पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

आज अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस पर विशेष

एक वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक

सुबाना गांव निवासी सुनीता मल्हान महर्षि दयानंद यूनिवर्सिटी में चीफ वार्डन के तौर पर नियुक्त हैं। शादी के 4 महीने बाद एक ट्रेन हादसे में दोनों हाथ कट गए और पति ने उनका साथ छोड़ दिया। लेकिन सुनीता ने हार नहीं मानी।

यहां तक कि रोहतक पीजीआई में इलाज के दौरान भी पति और उनके परिजन लेने नहीं आए। सुनीता को अब इस बात का गम नहीं है। उनकी जिंदगी की नई शुरुआत तो 1987 में दोनों हाथ कटने के बाद ही हुई।

खबरें और भी हैं...