• Hindi News
  • Harayana
  • Yamunanagar
  • Bilaspur News haryana news the corporation officers were put on the rules and revealed in the investigation of the committee formed on the orders of the promotion high court

निगम अधिकारियों को नियमों को ताक पर रख कर दी प्रमोशन हाईकोर्ट के आदेश पर बनाई कमेटी की जांच में हुआ खुलासा

Yamunanagar News - नगर निगम के अधिकारियों की प्रमोशन लिए नियम ताक पर रख दिए गए। हाईकोर्ट के आदेश पर प्रमोशन विवाद निपटाने के लिए...

Jan 16, 2020, 07:21 AM IST
Bilaspur News - haryana news the corporation officers were put on the rules and revealed in the investigation of the committee formed on the orders of the promotion high court
नगर निगम के अधिकारियों की प्रमोशन लिए नियम ताक पर रख दिए गए। हाईकोर्ट के आदेश पर प्रमोशन विवाद निपटाने के लिए अर्बन लोकल बॉडी डिपार्टमेंट के प्रिंसिपल सेक्रेटरी वी उमाशंकर और सुपरिंटेंडेंट कमेटी-वन की रिपोर्ट में इसका खुलासा हुआ है। जिनके खिलाफ याचिका थी उसमें से एक अधिकारी के पास उस समय वह डिग्री नहीं थी, जिस पर प्रमोशन दी गई। इसके साथ ही एक डिप्लोमा इंजीनियरिंग किए कर्मचारी को एक्सईएन बनाने का मामला भी इसमें खुला। इसके साथ ही जिला यमुनानगर, फरीदाबाद और एक अन्य निगम में तैनात एक्सईएन को एसडीओ से प्रमोशन दी गई है उनकी एजुकेशन डिग्री एएमआईसीई लुधियाना से है। 20 जुलाई 2018 को डायरेक्टर जनरल टेक्निकल एजुकेशन की अध्यक्षता में हुई इक्वीलेंसी कमेटी की मीटिंग में इस डिग्री को एक्सईएन की प्रमोशन के लिए मान्य नहीं माना। इसके बाद भी इनकी एसई की प्रमोशन के लिए फाइल भेज दी गई। जबकि उनकी एक्सईएन के लिए भी प्रमोशन गलत मानी गई। इन तीन अधिकारियों में यमुनानगर नगर निगम से आनंद स्वरूप, फरीदाबाद से दीपक किंगर और धर्म सिंह हैं शामिल हैं। अभी सरकार की तरफ से उनकी पिछली प्रमोशन और आगे प्रमोशन को लेकर गई फाइल पर कोई कार्रवाई नहीं हुई है। इस मामले में यमुनानगर-जगाधरी नगर निगम के कमिश्नर श्याम लाल पूनिया का कहना है कि इस तरह का मामला उनके नोटिस में नहीं आया है।

इसमें बड़ा भ्रष्टाचार हुआ है, मैंने कई शिकायतें दी हैं: यमुनानगर आजाद नगर निवासी सोमप्रकाश ने बताया कि यमुनानगर एक्सईएन समेत प्रदेश में तीन निगम के अधिकारियों की प्रमोशन नियमों को ताक पर रखकर दी गई। इसको लेकर उन्होंने कई शिकायतें दी, लेकिन इन शिकायतें पर कार्रवाई नहीं की गई। उनका कहना है कि जिस डिग्री को प्रमोशन के लिए मान्य न होने की बात कही गई है, उसी पर एसडीओ से एक्सईएन बनाया गया। इस तरह से वह भी गलत है। वे इसी बात की लड़ाई लड़ रहे हैं कि यह सब गलत हुआ है। इन अधिकारियों की प्रमोशन वापस ली जाए और जो भी उन्हें वेतन या अन्य भत्तों के माध्यम से फायदा दिया गया है उसे भी वसूला जाए।

पांच अधिकारियों से जुड़ा मामला
हाईकोर्ट में गए थे जूनियर को प्रमोशन देने पर

नगर निगम में प्रमोशन को लेकर अधिकारी दो ग्रुपों में बंट गए थे। दीपक किंगर, धर्म सिंह और आनंद स्वरूप साल 2018 में हाईकोर्ट गए थे कि उनके जूनियरों को उनसे पहले प्रमोशन दे दी गई। जबकि उनके पास एजुकेशन डिग्री है। बावजूद इसके उन्हें प्रमोशन नहीं दी गई। इस पर हाईकोर्ट ने अक्टूबर 2019 को इस मामले में प्रमुख सचिव को निर्देश दिए कि इस मामले को एक माह में निपटाया जाए। प्रमुख सचिव ने दोनों पक्षों को सुनने के बाद पाया कि दीपक किंगर, धर्म सिंह और आनंद स्वरूप के पास उस समय वांछित डिग्री नहीं थी, जोकि प्रमोशन के लिए चाहिए थी। इसके साथ ही जिन अधिकारियों को गलत प्रमोशन देने की याचिका थी, उसमें से भी दो की प्रमोशन को गलत माना। इस तरह से प्रमोशन में नियमों को ताक पर रखा गया है।

X
Bilaspur News - haryana news the corporation officers were put on the rules and revealed in the investigation of the committee formed on the orders of the promotion high court
COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना