पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • National
  • Nising News Haryana News There Is No Other Book Like The Gita Ramlal Shastri

गीता के समान कोई दूसरा ग्रंथ नहीं है: रामलाल शास्त्री

एक वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक

गांव बहलोलपुर स्थित पराशर तीर्थ पर चल रही श्रीमद्भागवत गीता पाठ के पांचवें दिन सामूहिक अखंड पाठ और आरती पूजन से किया गया। वहीं शाम में गीता ज्ञान गोष्ठी का आयोजन किया गया। कथा वाचक रामलाल शास्त्री ने कहा कि इस पृथ्वी के समान अनेक पृथ्वी पर सूर्य के समान अनेक सूर्य संभव है, किंतु गीता के समान कोई दूसरा ग्रंथ नहीं हुआ है। उन्होंने कहा कि गीता अद्वितीय है, यह ईश्वरीय वाणी नहीं प्रत्युत साक्षात ईश्वर का स्वरूप है। गीता केवल हिंदुओं का शास्त्र नहीं, बल्कि समस्त मानव समुदाय का ग्रंथ है। मानव समुदाय अपनी मूढ़ मान्यता और पूर्वाग्रह काे त्याग कर गीता ज्ञान के शरण में जाए तो पंथवाद, अलगाववाद और वैमनस्य समाप्त हो जाएगा। उन्होंने कहा कि भारत ही नहीं संपूर्ण विश्व भी समता और बंधुता से परिपूर्ण हो जाएगा। गीता का अध्ययन प्रत्येक मनुष्य को करना चाहिए। गोपाल गोस्वामी ने कहा कि रविवार को गीता पाठ का समापन किया जाएगा। इस मौके पर कमेटी प्रधान भगवानदास अग्गी, बाबा प्रीतम गिरी, सुभाष जुंडला, सोहन सिंह, मनीष सिंगला, सोहन सिंह, जरनैल सिंह मौजूद रहे।

खबरें और भी हैं...