सावधान! एलेक्सा बच्चों को दे रही खतरनाक टास्क:10 साल की बच्ची को प्लग सॉकेट में कॉइन डालने को कहा, इससे बच्ची को करंट भी लग सकता था

नई दिल्ली6 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

अमेजन के एलेक्सा वॉइस असिस्टेंट में एक अजीबोगरीब मामला देखने को मिला है। दरअसल एलेक्सा से एक 10 साल की लड़की ने चैलेंज मांगा। इसके बाद एलेक्सा ने उस बच्ची को बिजली वाले प्लग में सिक्का डालने का चैलेंज दिया। इससे बच्ची को करेंट भी लग सकता था। इस चैलेंज में बिजली के प्लग के दो सिरे में एक सिक्के को लगा कर छूने का टास्क दिया जाता है। यह चैलेंज काफी खतरनाक था। हालांकि इसके बाद अमेजन ने अपने एलेक्सा वॉइस असिस्टेंट को अपडेट किया है, ताकि ऐसे चैलेंज फिर न आएं।

लड़की की मां ने ट्विटर पर दी जानकारी
लड़की की मां क्रिस्टिन लिवडाहल ने ट्विटर पर इस घटना के बारे में जानकारी दी। उन्होंने बताया कि उनकी बेटी पहले यूट्यूब पर योग टीचर से लेटना और अपने पैर का जूता पकड़ना जैसी कुछ फिजिकल चुनौतियों किया करती थी। बाहर खराब मौसम होने की वजह से इस बार एक दूसरी चुनौती के लिए एलेक्सा से पूंछा। अमेजन ने BBC को एक बयान में बताया कि उसने फ्यूचर में इस तरह की एक्टिविटी वाले असिस्टेंट को रोकने के लिए एलेक्सा को अपडेट किया है।

इससे उंगलियां और हाथ तक खो सकते थे
कार्लिस्ले ईस्ट फायर स्टेशन के स्टेशन मैनेजर माइकल क्लूस्कर ने 2020 में यॉर्कशायर में द प्रेस अखबार को बताया कि इससे उंगलियां और हाथ यहां तक कि बाहों को भी खो सकते हैं। नतीजतन इससे किसी को गंभीर चोट लग सकती है। अमेरिका में फायर बिग्रेड ऑफिसर ने इस चैलेंज के खिलाफ आवाज उठाई है।

अमेजन ने तुरंत ठीक करने के लिए लिया एक्शन

अमेजन ने एक बयान में कहा है कि हम जो कुछ भी करते हैं उसके पीछे ग्राहक का विश्वास होता है और एलेक्सा को ग्राहकों को सटीक, प्रासंगिक और उपयोगी जानकारी देने के लिए डिजाइन किया गया है। जैसे ही हमें इस चूक के बारे में बता चला हमने तुरंत ठीक करने के लिए एक्शन लिया।

स्मार्ट स्पीकर पूरे समय बात सुनते हैं, इससे प्राइवेसी खतरे में: विशेषज्ञ
फीनिक्स कॉलेज की एकेडेमिक डीन पामेला रोजमेन कहती हैं, ‘स्मार्ट स्पीकर बच्चों के लिए मददगार हैं पर पैरेंट्स को इनके द्वारा जमा किए अनफिल्टर्ड डेटा और संभावित नुकसान की जानकारी नहीं है। बच्चे कई ऐसी टेक्नोलॉजी तक पहुंच बना रहे हैं, जो उनके लिए जोखिम पैदा कर सकती है। स्मार्ट स्पीकर पूरे समय बातचीत सुनते रहते हैं, इससे बच्चों की प्राइवेसी खतरे में पड़ सकती है। बच्चों को इस बारे में आगाह करें। इसके अलावा इन डिवाइस में ऐसे कंट्रोल बिल्ट करने होंगे जो बच्चों को कुछ भी ऐसा न दिखाएं या सुझाएं जो उनके लिए खतरनाक हो सकता है।