• Hindi News
  • Harayana
  • Jind
  • Jind News haryana news ramps built in colonies sign boards of councilors including dc along the road

काॅलोनियों में बनवाए रैंप, डीसी सहित पार्षदों के साइन बोर्ड सड़क के साथ पगडंडी पर लगे

Jind News - रोड सेफ्टी को देखते हुए नियम ये है कि सड़क से 3 मीटर की दूरी तक किसी भी प्रकार का साइन बोर्ड नहीं लगाया जा सकता, लेकिन...

Jan 16, 2020, 07:56 AM IST
Jind News - haryana news ramps built in colonies sign boards of councilors including dc along the road
रोड सेफ्टी को देखते हुए नियम ये है कि सड़क से 3 मीटर की दूरी तक किसी भी प्रकार का साइन बोर्ड नहीं लगाया जा सकता, लेकिन जींद शहर में इसके बिल्कुल विपरीत हो रहा है। न केवल जिला प्रशासन इन नियमों की धज्जियां उड़ा रहा है, बल्कि काॅलोनियों में भी लोगों ने सड़क के दोनों तरफ लंबे रैंप बनाकर लोगों को सड़कों पर चलने को मजबूर कर दिया है। यह नजारा शहर के किसी भी मुख्य मार्ग और काॅलोनियों को जाने वाले रोड पर देखा जा सकता है। खुद प्रशासन ही सरकार के बनाए नियमों को तोड़ता हुआ नजर आता है।

किसी भी एजेंसी द्वारा जब भी मुख्य मार्गों का निर्माण किया जाता है तो रोड रूल के अनुसार सड़क से 2 से 3 मीटर के बीच फुटपाथ (पगडंडी) के लिए जगह छोड़ी जाती है ताकि लोग पैदल चल सकें, लेकिन जींद शहर के अधिकतर मुख्य मार्गों के साथ फुटपाथ तो बना दिए गए हैं, लेकिन वह लोगों के लिए चलने लायक नहीं छोड़े गए हैं। शहर में अधिकतर जगहों पर फुटपाथ पर सरकारी या निजी संस्थाओं के बड़े-बड़े साइन बोर्ड लगा दिए गए हैं, जिस कारण आम व्यक्ति पैदल नहीं चल पाता। यहां तक की सरकारी विभागों के साइन बोर्ड भी फुटपाथ पर लगे हुए हैं। गोहाना रोड की बात करें तो लघु सचिवालय, जिला उपायुक्त, सीटीएम निवास, जजों, पूर्व केंद्रीय मंत्री बीरेंद्र सिंह, जाट धर्मशाला सहित पीडब्ल्यूडी और एनएचएआई द्वारा हाल ही में लगाए गए सैकड़ों साइन बोर्ड फुटपाथ पर लगे हुए हैं। जबकि नियमों के तहत ऐसा नहीं किया जा सकता। यही हाल सफीदों रोड के अलावा शहर के मुख्य मार्गों का हैं, जहां पर एनएचएआई ने गांवों व शहर के विभिन्न सार्वजनिक स्थलों के साइन बोर्ड फुटपाथ पर ही लगा दिए हैं। यही नहीं हाल ही में नगर परिषद ने भी रानी तालाब पर बने फुटपाथ पर स्ट्रीट लाइट के पोल जमीन में गाड़कर इसे गायब कर दिया है।

फुटपाथ : नियम ये है कि सड़क से 3 मीटर की दूरी तक नहीं लगाए जा सकते साइन बोर्ड

भास्कर न्यूज | जींद

रोड सेफ्टी को देखते हुए नियम ये है कि सड़क से 3 मीटर की दूरी तक किसी भी प्रकार का साइन बोर्ड नहीं लगाया जा सकता, लेकिन जींद शहर में इसके बिल्कुल विपरीत हो रहा है। न केवल जिला प्रशासन इन नियमों की धज्जियां उड़ा रहा है, बल्कि काॅलोनियों में भी लोगों ने सड़क के दोनों तरफ लंबे रैंप बनाकर लोगों को सड़कों पर चलने को मजबूर कर दिया है। यह नजारा शहर के किसी भी मुख्य मार्ग और काॅलोनियों को जाने वाले रोड पर देखा जा सकता है। खुद प्रशासन ही सरकार के बनाए नियमों को तोड़ता हुआ नजर आता है।

किसी भी एजेंसी द्वारा जब भी मुख्य मार्गों का निर्माण किया जाता है तो रोड रूल के अनुसार सड़क से 2 से 3 मीटर के बीच फुटपाथ (पगडंडी) के लिए जगह छोड़ी जाती है ताकि लोग पैदल चल सकें, लेकिन जींद शहर के अधिकतर मुख्य मार्गों के साथ फुटपाथ तो बना दिए गए हैं, लेकिन वह लोगों के लिए चलने लायक नहीं छोड़े गए हैं। शहर में अधिकतर जगहों पर फुटपाथ पर सरकारी या निजी संस्थाओं के बड़े-बड़े साइन बोर्ड लगा दिए गए हैं, जिस कारण आम व्यक्ति पैदल नहीं चल पाता। यहां तक की सरकारी विभागों के साइन बोर्ड भी फुटपाथ पर लगे हुए हैं। गोहाना रोड की बात करें तो लघु सचिवालय, जिला उपायुक्त, सीटीएम निवास, जजों, पूर्व केंद्रीय मंत्री बीरेंद्र सिंह, जाट धर्मशाला सहित पीडब्ल्यूडी और एनएचएआई द्वारा हाल ही में लगाए गए सैकड़ों साइन बोर्ड फुटपाथ पर लगे हुए हैं। जबकि नियमों के तहत ऐसा नहीं किया जा सकता। यही हाल सफीदों रोड के अलावा शहर के मुख्य मार्गों का हैं, जहां पर एनएचएआई ने गांवों व शहर के विभिन्न सार्वजनिक स्थलों के साइन बोर्ड फुटपाथ पर ही लगा दिए हैं। यही नहीं हाल ही में नगर परिषद ने भी रानी तालाब पर बने फुटपाथ पर स्ट्रीट लाइट के पोल जमीन में गाड़कर इसे गायब कर दिया है।

सड़क किनारे कब्जे : फुटपाथ की बजाय सड़कों पर चलने को मजबूर लोग

जींद. जाट धर्मशाला की तरफ जाने वाले रोड पर फुटपाथ पर बनाए गए लंबे रैंप।

एडवोकेट ने उप मुख्यमंत्री, केंद्रीय मंत्री को भेजी शिकायत

शहर में मुख्य मार्गों व काॅलोनियों में फुटपाथ पर किए गए कब्जे को लेकर एडवोकेट चांदराम ने उप मुख्यमंत्री एवं पीडब्ल्यूडी मंत्री दुष्यंत चौटाला, केंद्रीय परिवहन मंत्री नितिन गड़करी को ट्विट कर शिकायत की है। इस पर चांदराम से उसका मोबाइल नंबर मांगा गया है ताकि शिकायत पर आगामी कार्रवाई की जा सके। इसके अलावा चांदराम ने चक्की मोड़ पर लगे पार्षद के साइन बोर्ड को हटाने की मांग को लेकर नगर परिषद को शिकायत की है। शहर की कई काॅलोनियों में लोगों ने घरों के बाहर फुटपाथ पर रैंप बना दिए हैं और रैंप के दोनों तरफ बड़े-बड़े पत्थर रख डाले हैं।

जींद. गोहाना रोड पर लगा लघु सचिवालय का साइन बोर्ड।


काॅलोनियों में पार्क बनाकर किए कब्जे

शहर की काॅलोनियों को जाने वाले मुख्य मार्गों पर भी फुटपाथ बिल्कुल गायब हो चुके हैं। अर्बन एस्टेट, हाउसिंग बोर्ड, डिफेंस काॅलोनी, स्कीम नंबर-5, 6, गांधी नगर, कौशिक नगर सहित अन्य ऐसी प्रमुख काॅलोनियां हैं, जहां पर लोगों ने फुटपाथ पर कब्जा करके वहां अपने घरों के बाहर रैंप बना दिए हैं। कई लोगों ने तो इतना कब्जा कर लिया है कि मुख्य मार्ग पर ही घर के बाहर पार्क बना दिए हैं। इसके चलते लोगों को पैदल चलने में परेशानी होती है।

मामला संज्ञान में नहीं, ऐसा है तो हटवाएंगे कब्जे


Jind News - haryana news ramps built in colonies sign boards of councilors including dc along the road
X
Jind News - haryana news ramps built in colonies sign boards of councilors including dc along the road
Jind News - haryana news ramps built in colonies sign boards of councilors including dc along the road
COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना