रिपोर्ट / 48 हजार से ज्यादा भारतीयों ने भी डाउनलोड की फेसबुक रिसर्च ऐप, इससे यूजर्स ने 5 लाख रुपए तक कमाए



over 48000 users in india installed facebook research app
X
over 48000 users in india installed facebook research app

  • टेकक्रंच की रिपोर्ट में दावा किया था, फेसबुक ने रिसर्च ऐप इंस्टॉल करने के लिए यूजर्स को 20 डॉलर दिए
  • इस ऐप के जरिए फेसबुक ने यूजर्स का निजी डेटा हासिल किया, एपल ने ऐप स्टोर से इस ऐप को हटाया
  • मीडिया रिपोर्ट में दावा, भारतीय यूजर्स ने इस ऐप्स को रेफर कर लाखों रुपए तक कमाए

Dainik Bhaskar

Feb 05, 2019, 12:58 PM IST

गैजेट डेस्क. फेसबुक के विवादित ऐप 'फेसबुक रिसर्च ऐप' को लेकर एक नई रिपोर्ट सामने आई है। न्यूज वेबसाइट लाइवमिंट ने अपनी रिपोर्ट में दावा किया है कि, फेसबुक की इस ऐप को भारत में भी 48 हजार से ज्यादा यूजर्स ने डाउनलोड किया। इतना ही नहीं, यूजर्स ने इस ऐप को दूसरों को रेफर कर लाखों रुपए तक कमाए। इस ऐप्स को इंस्टॉल करने वालों में ज्यादातर एंड्रॉयड यूजर्स हैं। 


दरअसल, टेक वेबसाइट टेकक्रंच ने रिपोर्ट में दावा किया था कि फेसबुक ने अपनी 'फेसबुक रिसर्च' ऐप को एंड्रॉयड और आईओएस डिवाइस में इंस्टॉल करने के लिए यूजर्स को 2016 से अब तक हर महीने 20 डॉलर (करीब 1,400 रुपए) के साथ-साथ रेफरल फीस भी दी। टेकक्रंच के मुताबिक, इस ऐप के जरिए फेसबुक ने यूजर्स का निजी डेटा हासिल किया, जिसमें उनके निजी मैसेजेस के साथ-साथ निजी फोटो भी शामिल थी।


भारतीय यूजर ने इससे 5 लाख रुपए तक कमाए
लाइवमिंट की रिपोर्ट के मुताबिक, 19 साल के हर्षित आहूजा ने फेसबुक की इस ऐप के जरिए 5 लाख रुपए से ज्यादा कमाए। रिपोर्ट के मुताबिक, हर्षित ने इस ऐप को 16 अप्रैल 2018 को डाउनलोड किया था। हर्षित का दावा है कि उसने अब तक रेफरल के जरिए 500-700 लोगों को ये ऐप्स डाउनलोड करवाई है और इसके जरिए 5 लाख रुपए से ज्यादा की कमाई की है। हर्षित के अलावा, एक दूसरे यूजर केवल कृषन ने भी रेफरल के जरिए 1 लाख रुपए तक कमाए। 


2016 में फेसबुक ने तैयार की थी रिसर्च ऐप
2016 में ओनावो की टीम ने एक रिसर्च ऐप बनाया जो यूजर के फोन और वेब एक्टिविटी की हर जानकारी लेता था। फेसबुक ने इस ऐप को इंस्टॉल करने के लिए पैसे दिए। फेसबुक की एक प्रवक्ता एरियल आर्गरिस ने कहा, "इसमें कुछ भी छिपाने लायक नहीं है। ये तो फेसबुक की रिसर्च ऐप है। इससे लोगों की जासूसी नहीं हो रही है। लोगों ने इसमें हिस्सेदारी के लिए सहमति दी और इसके लिए उन्हें पैसा दिया गया।"


एपल ने ऐप स्टोर से हटाया, गूगल ने कोई प्रतिक्रिया नहीं दी
टेकक्रंच की रिपोर्ट सामने आने के बाद एपल ने ऐप स्टोर से फेसबुक की रिसर्च ऐप को हटा दिया। इस ऐप के जरिए फेसबुक यूजर्स के फोन को ट्रैक करने के साथ-साथ उनकी निजी जानकारी भी हासिल कर रहा था। एपल ने इस ऐप को प्राइवेसी के खिलाफ बताते हुए ऐप स्टोर से बैन कर दिया। वहीं, गूगल ने अभी तक इस बारे में कोई प्रतिक्रिया नहीं दी है, लेकिन गूगल प्ले स्टोर पर भी अब ये ऐप मौजूद नहीं है। इसके अलावा, इस ऐप पर अब नए यूजर साइन अप नहीं कर सकते।

COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना