• Hindi News
  • Tech auto
  • Russia Ukraine War: Facebook To Not Allow Users Post Calls To Assassinate Putin

फेसबुक का बदला रुख:पुतिन की हत्या वाले पोस्ट को सपोर्ट नहीं, पॉलिसी में बदलाव का मकसद सिर्फ हिंसा का जवाब देना

नई दिल्ली9 महीने पहले

रूस और यूक्रेन में जारी जंग को देखते हुए फेसबुक की पेरेंट कंपनी मेटा ने यूक्रेनी लोगों के लिए अपनी पॉलिसी में बदलाव किया था, ताकि वो रूसी सेना की धमकी का जवाब दे पाएं। इसके बाद फेसबुक पर रूसी राष्ट्रपति पुतिन की हत्या करने को लेकर एक पोस्ट वायरल होने लगी। जिसके बाद फेसबुक ने स्पष्ट किया है कि वो इस तरह के किसी भी पोस्ट का समर्थन नहीं करती है।

पिछले हफ्ते फेसबुक पेरेंट कंपनी मेटा ने कहा कि यह कंपनी के रूल्स के खिलाफ है, वे ऐसी किसी पोस्ट को सपोर्ट नहीं करती जो रूसी राष्ट्रपति व्लादिमिर पुतिन को मारने की बात कहती हो। एक हफ्ते पहले कंपनी ने पॉलिसी में ढील इसलिए दी थी ताकि यूक्रेन देश के यूजर्स रूसी सेना की तरफ हिंसा की धमकी के जवाब में पोस्ट कर सकें।

कंपनी इस पॉलिसी में बदलाव के बाद लोगों के बीच भ्रम पैदा हो गया, वह यह नहीं समझ पा रहे कि फेसबुक और इंस्टाग्राम पर आखिर किस तरह की पोस्ट करने की इजाजत है और किस तरह की नहीं है।

मेटा के ग्लोबल अफेयर्स के प्रेसिडेंट निक क्लेग ने शुक्रवार को एक बयान पोस्ट करते हुए बताया, कि इस कदम का उद्देश्य यूक्रेन के लोगों के हितों की रक्षा करना है। इसका मतलब ये नहीं कि इसका इस्तेमाल रूस के लोगों से भेदभाव, उत्पीड़न या हिंसा को बढ़ावा देने के लिए किया जाए।
मेटा के ग्लोबल अफेयर्स के प्रेसिडेंट निक क्लेग ने शुक्रवार को एक बयान पोस्ट करते हुए बताया, कि इस कदम का उद्देश्य यूक्रेन के लोगों के हितों की रक्षा करना है। इसका मतलब ये नहीं कि इसका इस्तेमाल रूस के लोगों से भेदभाव, उत्पीड़न या हिंसा को बढ़ावा देने के लिए किया जाए।

यूक्रेन के लोगों के हितों की रक्षा करने के लिए लाई गई नई पॉलिसी
मेटा के ग्लोबल अफेयर्स के प्रेसिडेंट निक क्लेग ने शुक्रवार को एक बयान पोस्ट करते हुए बताया, कि इस कदम का उद्देश्य यूक्रेन के लोगों के हितों की रक्षा करना है। इसका मतलब ये नहीं कि इसका इस्तेमाल रूस के लोगों से भेदभाव, उत्पीड़न या हिंसा को बढ़ावा देने के लिए किया जाए। इसके बाद उन्होंने रविवार को एक इंटरनल पोस्ट में कर्मचारियों को कंपनी के रुख के बारे में समझाने की कोशिश की।

नई पॉलिसी को रूसियों के खिलाफ हिंसा की छूट नहीं मान सकते
क्लेग ने इंटरनल पोस्ट में लिखा कि हम अब गाइडलाइन में इसे स्पष्ट करने पर ध्यान दे रहे हैं कि इसका कभी भी रूसियों के खिलाफ हिंसा की छूट के लिए नहीं माना जाना चाहिए। यह पॉलिसी केवल यूक्रेन में लागू होती है जो यूक्रेन पर रूस के आक्रमण से संबंधित है। क्लेग ने कहा कि हम देश के प्रमुख की हत्या करने का बढ़ावा नहीं देते हैं। हालांकि उन्होंने पुतिन का नाम नहीं लिया।

रूस ने पिछले दो हफ्तों में मेटा की कंटेंट पॉलिसी के नियम का हवाला देते हुए फेसबुक और इंस्टाग्राम को ब्लॉक कर दिया है। मेटा ने पहले यूक्रेन और यूरोप यूनियन में रूस के मीडिया अकाउंट को बैन कर दिया था और रूसी बिजनेस के सभी विज्ञापनों को भी बैन कर दिया था।

खबरें और भी हैं...