• Hindi News
  • Haryana
  • Bhiwani
  • Bhiwani News haryana news the committee member said cooperation officers do not even know and hear the minister made a ruckus by introducing himself in the meeting

समिति सदस्य बोले- सहयोग तो दूर अफसर जानते-सुनते तक नहीं, मंत्री ने बैठक में ही परिचय करवाकर शांत कराया हंगामा

Bhiwani News - पंचायत भवन में शनिवार को जिला लोक सम्पर्क एवं कष्ट निवारण समिति की मासिक बैठक हंगामेदार रही। मीटिंग शुरू होते ही...

Feb 23, 2020, 07:31 AM IST
Bhiwani News - haryana news the committee member said cooperation officers do not even know and hear the minister made a ruckus by introducing himself in the meeting

पंचायत भवन में शनिवार को जिला लोक सम्पर्क एवं कष्ट निवारण समिति की मासिक बैठक हंगामेदार रही। मीटिंग शुरू होते ही कष्ट निवारण समित के सदस्यों ने किसी भी मीटिंग में उनके परिवादों को न सुनने व लोगों की समस्या के समाधान में अधिकारियों का सहयोग न मिलने पर बैठक के अध्यक्ष एवं पुरातत्व एवं संग्रहालय तथा श्रम एवं रोजगार मंत्री अनूप धानक से शिकायत की। मंत्री ने कहा उनके पास जो परिवाद हैं क्या ये परिवाद न सुनकर तुम्हारे सुने जाएं। इस पर समिति सदस्य भड़क गए और कहा कि वे ये नहीं कहते कि परिवाद मत सुनो, लेकिन उनकी भी सुनो। मीटिंग में उन्हें बुलाया तो जाता है, लेकिन केवल कार्रवाई देखने के लिए। उन्होंने कहा कि सहयोग तो दूर अफसर उन्हें जानते-सुनते तक नहीं। अगर उनकी सुननी ही नहीं तो फिर सरकार ने उन्हें समिति सदस्य किस लिए बनाया था। इस पर मंत्री ने कहा कि परिवाद सुनने के बाद वह सभी की समस्या सुनेंगे। उन्होंने ने बैठक में ही समिति सदस्यों को अधिकारियों से परिचय करवाया, जिसके बाद मामला शांत हुआ और बैठक की कार्रवाई शुरू हुई। बैठक में 12 परिवाद रखे गए थे, जिनमें से नौ परिवादों का मौके पर निपटान किया गया।

परिवाद सुनने के दौरान बिजली निगम की खुद की गलती के बावजूद उपभोक्ता से अधिक बिल वसूलने पर एक महिला ने अधिकारियों को खरी खोटी सुनाई। मीटिंग में शिकायतकर्ताओं ने पुलिस व जनस्वास्थ्य विभाग से संबंधित शिकायतें भी की और संबंधित विभागों के अधिकारियों पर कार्य में लापरवाही के आरोप लगाए। मंत्री ने लोगों की समस्याओं के समाधान के लिए संबंधित विभागों के अधिकारियों की जिम्मेदारी लगाई और अगली मीटिंग में रिपोर्ट देने के आदेश दिए। बैठक में विधायक घनश्याम दास सर्राफ, बवानीखेड़ा से विधायक बिशंभर वाल्मीकि, डीसी अजय कुमार, नप चेयरमैन रणसिंह यादव, भाजपा जिला प्रधान नंदराम धानिया, जजपा जिला प्रधान विजय गोठड़ा, एडीसी डॉ. मनोज कुमार, दादरी पुलिस अधीक्षक अशोक राणा व एसडीएम महेश कुमार मौजूद थे।

जानें... किस परिवाद का क्या हुआ सामाधान

1. हालु मोहल्ला निवासी रवि ने शिकायत रखी कि 3 मई 2019 को आशु उसके बेटे गुड्डू को घर से बुलाकर ले गया था लेकिन संदिग्ध हालात में उसके बेटे की मौत हो गई। पुलिस ने बताया कि नौरंगाबाद के पास सड़क हादसे में लगी चोट से मौत हुई है। पुलिस ने मामले की सही जांच नहीं की उसने आरोपियों के खिलाफ कार्रवाई की मांग की। मौके पर मौजूद डीएसपी ने मंत्री को मामले से अवगत करवाया और कहा कि सड़क दुर्घटना में युवक की मौत हुई है और युवक स्मैक के नशे में था जिसकी पुष्टि पोस्टमार्टम रिपोर्ट में हुई है। मंत्री परिवाद सुनने के बाद एसआईटी का गठन कर मामले की जांच कराने के आदेश दिए।

2. तुलसी विहार आजाद नगर हिसार निवासी सत्यपाल ने बताया कि गांव रतेरा में उसकी 52 कनाल जमीन है और देखभाल के लिए सुभाष को दी थी लेकिन पिछले साल हिसाब किताब नहीं दिया था। इस पर उसका समझाैता हो गया लेकिन अब आरोपी किसी भी व्यक्ति को उसकी जमीन पर बिजाई करने नहीं दे रहा हैं। मंत्री ने इस संबंध में पुलिस को शिकायत देने व पुलिस को शिकायत मिलने पर कार्रवाई करने के आदेश दिए है।

3. जितेंद्र, प्रदीप व अन्य शास्त्री नगर निवासियों ने जन सेवा स्कूल के पीछे वाली गली में पेयजल लाइन न डालने की शिकायत की। इस पर निगम अधिकारी ने कहा कि जहां तक गली है वहां तक लाइन डाली हुई है।

4. गांव सैय निवासी राजबीर कौशिक ने शिकायत दी कि उसके घर पर सौर ऊर्जा प्लेट लगी है, लेकिन निगम ने बिजली चोरी का मामला बना दिया है और 19 हजार 820 रुपये जुर्माना लगा दिया है। डेढ़ साल से वह शिकायत लेकर अधिकारियों के चक्कर लगा रहा है समाधान नहीं हुआ। मंत्री ने एसआईटी गठित कर जांच के आदेश दिए।

6. बडाला निवासी दीपक की गली निर्माण करवाने की शिकायत पर जिला विकास एवं पंचायत अधिकारी ने कहा कि गली का निर्माण करवाया दिया है।

7. घुसकानी निवासी राममेहर ने अपने बेटे के 134ए के तहत स्कूल में दाखिल से संबंधित शिकायत रखी थी। जिस पर शिक्षा अधिकारी ने कहा समस्या का समाधान हो गया है और मौके पर मौजूद राममेहर अधिकारियों के समाधान से संतुष्ट नजर आए।

8. बलियाली निवासी टेकचंद ने मजदूरी की राशि न देने की शिकायत दी थी। जिस पर पुलिस अधिकारी ने कहा कि मामले का समाधान हो चुका है।

9. गोविंदराम की शिकायत थी कि उसके बैंक खाते से 65 हजार रुपये निकाले गए हैं। इस पर डीएसपी ने बताया कि शिकायतकर्ता को बैंक ने उसकी राशि दे दी है। पुलिस ने मामला दर्ज कर लिया है। शिकायतकर्ता कार्रवाई से संतुष्ट नजर आए।

10. रैनकपुरा माता दरवाजा निवासी अनीता ने शिकायत दी कि उसका पिता नप में दूरभाष आगंतुक के पद पर नाैकरी करता था। जिनका वर्ष 2015 में निधन हो गया था, लेकिन मेडिकल बिल अब तक पास नहीं हुए। नप अधिकारी ने कहा कि अस्पताल से असेंशियल सर्टिफिकेट लेकर आएं राशि पास हो जाएगी। महिला ने सोमवार को सर्टिफिकेट देने की बात कही।

11. आधार कार्ड, पहचान पत्र समेत अपने प्रमाण पत्रों में सही नाम दर्ज करवाने की चंदावास निवासी महिपाल की शिकायत पर अधिकारी ने कहा कि सरल पोर्टल पर रजिस्ट्रेशन करवाए उसके बाद ही कार्य होगा। इस पर मंत्री ने कहा कि कष्ट निवारण समिति के सदस्य कार्य करवाने में सहयोग करे।

12. सिंचाई विभाग के सेवानिवृत्त कर्मचारी जीतराम ने कहा कि उसका ऑपरेशन हुआ था लेकिन विभाग ने मेडिकल क्लेम राशि नहीं दी। इस पर अधिकारी ने कहा कि जिस प्राइवेट अस्पताल में जीतराम ने ऑपरेशन करवाया है वह विभाग के पैनल पर नहीं है। नियमानुसार जो राशि बनती थी वह उपलब्ध करवा दी गई है। मंत्री ने कहा अगर पैनल में अस्पताल नहीं है तो राशि कैसे मिल सकती है।

गलत तरीके से वसूला बिजली बिल रिफंड करने के दिए आदेश

{महिला : बैंक कालोनी निवासी महिला लक्ष्मी देवी ने बताया कि वर्ष 2018 में निगम ने 341 रुपये 53 पैसे का बिल भेजा। महिला ने यह राशि निगम में जमा करवाई। इसके बाद निगम ने 22352 रुपये का बिल भेजा, जबकि महिला घर पर अकेली रहती है और घरेलू कनेक्शन है। इसके बाद निगम ने 38067 रुपये का बिल भेजा। महिला ने बताया कि उसने बिल राशि दुरुस्त करवाने के लिए निगम दफ्तर के 60 से अधिक चक्कर लगाए। महिला ने मामले की शिकायत सीएम तक भेजी तो कर्मचारियों ने घर आकर कहा कि कहीं भी शिकायत कर ले राशि भरनी पड़ेगी। डीसी को भी शिकायत दी, लेकिन निगम अधिकारियों ने कहा कि बिल जमा करवाना ही होगा नहीं तो मीटर उखाड़ लेंगे। महिला ने आखिर में 38067 रुपये जमा करवा दिए।

{ये जवाब दिया अधिकारी ने : निगम के अधिकारी मंत्री के सामने निगम की गलती मानते हुए कहा कि महिला के घर का बिजली मीटर बंद था और निगम एवरेज बेस पर बिल भेजता था। महिला को 507 दिनों का बिल 38067 रुपये का बिल भेजा गया है। डाटा ऑपरेटर की गलती से बिल एजेंसी के पास महिला का मीटर नंबर नहीं पहुंचा था। मीटर नंबर कंप्यूटर में दर्ज न होने से 38 हजार से ज्यादा राशि का बिल बन गया।

{महिला ने ये कहा : महिला ने कहा निगम की गलती का खामियाजा उपभोक्ता को भुगतना पड़ रहा है।

{मंत्री ने ये दिए आदेश : मंत्री ने निगम के एसई को मामले की जांच करने व महिला की बिल राशि रिफंड करने व आरोपी कर्मचारी पर कार्रवाई कर रिपोर्ट अगली बैठक में देने के भी आदेश दिए।

मंत्री ने रोड, बिजली, पानी, सीवर से संबंधित शिकायतें भी सुनीं

बैठक में रखे गए परिवादों के अलावा श्रम एवं रोजगार मंत्री ने बिजली, पानी, सीवरेज, बैंकों से संबंधित समस्याएं सुनी। इनमें सेक्टर 23 रेजीडेंट वेलफेयर एसोसिएशन के प्रधान महेंद्र सिंह श्योराण ने मंत्री के सामने बताया कि शहीद भगत सिंह चौक से सिटी स्टेशन को जाने वाले मार्ग के नव निर्माण करवाए जाए। विधायक घनश्याम दास सर्राफ ने प्रधान की मांग का समर्थन करते हुए रोड के नव निर्माण की मांग रखी। कीर्ति नगर की महिलाओं ने गलियों में गंदा पानी जमा होने व घरों में दूषित पेयजल सप्लाई की समस्या रखी। जिस पर मंत्री ने संबंधित अधिकारियों को अतिशीघ्र समाधान करने के निर्देश दिए। उन्होंने मजदूरों की समस्या सुनी और श्रम विभाग के अधिकारियों को निर्देश दिए कि मजदूरों को पंजीकरण में किसी भी प्रकार की समस्या नहीं जाने चाहिए।

डेढ़ घंटे की मीटिंग में 30
मिनट तक चला हंगामा


जिला लोक सम्पर्क एवं कष्ट निवारण समिति की मासिक बैठक की अध्यक्षता करते हुए पुरातत्व एवं संग्रहालय तथा श्रम एवं रोजगार मंत्री अनूप धानक साढ़े 11 बजे मीटिंग में पहुंचे और मीटिंग में रखे 12 परिवादों को दोपहर एक बजे तक सुना। डेढ़ घंटे चली मीटिंग में लगभग 30 मिनट तक हंगामे की स्थिति बनी रही। मीटिंग के आरंभ में ही कष्ट निवारण समिति ने हर बार मीटिंग में उनकी समस्या न सुनने पर हंगामा किया। इससे लगभग 20 मिनट तक मीटिंग में परिवादों की सुनवाई शुरू नहीं हो पाई थी। इसके बाद परिवाद सुनते समय भी लगभग 10 मिनट तक हंगामा रहा। मीटिंग के आखिर में 15 मिनट परिवादों के अलावा मीटिंग में शिकायत लेकर आए लोगों की सीवर, दूषित पानी, रोड आदि से संबंधित शिकायते सुनी। मंत्री ने लगभग 50 मिनट में 12 परिवादों को सुना और नौ का समाधान किया।

कष्ट निवारण समिति सदस्यों ने गिनवाईं ये समस्याएं

कष्ट निवारण समिति सदस्य सुनील वर्मा नंबरदार ने शहर में बंदरों के आतंक से मुक्ति दिलवाने, सिविल अस्पताल में चिकित्सकों की कमी को पूरा करवाने, सफाई व्यवस्था को दुरुस्त करवाने, कमलेश भोड़का ने लोहारू में फायर स्टेशन स्थापित करवाने, दमकौरा की चंकबंदी, रामकिशन हालुवास ने जलघर का निर्माण करवाने, विजय शेखावत ने लोहारू में दो बजे के बाद बनी बसों की समस्या को दूर करने, रविंद्र बापोड़ा ने फसल बीमा योजना में बैंक की लचर प्रणाली और महिला जिला प्रधान बबीता तंवर ने ढाणा लाडनपुर व ढाणा नरसान के बीच बने एक प्लांट से प्रदूषण होने की समस्या रखी। मंत्री ने आश्वासन दिया कि समस्याओं प्राथमिकता से समाधान करवाया जाएगा। इस संबंध में उन्होंने मौके पर मौजूद डीसी अजय कुमार को आवश्यक निर्देश दिए।

कष्ट निवारण समिति की बैठक में परिवाद सुनते पुरातत्व एवं संग्रहालय तथा श्रम एवं रोजगार मंत्री अनूप धानक व अपनी बात रखते कष्ट निवारण समिति सदस्य।

Bhiwani News - haryana news the committee member said cooperation officers do not even know and hear the minister made a ruckus by introducing himself in the meeting
X
Bhiwani News - haryana news the committee member said cooperation officers do not even know and hear the minister made a ruckus by introducing himself in the meeting
Bhiwani News - haryana news the committee member said cooperation officers do not even know and hear the minister made a ruckus by introducing himself in the meeting

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना