• Hindi News
  • Tech auto
  • Delhi Air Pollution: 5 Effective Pollution Masks To Stay Protected From Toxic Air

अब मास्क ज्यादा जरूरी:हवा में फैला पॉल्यूशन सांसों तक नहीं पहुंचे इसके लिए इलेक्ट्रिक मास्क जरूरी; कोरोना से भी बचाएंगे

नई दिल्ली15 दिन पहले
  • कॉपी लिंक

दिलवालों के शहर दिल्ली की हवा जहरीली होती जा रही है। हर दिन हवा में पॉल्यूशन लेवल बढ़ रहा है। आज दिल्ली का एयर क्वालिटी इंडेक्स (AQI) 379 है। यानी बच्चे और बूढ़ों के लिए हवा में धीमा जहर घुला हुआ है। ऐसे में घर से बाहर निकले का मतलब है बीमारी को गले लगाना। ये जानते हुए भी काम-धंधे के लिए तो घर से बाहर निकलना ही होगा। हम यहां आपको कुछ ऐसे मास्क के बारे में बता रहे हैं जो पॉल्यूशन वाली जगह पर बेहद जरूरी हैं।

एयर पॉल्यूशन से बचाने वाले मास्क आपको कोविड-19 महामारी के वायरस से भी बचाएंगे। इन मास्क में एयर प्यूरीफायर, सफोकेशन को रोकने के लिए फैन, जर्म्स को खत्म करने UV-LED, मल्टी लेयर सेफ्टी जैसे कई फीचर्स दिए हैं। चलिए ऐसे ही 5 मास्क के बारे में जानते हैं...

1. स्मार्ट इलेक्ट्रिक एयर प्यूरीफायर फेस मास्क
(कीमत करीब 2,850 रुपए)

ये लैब टेस्टेड इलेक्ट्रिक एयर प्यूरिफायर फेस मास्क है। ये 98.9% शुद्ध हवा आपको देता है। इसमें फोर लेयर फिल्टर टेक्नोलॉजी का इस्तेमाल किया गया है। पहली लेयर स्टेरलजेशन, दूसरी एक्टिवेटेड कार्बन, तीसरी HEPA फिल्टर और चौथी नॉन वोवन लेयर है। ये चारों लेयर बैक्टीरिया, वायरस, पॉल्यूशन, केमिकल सब्सटेंस और हवा में मौजूद दूसरे माइक्रो पार्टिकल्स को रोकते हैं। मास्क में 760mAh की रिचार्जेबल बैटरी भी दी है। ये 2 से 3 घंटे में फुल चार्ज हो जाती है। इसके बाद 7 घंटे तक आपको हवा देती है, ताकि मास्क लगाने के बाद सफोकेशन नहीं हो।

2. एक्टिवेटेड कार्बन HEPA फिल्टर इलेक्ट्रिक प्यूरीफायर फेस मास्क
(कीमत करीब 1,300 रुपए)

ये भी एक इलेक्ट्रिक प्यूरिफायर फेस मास्क। इसमें HEPA फिल्टर्स लेयर दी हैं। ये 98% तक इफेक्टिव मास्क है। इसमें सॉफ्ट सिलिकॉन का इस्तेमाल किया गया है, जिससे लंबे समय तक इसे फेस पर लगा सकते हैं। इसमें भी रिचार्जेबल बैटरी के साथ फैन दिया है।

3. एयराटॉम एयर प्यूरीफायर मास्क
(कीमत करीब 5,200 रुपए)

ये मास्क हवा में मौजूद कार्बन डाईऑक्साइड (CO2) को रोकता है। ये काफी लाइटवेट है, जिसकी वजह से इसे लंबे समय तक फेस पर लगाकर रख सकते हैं। इसमें N95 फिल्टर के साथ इंडिकेशन लाइट भी दी है। ये बैक्टीरिया, वायरस, पॉल्यूशन, केमिकल सब्सटेंस, माइक्रो पार्टिकल्स को रोकते हैं। इसमें टू स्पीड मोड के साथ माइक्रो फैन दिया है। ये 3 से 4 घंटे तक चलते हैं। मास्क पूरी तरह से वाशेबल है।

4. फिलिप्स फ्रेश एयर मास्क
(कीमत करीब 6,850 रुपए)

एयराटॉम की तरह ये मास्क भी हवा में मौजूद कार्बन डाईऑक्साइड (CO2) को रोकता है। इसमें N95 फिल्टर के साथ इंडिकेशन लाइट भी दी है। ये बैक्टीरिया, वायरस, पॉल्यूशन, केमिकल सब्सटेंस, माइक्रो पार्टिकल्स को रोकते हैं। इसमें थ्री स्पीड मोड के साथ माइक्रो फैन दिया है। ये 3 से 4 घंटे तक चलते हैं। ये काफी लाइटवेट है, जिसकी वजह से इसे लंबे समय तक फेस पर लगाकर रख सकते हैं। मास्क फिल्टर को अलग करके धोया भी जा सकता है।

5. इंटेलीजेंट इलेक्ट्रिक डस्ट फेस मास्क
(कीमत करीब 2,700 रुपए)

ये मास्क किसी गैजेट की तरह नजर आता है। मास्क के ऊपर एक हार्ड प्लास्टिक केस दिया है। इसमें हवा के लिए कुछ होल किए गए हैं। मास्क में बैक्टीरिया और हवा में मौजूद दूसरे माइक्रो पार्टिकल्स को रोकने के लिए मल्टी लेयर फिल्टर्स दिए हैं। मास्क के सभी फिल्टर को साफ किया जा सकता है।

घर से बाहर निकलने से पहले हवा में पॉल्यूशन लेवल भी चेक करें
आपके शहर की हवा कितनी जहरीली या दूषित है इसका पता ऐप के लगाया जा सकता है। गूगल प्ले स्टोर और एपल स्टोर पर ऐसे कई फ्री ऐप्स मौजूद हैं, जो इस काम को चुटकियों में कर देते हैं। बस इन ऐप्स को इन्स्टॉल करके अपने शहर को सिलेक्ट करना है। सबसे पहले हम पॉल्यूशन लेवल चेक करने वाले कुछ ऐप्स के नाम जानते हैं। फिर इनके काम करना का तरीका देखते हैं।

एंड्रॉयड यूजर्स के लिए इन ऐप्स का साइज iOS की तुलना में काफी कम है। हालांकि, एक बार इन्स्टॉल होने के बाद इनमें कुछ अपडेट्स होते हैं, जिसके बाद इनका साइड बढ़ जाता है। जैसे IQAir AirVisual का साइज वैसे तो 27 MB है, लेकिन इन्स्टॉल होने के बाद इसका साइज करीब 70MB हो जाता है। वहीं, जब ऐप का इस्तेमाल शुरू करते हैं तब इसका साइड डेटा के साथ लगातार बढ़ता रहता है।

पॉल्यूशन बताने वाले ऐप्स की वर्किंग प्रोसेस
इन ऐप्स को इन्स्टॉल करने के बाद पहली बार ओपन किया जाता है तब ये कुछ परमिशन मांगते हैं। इसमें आपको लोकेशन और डेटा एक्सेस हो सकता है। आपको लोकेशन एक्सेस देना भी होगा तभी ये आपके शहर का या आप जहां जा रहे हैं वहां की हवा में मौजूद पॉल्यूशन को ट्रैक करेंगे। ये पॉल्यूशन के हिसाब से शहर को कलर देते हैं। लाइट ग्रीन का मतलब सबसे बेहतर और डार्क रेड यानी सबसे बदतर।

पॉल्यूशन का लेवल कलर कोडिंग से पहचानें

हम IQAir AirVisual ऐप की मदद से भारत के चार शहरों का पॉल्यूशन लेवल यानी AQI (एयर क्वालिटी इंडेक्स) बता रहे हैं। इसमें पुडुपट्टी, पुडुचेरी, मुंबई और दिल्ली को शामिल किया है। पुडुपट्टी का AQI 38 है। इसे ग्रीन कलर दिया गया है। यानी यहां की हवा बहुत बेहतर है। किसी तरह का पॉल्यूशन नहीं है। पुडुचेरी का AQI 55 है। इसे ऑरेंज कलर दिया है। यानी हवा यहां की भी बेहतर है, लेकिन पुडुपट्टी की तुलना में कम। वहीं, देश की आर्थिक राजधानी मुंबई का AQI 177 है। इसे रेड कलर दिया गया है। यानी यहां पॉल्यूशन का लेवल काफी हाई है।