पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • National
  • Karnal News Haryana News There Is No Place To Keep Sporting Goods In The Center39s Store For 35 Years

35 साल से प्रदेश के सेंटर स्टोर में खेल सामान रखने को नहीं जगह

एक वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक

खेल मंत्री के कर्ण स्टेडियम में छापा मारने के बाद भी सेंटर स्टोर के सामान की हालत नहीं बदल पाई है। करनाल में पिछले 35 साल से खेल विभाग का सेंटर स्टोर चल रहा है, जहां खेल के सामान रखने की जगह नहीं है। सरकार का लाखों रुपए का सामान बाहर खुले में पड़े रहने से जंग लगाना शुरू हो गया है। जिला खेल विभाग स्टेडियम के अंदर बाहर छतों के नीचे सामान को रखकर बचाने की कोशिश कर रहे हैं। पिछले तीन सालों से जिले में चल रही खेल नर्सरियों के मैदानों में खेल विभाग की ओर से एक लाख रुपए की प्रति नर्सरी को नहीं मिल पाई है। खेल नर्सरियों के कोचों को अपने स्तर पर ही सामान को खरीदकर खिलाड़ियों की प्रैक्टिस करानी पड़ रही है। करनाल में सेंटर स्टोर के लिए एक भी गोदाम नहीं है, जिला खेल विभाग की ओर से निर्माणाधीन फेसिलिटी सेंटर से लेकर जिम्नास्टिक व रेसलिंग हॉल स्टेडियम की विभिन्न जगहों पर सामान रखा जा रहा है। पिछले चार सालों से खिलाड़ियों को फेसिलिटी सेंटर की सुविधा प्राप्त नहीं हो पाई है। खेल विभाग पिछले कई सालों से सेंटर स्टोर के गोदाम बनाने का निर्णय नहीं ले पाया है। फेसिलिटी सेंटर का प्रयोग इनडोर खेल की जगह पिछले एक साल से गोदाम के रुप में इस्तेमाल हो रहा है। खिलाड़ियों को अपने मैदान खेलने के ही नहीं मिल पा रहे है, क्योंकि योगा हाॅल के अंदर सामान रखवाया हुआ है। जिससे खिलाड़ियों को न तो मैदान और न ही सामान की सुविधा मिल रही है।

खेल नर्सरियों की डाइट का नहीं हुआ चयन

खेल मंत्री की ओर से 2019 दिसंबर में कुरुक्षेत्र बैठक में खेल नर्सरियों को डाइट मनी की जगह पोषण युक्त खाना देने की योजना बनाई गई थी। जो अभी तक पोषण युक्त खाने की लिस्ट का चयन नहीं हो पाया है। पिछले कई माह के खिलाड़ियों को नर्सरी की डाइट मनी दी जाना बाकी है। खेल नर्सरी के लिए खेल विभाग नई पॉलिसी तैयार कर रहा है। जिससे खेल नर्सरियों के खिलाड़ियों को दूसरी नर्सरियों के खिलाड़ियों के बीच प्रतियोगिता का आयोजन किया जाएगा। सभी खेल नर्सरियों से खिलाड़ियों की विजेता की सूची मांगी गई है। खिलाड़ी नर्सरी में होने के बाद कहां-कहां जीतकर आए है। जिसके बाद खेल विभाग खेल नर्सरियों को बंद करने की बड़ी कार्रवाई कर सकता है ।


सेंटर स्टोर के लिए कोई गोदाम नहीं है

सेंटर स्टोर के लिए कोई गोदाम नहीं है, सामान को कर्ण स्टेडियम में खाली छातों के बाहर रखना पड़ रहा है। खेल विभाग के निर्देशानुसार ही व स्टोर में सामान को पहुंचाया जाता है। सामान व रखरखाव को लेकर पैसे देने के लिए अभी तक कोई निर्देश नहीं दिए गए है।
सत्यनारयण, सुपरिंटेंडेंट, जिला खेल विभाग, करनाल।

करनाल. कर्ण स्टेडियम में खुले में बाहर पड़ा खेल का सामान।

करनाल. फेसिलटी सेंटर के इनडोर स्टेडियम में रखा सेंटर स्टोर का सामान।

पिछले तीन सालों से खेल नर्सरियों में खिलाड़ियों को नहीं मिला सामान, खिलाड़ियों की सुविधाओं के प्रति हो रह ी अनदेखी
खबरें और भी हैं...