• Hindi News
  • Tech auto
  • Demand Is Increasing Continuously Due To Work from home, But Supply Decreased By 45%

चिप की कमी से PC शिपमेंट्स पर बुरा असर:वर्क-फ्रॉम-होम की वजह से लगातार बढ़ रही है मांग, लेकिन सप्लाई 45% तक घटी

नई दिल्ली5 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

एक रिपोर्ट के अनुसार विश्व मार्केट में पीसी शिपमेंट्स मांग लगातार बढ़ रही है। जिसकी वजह से Q1 2021 चिप की कमी 45% (ऑन-ईयर) बढ़कर 7.56 करोड़ हो गई है। चिप की कमी से दूसरी छमाही में PC ब्रांडों और ODM (ओरिजनल डिजाइन मैनुफैक्चर) के शिपमेंट शेड्यूल प्रभावित हो रहे हैं।

24% मार्केट शेयर के साथ, लेनोवो ने Q1 2021 में फिर से पहला स्थान हासिल किया, उसके बाद HP 23% और डेल 17% पर रहा।

वर्क-फ्रॉम-होम से बढ़ रही मांग
काउंटरपॉइंट रिसर्च के अनुसार, पीसी मार्केट की ओवरऑल ग्रोथ मुख्य रूप से गेमिंग नोटबुक के बढ़ते चलन, वर्क-फ्रॉम-होम और स्टडी-फ्रॉम-होम सेगमेंट की बढ़ती मांग है। जिसने क्रोमबुक की बिक्री में बढ़ोतरी की है।

टॉप 6 सेलर का मार्केट में बने रहने का अनुमान
वहीं Q2 2021 में, PC शिपमेंट Q1 2021 से इस तिमाही तक अधिक डिमांड की वजह से कम ज्यादा हो सकता है। सेमीकंडक्टर एंड कंपोनेंट्स टीम में रिसर्च एनालिस्ट विलियम ली का कहना है कि हमें विश्वास है कि टॉप 6 सेलर 85% से अधिक शेयर के साथ मार्केट में बने रहेंगे।

ODM मेन कंपोनेंट की कमी से हो रही समस्या
हालांकि, ODM अभी भी पावर मैनेजमेंट IC, डिस्प्ले ड्राइवर IC (डिस्प्ले पैनल के साथ) और CPU जैसे मेन कंपोनेंट की कमी का सामना कर रहे हैं। ली ने कहा, "हमने ऑर्डर (एंड-डिमांड) और एक्चुअल शिपमेंट के बीच 20 फीसदी से लेकरर 30 फीसदी तक का अंतर पाया है, जिसका मुख्य वजह H2 2020 से शुरू होने वाले कंपोनेंट की कमी है। कुछ चिप बेचने वालों ने यह भी कहा कि ऑडियो कोडेक IC और लैन चिप की मांग उम्मीद के मुताबिक नहीं रही और इस साल की दूसरी छमाही में भी बनी रहेगी।

2022 के अंत तक डिमांड सप्लाई के अंतर में होगी कमी
PC ब्रांड और ODM कमी को पूरी तरह से सही नहीं कर सकते हैं साथ ही ऑर्डर बैकलॉग को भी साफ नहीं किया जा सकता है। रिपोर्ट से उम्मीद है कि H1 2022 के अंत तक डिमांड सप्लाई का अंतर धीरे-धीरे नॉर्मल हो जाएगा। इस वर्ष की दूसरी छमाही में, पिछली छमाही के मुकाबले गति जारी रहेगी। बैक-टू-स्कूल (कुछ वर्चुअल क्लास होंगी) की मांग के साथ-साथ H1 2021 से मांग बहुत ज्यादा हो जाएगी।

चिप शॉर्टेज की वजह क्या है?
जानकारों की माने तो कोविड-19 महामारी की वजह से चिप शॉर्टेज की समस्‍या से जूझना पड़ रहा है। कोरोना के दौर में दुनियाभर में सेल फोन्‍स और लैपटॉप समेत अन्‍य इलेक्‍ट्रॉनिक डिवाइसेज की मांग बढ़ी है। मार्च 2020 में लॉकडाउन की वजह से वाहन कंपनियों ने ऑर्डर को कैंसिल कर दिया था। अब अनलॉक होने लगा है जिससे दुनियाभर में फैक्‍ट्रियां भी खुलने लगीं और डिमांड फिर बढ़ गई है। यही वजह हो कि चिप की पूर्ति नहीं हो पा रही है।