• Hindi News
  • Tech auto
  • Smartphone Tips: How To Make Your Phone Absolutely 100% Waterproof & What Mistakes To Avoid & What Mistakes To Avoid In Raining Season

स्मार्टफोन रेनिंग सेफ्टी टिप्स:बारिश के सीजन में स्मार्टफोन को 3 तरीके से बनाएं वाटरप्रूफ, फोन में धूल और मिट्टी भी नहीं जाएगी; इसका खर्च 200 रुपए से शुरू

नई दिल्लीएक वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक

बारिश के दिनों में घर से बाहर निकलते वक्त फोन और दूसरे गैजेट्स की सेफ्टी बहुत जरूरी होती है। खासकर फोन वाटरप्रूफ नहीं है तब उसकी चिंता करना जरूरी भी हो जाता है। वैसे मार्केट में कुछ ऐसी एक्सेसरीज मौजूद हैं जिनकी मदद से आप स्मार्टफोन को वाटरप्रूफ बना सकते हैं। साथ ही, कुछ टिप्स की मदद से भी इस काम को किया जा सकता है। चलिए आज इसी के बारे में जानते हैं...

1. वाटरप्रूफ केस का इस्तेमाल

कई बार सेफ्टी के बाद भी फोन में पानी चला जाता है। ऐसे में जरूरी है कि यूजर के पास एक ऐसा स्मार्ट कवर हो जो फोन को वाटरप्रूफ बना दे। हम जिन कवर्स के बारे में बता रहे हैं वे बारिश में फोन को पूरी तरह सेफ रखेंगे। वाटरप्रूफ केस भी हार्ड केस और सॉफ्ट केस में आते हैं। इनकी कीमत 200 से 1000 रुपए तक हो सकती है।

इस केस की खासियत

  • इन कवर्स की खास बात होती है कि ये फोन के साथ कम्फर्टेबल होते हैं।
  • इनमें फीचर फोन के साथ स्मार्टफोन भी आसानी से आ जाते हैं।
  • यूजर इन कवर्स में फोन को रखकर बारिश के साथ स्विमिंग पूल में भी जा सकते हैं।
  • इन्हें इस तरह से डिजाइन किया गया है कि फोन के किसी भी पार्ट में पानी न जाए।

कवर के फायदे: इन केस में स्मार्टफोन का आसानी से इस्तेमाल किया जा सकता है। फोन के सभी तरह के बटन, कंट्रोल और दूसरे पार्ट के लिए इनमें एक्सेस होता है। ये वाटरप्रूफ होने के साथ शॉकप्रूफ और डस्टप्रूफ भी होते हैं।

कवर के नुकसान: यदि कवर हार्ड मटेरियल में है तब वो भारी हो सकता है, या फिर उसका साइज इतना बड़ा हो जाएगा कि फोन को जेब में आसानी से नहीं रख पाएंगे। कॉल की आवाज भी कम हो जाती है।

नोट: वाटरप्रूफ कवर का इस्तेमाल बारिश के दौरान ही करना चाहिए। फोन को हमेशा ऐसे कवर में नहीं रखना चाहिए। लगातार कवर में रहने पर फोन गर्म होने लगता है।

2. नैनो कोटिंग (वाटर रेजिस्टेंस)

नैनो कोटिंग एक हाइड्रोफोबिक लिक्विड होता है, जो अपनी सतह पर पानी को टिकने नहीं देता। इसका उपयोग वाटरप्रूफ इलेक्ट्रॉनिक्स आइटम पर किया जाता है, क्योंकि इसकी वजह से पानी डिवाइस के अंदर नहीं जा पाता। हालांकि, इस कोटिंग से फोन वाटरप्रूफ नहीं बनता, बल्कि उसे हल्की बारिश, बूंदों से बचाया जा सकता है। नैनो कोटिंग को फोन के ऊपर से आसान से रगड़कर हटाया जा सकता है। इसकी कीमत 500 से 1000 रुपए तक होती है।

नैनो कोटिंग के फायदे: इस कोटिंग के इस्तेमाल से फोन को कोई नुकसान नहीं पहुंचता। यानी फोन की स्क्रीन पर इस कोटिंग को लगाने से वो पहले जैसा ही काम करती है।

नैनो कोटिंग के नुकसान: इसे लगाने के बाद फोन को पानी में डुबोने की गलती नहीं करें। ये शॉकप्रूफ नहीं होती। फोन की स्क्रीन की ब्राइटनेस काफी कम हो जाती है।

नोट: ये फोन को डेली पानी के छींटे, डस्ट से बचाती है। अच्छी क्वालिटी की कोटिंग की लाइफ 6 महीने तक होती है। कोटिंग झड़ने लगे तब इसे नए सिरे से फोन पर लगवाना चाहिए।

3. वाटरप्रूफ फोन स्किन

फोन को वाटरप्रूफ बनाने का ये सबसे सस्ता तरीका है। वाटरप्रूफ फोन स्किन एक पतली चिपकाने वाली फिल्म होती है, जो फोन पर डायरेक्ट लगाई जा जाती है। स्किन में फोन को फिक्स करने के बाद पीछे की तरफ से कवर कर दिया जाता है। हालांकि, ये स्थाई समाधान नहीं होता है और इसे कुछ दिन ही इस्तेमाल कर पाते हैं। इसकी कीमत 200 से 2000 रुपए तक होती है।

वाटरप्रूफ स्किन के फायदे: सस्ती होती है और किसी भी नॉर्मल फोन के साथ इसका इस्तेमाल किया जा सकता है।

वाटरप्रूफ स्किन के नुकसान: फोन चार्ज करने के लिए स्किन को हटाना पड़ता है। साउंड क्वालिटी खराब हो जाती है। सीमित समय तक ही इस्तेमाल कर सकते हैं।

नोट: डेली के लिक्विड डैमेज से फोन को बचाता है। पानी के साथ धूल और मिट्टी से भी फोन को सेफ रखता है।

खबरें और भी हैं...