• Hindi News
  • Tech auto
  • PM Narendra Modi Praising Co WIN Vaccinator APP, Said It Made Vaccination Easy; Registration Process, Certificate Download

कोविन का गुणगान:पीएम बोले- दुनिया का सबसे बड़ा वैक्सीनेशन Co-WIN से आसान हुआ, घर से निकलें तो मास्क जरूर पहनें

नई दिल्लीएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कोरोना वैक्सीन के 100 करोड़ डोज पूरे होने को बड़ी उपलब्धि बताया है। उन्होंने कहा जब महामारी तेजी से फैल रही थी तब हमारे सामने वैक्सीनेशन बड़ी चुनौती था। इस मुश्किल काम को हमने डिजिटल प्लेटफॉर्म कोविन (Co-WIN) की मदद से आसान से कर लिया। उन्होंने ये भी कहा कि जैसे हमें घर से बाहर निकलते समय जूते पहनने की आदत है, उसी तरह मास्क पहनने की आदत भी बना लीजिए।

139 करोड़ से ज्यादा आबादी वाले भारत में वैक्सीनेशन का काम आसान नहीं था। बिना हड़बड़ी वैक्सीनेशन का काम आराम से हो सके, इसके लिए एक प्रॉपर चैनल जरूरी था। इस चैनल का काम किया कोविन (Co-WIN) ने बखूबी किया है। कोविड-19 महामारी से लड़ने वैक्सीनेशन 16 जनवरी से शुरू हुआ था, उसके 21 अक्टूबर को 100 करोड़ डोज पूरे हो गए। करीब 31% आबादी को दोनों डोज लग चुके हैं।

कोविन प्लेटफॉर्म की मदद से ही 100 करोड़ डोज का सफर आसानी और तेजी से पूरा हो पाया है। इस प्लेटफॉर्म को ऐसे डिजाइन किया गया कि लोग आसानी से अपना रजिस्ट्रेशन करा सकें। सरकार ने इसका ऐप भी बनाया। इसे एंड्रॉयड और आईओएस दोनों प्लेटफॉर्म पर इस्तेमाल कर सकते हैं। कोविन प्लेटफॉर्म सिस्टमैटिक है। ये ऐसा सिंगल प्लेटफॉर्म है जहां से रजिस्ट्रेशन, वैक्सीनेशन और सर्टिफिकेट डाउनलोड कर सकते हैं।

कोविन प्लेटफॉर्म क्या है और ये कैसे काम करता है?
इस डिजिटल प्लेटफॉर्म को नेशनल हेल्थ पोर्टल (NHP) ने डिजाइन किया है। कोविड महामारी से जीतने के लिए ही इसे Co-WIN का नाम दिया गया। इसमें Co का मलतब कोविड और WIN का मतलब जीत है। आप वैक्सीनेशन के लिए रजिस्ट्रेशन करना चाहते हैं, तब कोविन प्लेटफॉर्म पर जाना होगा। आप इसका ऐप भी इन्स्टॉल कर सकते हैं, या फिर selfregistration.cowin.gov.in पर जा सकते हैं। यहां अपने मोबाइल नंबर से आपका रजिस्ट्रेशन हो जाएगा। यदि मोबाइल नंबर से रजिस्ट्रेशन में प्रॉब्लम आ रही है तब आधार कार्ड से रजिस्ट्रेशन करा सकते हैं। आप सिंगल लॉग इन से सभी फैमिली मेंबर्स का रजिस्ट्रेशन करा सकते हैं।

वैक्सीनेशन के रजिस्ट्रेशन की प्रोसेस

  • सबसे पहले कोविन ऐप या वेबसाइट पर जाएं। अपना मोबाइल नंबर डालें। OTP आएगा इसे डालकर लॉग इन करें।
  • अब आधार कार्ड, ड्राइविंग लाइसेंस, पेन कार्ड, पासपोर्ट, पेंशन पासबुक, NPR स्मार्ट कार्ड, वोटर ID, यूनीक डिसएबिलिटी ID या राशन कार्ड में से कोई एक फोटो ID प्रूफ को चुनें।
  • अपने द्वारा चुनी गई ID का नंबर, नाम डालें। इसके बाद जेंडर और डेट ऑफ बर्थ को चुनें।
  • मेंबर एड होने के बाद आप अपने निकटतम एरिया का पिन कोड डालें। वैक्सीनेशन सेंटर की लिस्ट आ जाएगी।
  • अब वैक्सीनेशन की डेट, टाइम और वैक्सीन को सिलेक्ट करें। सेंटर पर जाकर वैक्सीनेशन कराएं।
  • वैक्सीनेशन सेंटर पर आपको रिफरेंस ID और सीक्रेट कोड की जानकारी देना होगी। जो आपको रजिस्ट्रेशन करने पर मिलती है।
  • इसी तरह आप अपने लॉग इन से दूसरे मेंबर को जोड़कर उनके वैक्सीनेशन रजिस्ट्रेशन कर सकते हैं।

कोविन प्लेटफॉर्म के खास फीचर्स
इस प्लेटफॉर्म से आप वैक्सीनेशन के लिए रजिस्ट्रेशन करा सकते हैं। साथ ही, अपने वैक्सीनेशन का सर्टिफिकेट भी डाउनलोड कर सकते हैं। इसके लिए सिर्फ आपको इस प्लेटफॉर्म पर लॉग इन करना है। यदि आप विदेश जा रहे हैं तब इसके लिए यहां से इंटरनेशनल ट्रैवल सर्टिफिकेट भी डाउनलोड कर सकते हैं। इसके लिए इन स्टेप्स को फॉलो करें...

  • कोविन प्लेटफॉर्म पर लॉग इन करने के बाद International Travel Certificate पर जाएं।
  • अब अपने डेट ऑफ बर्थ और पासपोर्ट नंबर की डिटेल देकर रिक्वेस्ट को सबमिट कर दें।
  • आपके फोन पर सर्टिफिकेट की लिंक आ जाएगी, जहां इसे इसे डाउनलोड कर पाएंगे।

कोविन प्लेटफॉर्म को सरकार ने की अलग-अलग प्लेटफॉर्म से जोड़ा है। इसे आरोग्य सेतु और उमंग ऐप से जोड़ा गया है। यानी आप इन दोनों ऐप की मदद से भी वैक्सीनेशन के लिए रजिस्ट्रेशन करा सकते हैं। इसके साथ वॉट्सऐप की मदद से भी वैक्सीनेशन के लिए रजिस्ट्रेशन किया जा सकता है। ये सभी प्लेटफॉर्म यूजर को कोविन पर लेकर आते हैं।

देश के बाहर भी कोविन ऐप की डिमांड

दुनिया का सबसे बड़ा वैक्सीनेशन भारत में हो रहा है। कोविन प्लेटफॉर्म का ही कमाल है कि ये वैक्सीनशन बिना किसी अफरा-तफरी के तेजी से हो रहा है। ऐसे में अब कोविन ऐप की डिमांड अब दूसरे देशों से भी आ रही है। भारत इस ऐप को ओपन सोर्स प्लेटफॉर्म के रूप में तैयार कर रहा है, ताकि सभी देश इसके सॉफ्टवेयर का इस्तेमाल कर सकें। कोविन ऐप के चीफ आरएस शर्मा ने के मुताबिक, दुनिया के 76 देशों ने इसमें दिलचस्पी जताई है। इनमें कनाडा, मैक्सिको, नाइजीरिया, पनामा, वियतनाम और यूगांडा जैसे देश शामिल हैं।