• Hindi News
  • Tech auto
  • Airtel Recharge Plans; Know Why Vodafone Idea's Mobile Plans Will Be Expensive

सिर्फ 20 रुपए से बनेगी बात:28 दिन में एयरटेल 700 करोड़, तो Vi 540 करोड़ रुपए ज्यादा कमाएंगी; जानें प्लान महंगे करने की वजह

नई दिल्ली3 दिन पहलेलेखक: नरेंद्र जिझोतिया

किसी को तो हिम्मत दिखानी ही थी, सो पहला कदम एयरटेल ने बढ़ाया। पीछे-पीछे वीआई (वोडाफोन-आइडिया) भी आ गई। इन दोनों कंपनियों ने अपने प्रीपेड प्लान को महंगा कर दिया है। नई कीमतें भी लगभग एक जैसी रखी हैं। अब इन दोनों कंपनियों के ग्राहकों को रिचार्ज के लिए 25% तक ज्यादा पैसे चुकाने होंगे। आसान शब्दों में कहें तो सबसे सस्ते प्लान के लिए 20 रुपए और महंगे प्लान के लिए 500 रुपए ज्यादा खर्च करने होंगे।

दोनों कंपनियों ने एक दिन के अंतर पर नई कीमतों का ऐलान किया। वीआई की नई कीमतें 25 नवंबर से और एयरटेल की 26 नवंबर से लागू हो जाएंगी। देश में कुल 106 करोड़ 4G यूजर्स हैं। जिसमें से 62 करोड़ यूजर्स वीआई और एयरटेल के पास हैं। यानी देश के 58.5% यूजर्स नई कीमतों से प्रभावित होने वाले हैं।

भारतीय एयरटेल और वोडाफोन-आइडिया के ऊपर अरबों रुपए का कर्ज है। एयरटेल के पास 35 करोड़ और वीआई के पास 27 करोड़ यूजर्स हैं। यूजर्स का प्रतिशत बढ़ता और घटता रहता है। ऐसी स्थिति के बाद भी आखिर दोनों कंपनियों ने प्रीपेड प्लान महंगे क्यों किए? आखिरी अचानक से इसकी जरूरत क्यों पड़ी? कहीं दोनों कंपनियों को इस फैसले का नुकसान तो नहीं हो जाएगा? इन सभी बातों को जानते हैं...

सबसे पहले बात करते हैं कि आखिर वीआई और एयरटेल ने प्लान महंगे करने का फैसला क्यों लिया?

  • पहला कारण: भारतीय एयरटेल और वीआई इंडिया कर्ज में डूबी हुई हैं। एयरटेल पर मार्च 2021 तक 93.40 हजार करोड़ रुपए का कर्ज था। वहीं, वोडाफोन आइडिया पर जून तिमाही तक 1.90 लाख करोड़ रुपए का कर्ज था। इन कर्ज में एडजस्टेड ग्रॉस रेवेन्यू (AGR) समेत दूसरे कर्ज शामिल हैं। AGR मामले पर सुप्रीम कोर्ट ने सभी टेलीकॉम कंपनियों को बकाया चुकाने के लिए 10 साल का समय दिया है। एयरटेल ने अक्टूबर में राइट्स इश्यू के जरिए 21 हजार करोड़ रुपए जुटाए हैं। वहीं वोडाफोन पिछले साल से 20 हजार करोड़ रुपए जुटाने की योजना बना रही है, लेकिन अभी तक उसे इन्वेस्टर नहीं मिले है।
  • दूसरा कारण: टेलीकॉम कंपनियां एवरेज रेवेन्यू पर यूजर (ARPU) को बढ़ाना चाहती हैं। इस वजह से इन्हें तंगी से निपटने में मदद मिलेगी। वोडाफोन को तो बैंक भी लोन नहीं दे रहे हैं। प्रति ग्राहक कमाई में एयरटेल 155 रुपए के साथ सबसे आगे है। उसका लक्ष्य जनवरी तक इसे 180 रुपए तक करने का है। नए प्लान से एयरटेल की प्रति ग्राहक कमाई 165 रुपए हो जाएगी। यानी 35 करोड़ ग्राहकों से 10-10 रुपए एक्स्ट्रा मिलेंगे। इससे उसका रेवेन्यू बढ़ेगा। इसी तरह वीआई की प्रति ग्राहक कमाई 109 रुपए है। उसे भी सभी यूजर्स से 10-10 रुपए एक्स्ट्रा मिलेंगे।

कंपनियों के रेवेन्यू मॉडल पर क्या असर होगा?

पुराने टैरिफ प्लान की नई कीमतों से ये बात साफ है दोनों कंपनियों का एवरेज रेवेन्यू पर यूजर (ARPU) बढ़ जाएगा। यदि यूजर इन दोनों कंपनियों का सबसे सस्ता प्लान भी लेता है तब उसे 20 रुपए ज्यादा खर्च करने होंगे। यानी कंपनी को 20 रुपए का सीधा मुनाफा होगा। इसे एक उदाहरण से समझते हैं...

  • एयरटेल और वीआई का सबसे सस्ता प्लान 79 रुपए से बढ़कर 99 रुपए का हो गया है। इस प्लान पर ग्राहकों को 20 रुपए ज्यादा देने होंगे।
  • मान लिया जाए कि एयरटेल के 35 करोड़ ग्राहक 99 रुपए वाला प्लान लेते हैं, तब उसे 28 दिन में 700 करोड़ रुपए की एक्स्ट्रा इनकम होगी।
  • इसी तरह यदि वीआई के 27 करोड़ ग्राहक 99 रुपए वाला प्लान लेते हैं, तब उसे 28 दिन में 540 करोड़ रुपए की एक्स्ट्रा इनकम होगी।
  • यानी दोनों कंपनियों को इतना मुनाफा होना तय है, क्योंकि ये सबसे सस्ते प्लान हैं। कई यूजर्स हर महीने इससे भी महंगा प्लान लेते हैं।

कंपनियों का ARPU दुनियाभर में सबसे कम हमारे यहां: महेश उप्पल
टैरिफ प्लान महंगे करने पर टेलीकॉम मामलों के एक्सपर्ट और कॉमफर्स्ट के डायरेक्टर, महेश उप्पल ने कहा, "भारत में टेलीकॉम कंपनियों के सामने दो प्रॉब्लम हैं। पहली कंपनियां का एवरेज रेवेन्यू पर यूजर (ARPU) दुनियाभर में सबसे कम हमारे यहां है। कंपनियां चाहती हैं कि किसी तरह से ARPU में बढ़ोतरी हो। अब इसे बढ़ाने वाली कंपनी के सामने ये चैलेंज है कि यदि कॉम्पिटीटर ने दाम नहीं बढ़ाए, तो उसके बिजनेस पर असर पड़ेगा। दूसरी प्रॉब्लम है कि देश के लोगों के लिए दाम काफी मायने रखते हैं। कई ग्राहक टेलीकॉम का खर्च एक लेवल तक ही रखना चाहते हैं। जैसे, एयरटेल और वीआई ने दाम बढ़ा दिए, लेकिन जियो अपने प्लान महंगे नहीं करता है तब इसका नुकसान दोनों कंपनियों को हो सकता है। कंपनियों के लिए अच्छी बात ये है कि अब मार्केट में कॉम्पिटिशन कम है और कंपनियां डेटा रेवेन्यू पर फोकस कर सकती हैं।"

एयरटेल Vs जियो Vs Vi: तीनों में से किसके प्लान ज्यादा बेहतर

तीनों कंपनियों के प्रीपेड प्लान की तुलना की जाए तो रिलायंस जियो सबसे बेहतर है। 25 नवंबर के बाद वीआई इंडिया और भारती एयरटेल के प्लान लगभग एक जैसे हो जाएंगे। सबसे सस्ते प्लान में एयरटेल और वीआई की तुलना में जियो 24 रुपए सस्ता है। वहीं, सालाना वैलिडिटी वाले प्लान से जियो दोनों कंपनियों से 500 से 600 रुपए सस्ता है।