बदलता खान-पान बन रहा बीमारियाें का कारण: प्रो. संजीव

Sirsa News - शहर के वरिष्ठ चिकित्सक डाॅ. संजीव कौशल ने कहा कि वर्तमान दौर में बदलते खान-पान की वजह से हम अनेकानेक बीमारियों जैसे...

Bhaskar News Network

Sep 14, 2019, 09:01 AM IST
Sirsa News - haryana news the reason for the changing food habits prof sanjeev
शहर के वरिष्ठ चिकित्सक डाॅ. संजीव कौशल ने कहा कि वर्तमान दौर में बदलते खान-पान की वजह से हम अनेकानेक बीमारियों जैसे कि हार्मोनल प्रॉब्लम, पीसीओडी, लीवर, थाईरायड, शूगर, गुर्दे व फेफडे की बीमारियां, मानसिक अवसाद, याददाश्त का कमजोर होना, ऑस्टियोपोरोसिस (हड्डियों का खोखला होना), स्त्रियों में माहवारी के रोग, हाई ब्लडप्रेशर इत्यादि से ग्रस्त हो रहे है। इसलिए हमें इस संदर्भ में स्वयं को बदलना होगा, तभी हम एक स्वस्थ जीवन यापन कर सकते है।

सर्वपल्ली राधाकृष्णन भारत र| अवार्ड से अलंकृत प्रोफेसर डॉ. संजीव कौशल ने बताया कि हम चकाचौंध को देखते हुए किचन में नॉन स्टिक बर्तनों का प्रयोग कर रहे है जोकि हमारे लिए सबसे ज्यादा खतरनाक है। इन बर्तनों पर लगी टफ्लोन की परत की वजह से इन बर्तनों में पकने वाले खाने में कई प्रकार के घातक कैमिकल शामिल हो जाते है जो हमारे स्वास्थ्य को नुकसान पहुंचाते है। इसके अतिरिक्त एल्यूमीनियम बर्तनों में खाना पकाना व एल्यूमीनियम के फाइल में खाना पैक करना भी हमारे लिए अत्यंत घातक है। डॉ. कौशल ने कहा कि देश की आजादी से पूर्व अंग्रेजों के शासनकाल में कैदियों को एल्यूमीनियम बर्तनों में खाना परोसा जाता था, ताकि कैदी अनेकों बीमारियों से ग्रस्त हो जाए। इसी को आज हमने अपना लिया है जोकि गलत है। इसलिए एल्यूमीनियम बर्तनों व फाइल का प्रयोग कतई न करें। उन्होंने कहा कि प्लास्टिक बॉक्स व प्लॉस्टिक बोतल का प्रयोग भी हमारे स्वास्थ्य के लिए उचित नहीं है, क्योंकि इससे घातक प्लास्टिक हमारे भोजन व पानी में मिक्स हो जाता है।

X
Sirsa News - haryana news the reason for the changing food habits prof sanjeev
COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना