आज दुनिया के पहले मैसेज की नीलामी:30 साल पहले भेजा गया था 14 लेटर वाला SMS, अब हर लेटर 14.29 लाख में होगा नीलाम

नई दिल्ली6 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

आपने शायद कई दिनों, महीनों या हो सकता है कि सालभर से ही कोई SMS नहीं किया हो। जब से इंस्टेंट चैट ऐप आए हैं लोग SMS करना भूल गए हैं। वैसे हम खबर में आपके SMS की नहीं, बल्कि दुनिया के पहले टेक्स्ट SMS की बात करने वाले हैं। इस SMS को 1992 में वोडाफोन के एक कर्मचारी ने दूसरे को भेजा था। आज इस SMS की नीलामी होने वाली है। वैसे, शॉर्ट मैसेज सर्विस को SMS कहा जाता है।

2 करोड़ रुपए तक लग सकती है बोली
30 साल पहले भेजे गए दुनिया के इस पहले टेक्स्ट मैसेज में 'Merry Christmas' यानी क्रिसमस की शुभकामनाएं दी गई थीं। अब इस SMS की नीलामी 100,000 से 200,000 पाउंड (करीब 1 से 2 करोड़ रुपए) के बीच हो सकती है। ये नीलामी पेरिस में मौजूद एगट्स ऑक्‍सन हाउस में होगी। इसमें दुनियाभर के लोग बोली लगा पाएंगे। नीलामी आज दोपहर 3 बजे से शुरू होगी।

'Merry Christmas' में कुल 14 कैरेक्टर हैं। मान लिया जाए कि इस SMS की नीलामी 2 करोड़ रुपए में होती है, तब प्रत्येक कैरेक्टर की कीमत करीब 14.29 लाख रुपए होगी।

SMS भेजने वाले नील ने सुनाया रोचक किस्सा
दुनिया का पहला SMS ब्रिटिश प्रोगामर नील पापवोर्थ ने 3 दिसंबर, 1992 को भेजा था। नील एक डेवलपर और टेस्‍ट इंजीनियर के तौर पर काम कर रहे थे। तब उन्‍होंने इस SMS को कंप्‍यूटर से अपने दूसरे साथी रिचर्ड जारविस को भेजा था। रिचर्ड तब कंपनी के डायरेक्‍टर थे। उनको ये SMS ऑर्बिटेल 901 हैंडसेट पर भेजा गया था। नील ने 2017 में कहा था कि 1992 में जब उन्होंने SMS भेजा था तब इस बात का पता नहीं था कि ये इतना पॉपुलर हो जाएगा। तब उन्‍होंने अपने बच्‍चों को भी बताया था कि दुनिया का पहला टेक्स्ट मैसेज उन्होंने ही भेजा था।

रिफ्यूजी एजेंसी को दी जाएगी नीलामी की रकम
वोडाफोन ने अपने बयान में बताया कि इस SMS की नीलामी से जो भी रमक मिलेगी, उसे यूनाइटेड नेशन हाई कमिशनर फॉर रिफ्यूजी (UNHCR) को दिया जाएगा। ये यूएन की रिफ्यूजी एजेंसी है। 1992 में जब पहला मैसेज भेजा गया था, इसके बाद साल 1995 आते-आते केवल 0.4 फीसदी ही लोग मैसेज औसतन हर महीने भेजते थे।