देश में यूटिलिटी व्हीकल की डिमांड बढ़ी:2022 में बिकी हर 5 कारों में से 2 एसयूवी, इस साल भी बढ़ सकता है ये ट्रेंड

4 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

देश में यूटिलिटी व्हीकल का शौक और डिमांड बढ़ रही है। इनकी बिक्री में लगातार बढ़ोतरी हो रही है। 2022 में बिकी हर पांच कारों में से 2 एसयूवी रही। ऑटोमोबाइल एक्सपर्ट्स के मुताबिक, 2023 में भी ये ट्रेंड बढ़ने के संकेत हैं। इस साल जनवरी में देश की लगभग सभी कंपनियों के यूटिलिटी व्हीकल की बिक्री में उछाल आया है।

बीते माह टॉप 5 कार कंपनियों की एसयूवी की बिक्री औसतन 42% बढ़ी है। टोयोटा और महिंद्रा की बिक्री में सबसे ज्यादा क्रमश: 75% और 66% बढ़ोतरी हुई। मारुति की एसयूवी की बिक्री भी 33% बढ़ गई। टाटा मोटर्स के मामले में ये ग्रोथ 18% रही और ह्यूंडई की एसयूवी की बिक्री 14% बढ़ी। दरअसल अब लोग 300-500 किमी का सफर अपनी कार से करना चाहते हैं। इसके लिए एसयूवी ज्यादा कारगर है।

देश में तेजी से बढ़ रही बड़ी गाड़ियों की डिमांड

महंगाई बढ़ने के बावजूद देश में बड़ी कारों की बिक्री बढ़ रही है। यूटिलिटी व्हीकल इसमें शामिल हैं। ऑटोमोबाइल एक्सपर्ट विशाल दामले ने कहा साल 2008-09 के बाद करीब 10 साल तक बी-सेगमेंट की गाड़ियों (जैसे मारुति जेन, ह्युंडई आई20, होंडा जैज आदि) का दौर चला, लेकिन कोविड के बाद एसयूवी, खासतौर पर कॉम्पैक्ट एसयूवी का दौर शुरू हो गया है। कंपनियों ने सेगमेंट में जो मॉडल लॉन्च किए हैं, उनके फीचर आकर्षक हैं।

खबरें और भी हैं...