योग के प्रति महज दिखाने भर तक ही सीमित है शासन-प्रशासन की गंभीरता

Sonipat News - योग को लेकर शासन-प्रशासन की गंभीरता क्या महज दिखाने भर को है, यह सवाल आज जिला से लेकर अंतरराष्ट्रीय स्तर तक देश का...

Bhaskar News Network

Sep 14, 2019, 09:02 AM IST
Sonipat News - haryana news the solemnity of governance is limited to just showing yoga
योग को लेकर शासन-प्रशासन की गंभीरता क्या महज दिखाने भर को है, यह सवाल आज जिला से लेकर अंतरराष्ट्रीय स्तर तक देश का नाम रोशन कर चुके खिलाड़ियों की जुबां पर हैं। अपने सवाल को योग खिलाड़ी इस तर्क के साथ आगे बढ़ाते हैं कि शासन-प्रशासन महज एक दिन के योग दिवस पर लाखों रुपए खर्च करता है, लेकिन उन सैकड़ों-हजारों खिलाड़ियों के लिए आज भी दशकों पुराना ही बजट तथा रोजगार के नाम पर सिर्फ आश्वासन ही है। खिलाड़ी अपनी हाल ए स्थिति को खुलकर स्पष्ट करते हुए कहते हैं कि जिला स्तर पर चैंपियन को आज भी महज चार सौ रुपए तथा राज्य स्तर के विजेता के महज पांच सौ रुपए मिलते हैं, इससे बड़ी निराशा तब होती है जब इन मेडल की खेल विभाग में ग्रेडिंग तक नहीं होती जबकि यह आयोजन खुद खेल विभाग ही करवाता है।

बिना ग्रेडिंग के न तो पुरस्कार राशि ना ही नौकरी: खिलाड़ियों की सबसे बड़ी चिंता ग्रेडिंग को लेकर है, क्योंकि एक तो योग को न तो एचओए और न ही आईओए ने शामिल किया है। जिससे खिलाड़ियों को पूरे साल प्रतियोगिता के नाम पर महज एक ही प्रतियोगिता मिलती है। खेल विभाग की ओर से ग्रेडिंग नहीं होने के कारण किसी खिलाड़ी को कोई पुरस्कार राशि तक नहीं मिलती और नौकरी के नाम पर खिलाड़ियों के हाथ खाली रहते हैं। जबकि खेल विभाग द्वारा अन्य खेलों को नेशनल में मेडल जीतने पर तीन लाख से लेकर एक लाख रुपए तक की पुरस्कार राशि के साथ ग्रेडिंग देती है जो उनके लिए उच्च शिक्षा से लेकर रोजगार में काम आती है। बताया गया है कि 1992 के बाद से जिला योग प्रशिक्षकों की भर्ती तक नहीं हो सकी है।

सोनीपत. योग प्रतियोगिता में प्रतिभा दिखाती छात्राएं।

ये खिलाड़ी प्रदेश का चमका चुके हैं नाम

राज्य से लेकर अंतरराष्ट्रीय स्तर पर जनकदराज, विकास, पवन, सुभाष, साेनू, मनिंदर, राहुल, मनु, कोमल, पिंकी, रीना, सचिन, अंकुर व कपिल सहित सैकड़ों ऐसे खिलाड़ी है जिन्होंने राज्य एवं राष्ट्रीय स्तर पर अनेक मेडल जीते हैं, लेकिन विभाग की ओर से अपेक्षित प्रोत्साहन नहीं नहीं मिल सका है।

खिलाड़ियों की व्यथा: उनकी जुबानी में



इनकी मांग जायज हैं


X
Sonipat News - haryana news the solemnity of governance is limited to just showing yoga
COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना