महीने में दो बार दोपहर बाद तीन से चार बजे तक सुनी जाएंगी समस्याएं

Sonipat News - विद्यार्थियां एवं अन्य बच्चों की विभिन्न परेशानी को लेकर जो सवाल अक्सर उन्हें परेशान करते हैं, उसका हल पर उन्हें...

Jan 16, 2020, 08:51 AM IST
Sonipat News - haryana news problems will be heard twice a month from three to four in the afternoon
विद्यार्थियां एवं अन्य बच्चों की विभिन्न परेशानी को लेकर जो सवाल अक्सर उन्हें परेशान करते हैं, उसका हल पर उन्हें वहीं से मिल सकेगा। वे अपने मोबाइल अथवा लैंडलाइन फोन के जरिए हरियाणा राज्य बाल कल्याण परिषद अधिकारी को सूचित करेंगे और उसी समय उन्हें तत्कालीन हल प्रदान किया जाएगा। अगर विद्यार्थी की समस्या ज्यादा गंभीर होगी तो संबंधित जिले के बाल संरक्षण अधिकारी उस पर कार्य करेंगे।

इस परियोजना के पहले चरण में सोनीपत सहित रोहतक, भिवानी, झज्जर और दादरी के बच्चे शामिल होंगे। इस योजना में एक अहम पहलू यह भी है कि अगर किसी अभिभावक को विद्यार्थी के मनो विज्ञान से जुड़ी कोई परेशानी है तो वह भी फोन कर अपनी बात रख सकते हैं। इस परियोजना के सूत्रधार रोहतक मंडल के मंडलीय बाल कल्याण अधिकारी अनिल मलिक ने डीसी अंशज सिंह से मुलाकात कर योजना पर चर्चा की। इसके बाद दोपहर में पत्रकारों से बातचीत करते हुए इस बाबत औपचारिक घोषणा कर दी। जिसके तहत चयनित जिलों के बच्चे हर माह के दूसरे व चौथे बुधवार के दिन दोपहर बाद तीन से चार बजे के बीच फोन नंबर 8278228020 पर कॉल कर सकेंगे। सभी शिकायतें स्वयं मंडल बाल कल्याण अधिकारी अनिल मलिक खुद सुनेंगे। इस मौके पर उनके साथ जिला बाल कल्याण अधिकारी सुरेखा हुड्डा, परियोजना संयोजक, उदय चंद, सहायक कार्यक्रम अधिकारी धर्मपाल सहित विभिन्न समाजसेवी संगठनों के पदाधिकारी मोहन सिंह मनोचा, जयवीर सिंह गहलावत, दीपक कुमार मंथन आदि भी मौजूद थे।

विद्यार्थियों की मनोवैज्ञानिक समस्याओं का हल होाग अब फोन पर

दूसरे व चौथे बुधवार को नंबर 8278228020 पर कॉल कर सकेंगे बच्चे व अभिभावक

सोनीपत. समाधान योजना का शुभारंभ करते हुए डीसी अंशज सिंह।

जिस स्कूल में आवश्यकता होगी वहा खोले जाएंगे परामर्श केन्द्र : परियोजना संयोजक ने बताया कि परिषद की ओर से तय किया गया है कि सोनीपत के जिस भी स्कूल में आवश्यकता होगी वहीं पर विद्यार्थी परामर्श केन्द्र खोले जाएंगे। इस बाबत डीईओ के माध्यम से सभी स्कूलों को अवगत करवाया गया है।अब तक जिले में 10 तथा राज्य में 93 केन्द्र खोले जा चुके हैं।

इसलिए शुरू की

योजना संयोजक ने बताया कि मौजूदा दौर में बढ़ रही मानसिक चिंता तनाव व दबाव के कारण किसी भी तरह कोई भी बच्चा मनोवैज्ञानिक व्याधि से ग्रस्त होकर किसी अप्रिय घटना को अंजाम ना दें इसी सोच के साथ बच्चों की बात टेलीफोन के साथ परियोजना की शुरुआत की है। आने वाले समय में बाल भवन रोहतक स्थित मंडलीय बाल कल्याण अधिकारी कार्यालय में जिले के संबंधित जितने भी बातचीत टेलीफोन पर बातचीत के बाद मनोवैज्ञानिक परामर्श हेतु मामले आएंगे उनका निदान करने हेतु जिला स्तरीय मनोवैज्ञानिक परामर्श केंद्र की स्थापना भी की जाएगी। अगले महीने रोहतक में राज्य स्तरीय कार्यक्रम का भी आयोजन किया जाएगा।

X
Sonipat News - haryana news problems will be heard twice a month from three to four in the afternoon
COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना