बलौर रोड पर कूड़े के ढेर शहर में आने वालों के लिए परेशानी का कारण बने हुए हैं। इस डंपिंग स्टेशन को हटवाने के लिए भी कई बार स्थानीय लोग प्रदर्शन कर चुके हैं, लेकिन कोई कार्रवाई नहीं हो रही। इस बारे में नप सचिव मुकेश ने बताया कि कूड़ा करकट से खाद तैयार करने की भी योजना है।

एचएसआईआईडीसी में प्रदूषण स्तर कम

मौजूदा समय में प्रदूषण को लेकर जहां एमआई में प्रदूषण का स्तर खतरनाक की श्रेणी में है वहीं, एचएसआईआईडीसी व उसके साथ लगते क्षेत्र में प्रदूषण का स्तर अच्छी श्रेणी में होने से प्रदूषण कंट्रोल बोर्ड के अधिकारियों ने राहत की सांस ली है। बोर्ड के आरओ कृष्ण कुमार ने बताया कि शनिवार को वायु गुणवत्ता सूचकांक पीएम 2.5 की श्रेणी 56 है, जो प्रदूषण के पैमाने पर अच्छी श्रेणी में आती है, जबकि एमआई में यह स्तर खतरनाक तक भी पहुंच जाता है।

सम-विषम से बहादुरगढ़ में वाहनों की बढ़ेगी भीड़

दिल्ली को गैस चैंबर बनने से बचाने के लिए साथ लगते शहर बहादुरगढ़ के एमआई औद्योगिक क्षेत्र को लेकर होम वर्क पूरा किया है, जिसे अधिकारी भूरेलाल के सामने रखेंगे। वैसे भी दिल्ली में 4 से 15 नवंबर तक सम-विषम योजना लागू होगी। उस स्थिति में रोहतक तक के वाहन चालक बहादुरगढ़ में वाहनों को रोककर यहां से मेट्रो का सफर पूरा करेंगे।

फैक्ट्रियों में जनरेटर चलाने पर 15 से प्रतिबंध

बहादुरगढ़ की सभा फैक्ट्रियों में 15 अक्टूबर से जनरेटर भी बंद करने के आदेश के बाद से बहादुरगढ़ का फुटवियर उद्योग संचालकों में हड़कंप मचा है। बीसीसीआई के महासचिव सुभाष जग्गा ने बताया कि बिजली निगम की तरफ से तीन से चार घंटे का कट लगता है। इस दौरान फैक्ट्रियों को जनरेटरों से भी नहीं चलाया जाएगा तो यह जूते बनाने का सीजन का समय है। एेसे में बहादुरगढ़ का फुटवियर उद्योग पूरी तरह से बर्बाद हो जाएगा। बता दें कि ईपीसीए ने 15 अक्तूबर से ग्रेप योजना को लागू करने को कहा है, जिसमें बहादुरगढ़ में भी की खराब होती आबोहवा के बीच ईपीसीए कटोर कार्रवाई करने जा रहा है।

X
Bahadurgarh News - haryana news pollution of factories reached alarming level in mie epca chairman bhurelal will go round today
COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना