• Hindi News
  • Rajya
  • Haryana
  • Jind
  • Jind News haryana news rohtak road road not built even after 7 months of tendering breaks by waterlogging even after 61 years no solution

रोहतक रोड : टेंडर होने के 7 माह बाद भी नहीं बनी सड़क, जलभराव से टूट जाती है, 61 साल बाद भी समाधान नहीं

Jind News - शहर का रोहतक रोड सबसे पुराना व मुख्य मार्ग है। 7 माह पहले पीडब्ल्यूडी ने इसके (अनूपगढ़ बाईपास से लेकर देवीलाल चौक...

Bhaskar News Network

Sep 14, 2019, 08:03 AM IST
Jind News - haryana news rohtak road road not built even after 7 months of tendering breaks by waterlogging even after 61 years no solution
शहर का रोहतक रोड सबसे पुराना व मुख्य मार्ग है। 7 माह पहले पीडब्ल्यूडी ने इसके (अनूपगढ़ बाईपास से लेकर देवीलाल चौक होते नरवाना रोड बाईपास तक) पुर्ननिर्माण के लिए टेंडर छोड़ा था। इसके बाद भी इस सड़क का पुनर्निर्माण कार्य शुरू नहीं हो पाया। लंबे समय से खस्ताहाल इस सड़क के निर्माण के लिए दुकानदारों ने तरह-तरह के तरीके अपना कर विरोध जताया। जींद उपचुनाव के बहिष्कार करने तक की चेतावनी दी गई। लेकिन इसके बाद भी यह सड़क नहीं बन पाई। खस्ताहाल इस सड़क का खामियाजा रोजाना इस मार्ग से गुजरने वाले हजारों वाहन चालकों को भुगतना पड़ रहा है। लंबे-चौड़े व गहरे गड्डे, उड़ती धूल से वाहन चालक को तो दिक्कत होती ही है यहां कारोबार करने वाले दुकानदार की भी परेशानी कम नही है।

शहर का रोहतक रोड अधिकतर समय खस्ताहाल ही रहता है। समय-समय पर पैचवर्क व पुर्ननिर्माण भी हुआ है। लेकिन यह पैचवर्क किसी काम नहीं आता। कुछ दिनों बाद ही सड़क की हालत पहले से खस्ताहाल हो जाती है। इसका कारण सड़क पर सीवरेज से लेकर बारिश के मौसम में जलभराव होना है। यह सड़क चाहे एनएचएआई के अधीन रही हो या फिर पीडब्ल्यूडी के पास। किसी ने भी सड़क पर जलभराव न हो। इसके लिए कोई योजना तैयार नहीं की। हर साल सड़क टूटती रही। कभी पैचवर्क किया गया तो कभी बीसी लेयर डाली गई। लेकिन ड्रेनेज की तरफ किसी ने भी ध्यान नहीं दिया।

लंबे समय से खस्ताहाल सड़क के निर्माण के लिए दुकानदार भी कई बार िवरोध जता चुके लेकिन नहीं हुआ समाधान

फरवरी में हुआ था 7.74 करोड़ रुपए का टेंडर

शहर के रोहतक रोड यानि अनूपगढ़ गांव से लेकर देवीलाल चौक, टेनरी मोड़, पटियाला चौक होते हुए नरवाना रोड बाईपास तक 14.200 किलोमीटर लंबी इस सड़क के पुर्ननिर्माण का टेंडर पीडब्ल्यूडी द्वारा फरवरी माह में छोड़ा गया था। यमुनानगर की भारत कंस्ट्रक्शन कंपनी ने इसे 7.74 करोड़ में लिया था। लेकिन कंस्ट्रक्शन कंपनी ने अभी तक इस पर काम शुरू नहीं किया। पीडब्ल्यूडी काम शुरू न होने की वजह नगरपरिषद द्वारा अमरुत योजना के तहत पाइप लाइन दबाने को बता रहा है।

1958 में बना रोहतक रोड

शहर के रोहतक रोड का निर्माण वर्ष 1957-58 में हुआ था। इससे पहले यह कच्चा रास्ता था। निर्माण के बाद से यह सड़क कभी पीडब्ल्यूडी तो कभी एनएच व एनएचएआई के अधीन रही। पिछले वर्ष तक यह एनएचएआई के अधीन था। लेकिन इसके बाद अनूपगढ़ से लेकर नरवाना रोड बाईपास तक पीडब्ल्यूडी को सौंप दिया गया।

ये तस्वीर भी देखिए
1

इधर, मिनी बाईपास पर शुरू हुआ पैचवर्क

इधर, मिनी बाईपास पर शुरू हुआ पैचवर्क

पिछले 3 दिनों से शहर की सड़कों दुर्दशा पर दैनिक भास्कर द्वारा चलाए जा रहे अभियान का अब असर भी दिखाई देने लगा है। शुक्रवार को पीडब्ल्यूडी कर्मियों ने खस्ताहाल मिनी बाईपास पर पैचवर्क शुरू कर दिया। लेकिन सड़क की हालत ज्यादा खस्ताहाल होने के कारण पैचवर्क से काम नहीं चल पाएगा।

पिछले 3 दिनों से शहर की सड़कों दुर्दशा पर दैनिक भास्कर द्वारा चलाए जा रहे अभियान का अब असर भी दिखाई देने लगा है। शुक्रवार को पीडब्ल्यूडी कर्मियों ने खस्ताहाल मिनी बाईपास पर पैचवर्क शुरू कर दिया। लेकिन सड़क की हालत ज्यादा खस्ताहाल होने के कारण पैचवर्क से काम नहीं चल पाएगा।

दुकानदारों से जानिए...खस्ताहाल रोड के कारण किस तरह की हो रही है परेशानी

सड़क पर जगह-जगह बने हैं गहरे गड्ढे


2

सड़क निर्माण के लिए कई बार जताया विरोध



सड़क पर जलभराव होना मुख्य समस्या


जल्द शुरू हो जाएगा निर्माण




व्यथा

मैं रोहतक रोड...

मेरा जन्म 61 साल पहले 1958 में हुआ। शहर के वाहनों का बोझा ढोते-ढोते मेरी उम्र रिटायरमेंट की सीमा पार कर चुकी है। हालात ये हैं कि उम्र के इस पड़ाव पर आने के बाद अब और बोझा ढोने की हिम्मत अब मुझमें नहीं है। बावजूद इसके मेरे पिता पीडब्ल्यूडी विभाग मुझे भार मुक्त करने की बजाए बेजान हो चुके मेरे शरीर के चीथड़े-चीथड़े होते हुए देखना चाहते हैं। मुझमें अब इतनी भी हिम्मत नहीं है कि किसी वाहन को चार कदम चलने की इजाजत दे सकूं। रही सही कसर में मेरे चाचा पब्लिक हेल्थ के बच्चे सीवरों ने मेरी हालत खराब कर दी है। चचेरे भाई सीवरों की तबीयत हमेशा खराब रहती है और वे अक्सर ओवरफ्लो होकर मुझ पर ही उल्टियां करने लगते हैं ऐसे में मैं अपने पिता पीडब्ल्यूडी विभाग को यहीं कहना चाहूंगा कि मुझे अब रिटायर करें और मेरे स्थान पर मेरे बेटे फोर लेन रोड को तैयार कर उसे काम पर लगाए।

-लंबे समय तक सेवा करने वाला आपका रोता-बिलखता....रोहतक रोड

Jind News - haryana news rohtak road road not built even after 7 months of tendering breaks by waterlogging even after 61 years no solution
Jind News - haryana news rohtak road road not built even after 7 months of tendering breaks by waterlogging even after 61 years no solution
Jind News - haryana news rohtak road road not built even after 7 months of tendering breaks by waterlogging even after 61 years no solution
Jind News - haryana news rohtak road road not built even after 7 months of tendering breaks by waterlogging even after 61 years no solution
Jind News - haryana news rohtak road road not built even after 7 months of tendering breaks by waterlogging even after 61 years no solution
X
Jind News - haryana news rohtak road road not built even after 7 months of tendering breaks by waterlogging even after 61 years no solution
Jind News - haryana news rohtak road road not built even after 7 months of tendering breaks by waterlogging even after 61 years no solution
Jind News - haryana news rohtak road road not built even after 7 months of tendering breaks by waterlogging even after 61 years no solution
Jind News - haryana news rohtak road road not built even after 7 months of tendering breaks by waterlogging even after 61 years no solution
Jind News - haryana news rohtak road road not built even after 7 months of tendering breaks by waterlogging even after 61 years no solution
Jind News - haryana news rohtak road road not built even after 7 months of tendering breaks by waterlogging even after 61 years no solution
COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना