• Hindi News
  • Tech auto
  • Sundar Pichai | Google CEO Sundar Pichai On Chrome Incognito Mode Browsing History

गूगल क्रोम के फीचर पर सवाल:सुंदर पिचाई बोले- इनकॉग्निटो मोड पर सेव नहीं होती यूजर की डिटेल, इस पर डेटा सिक्योरिटी को लेकर चल रहा मुकदमा

नई दिल्ली2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

गूगल क्रोम में यदि आपने गौर किया हो तो वहां इनकॉग्निटो मोड होता है, इस ऑप्शन से ब्राउजिंग करने पर ब्राउजिंग हिस्ट्री सेव नहीं होती है। साल 2019 में गूगल CEO सुंदर पिचाई को इनकॉग्निटो मोड को लेकर साफ कहा था कि इस फीचर में दिक्कत है और अभी इसमें प्राइवेट मोड सही तरीके से काम नहीं करता है।

कोर्ट में आए नए मुकदमे के अनुसार पिचाई फीचर को स्पॉटलाइट में नहीं लाना चाहते थे, इसलिए उन्होंने इसके खामियों के बारे में पहले ही बता दिया था।

इनकॉग्निटो मोड पर गैरकानूनी तरीके से इंटरनेट इस्तेमाल ट्रैक हुआ
ऑनलाइन निगरानी के बारे में बढ़ती पब्लिक चिंताओं के बीच कुछ सालों में अल्फाबेट इंक यूनिट के द्वारा किए गए खुलासे में रेगुलेटर और कानूनी जांच शुरू की है। यूजर्स ने पिछले जून में एक मुकदमे में आरोप लगाया था कि जब वे अपने क्रोम ब्राउजर में इनकॉग्निटो मोड कर रहे थे तो गूगल ने उनके इंटरनेट इस्तेमाल को गैरकानूनी तरीके से ट्रैक किया था। जबकि गूगल का कहना है कि इनकॉग्निटो मोड केवल डेटा को यूजर्स के डिवाइस में सेव करने से रोकता है।

अमेरिकी डिस्ट्रिक्ट कोर्ट में चल रहा मुकदमा
अमेरिकी डिस्ट्रिक्ट कोर्ट में गुरुवार को दायर मुकदमे की तैयारियों पर एक लिखित अपडेट में यूजर्स के वकीलों का कहना है कि वे पिचाई और गूगल के चीफ मार्केटिंग ऑफिसर लॉरेन टूहिल को पद से हटाना चाहते हैं।

पिछले महीने गूगल के वाइस प्रेसिडेंट ब्रायन राकोवस्की को अपदस्थ कर दिया है जो इनकॉग्निटो मोड के पिता कहे जाते हैं। उन्होंने कोर्ट को बताया कि गूगल इनकॉग्निटो मोड पर ब्राउजिंग पूरी तरह से गुप्त रखने में सक्षम नहीं है।

खबरें और भी हैं...