--Advertisement--

टेक्नोलॉजी / जल्द आएगा ऐसा फोन जो समझेगा यूजर का व्यवहार, खुद ही भेज देगा मैसेज और ई-मेल



andy rubin smartphone who understand human behaviour
X
andy rubin smartphone who understand human behaviour

Dainik Bhaskar

Oct 12, 2018, 12:18 PM IST

गैजेट डेस्क. कंज्यूमर इलेक्ट्रॉनिक्स स्टार्टअप एसेंशियल प्रोडक्ट्स ऐसा मोबाइल फोन बना रही है जो यूजर के व्यवहार को समझेगा। इसके बाद वह यूजर की ओर से खुद मैसेज व ईमेल भेज देगा। कंपनी का कहना है कि यह सामान्य असिस्टेंट से दोगुना कारगर होगा। इस कंपनी के प्रमुख एंडी रुबिन हैं, जिन्होंने एंड्रॉयड बनाया था। हालांकि एसेंशियल ने इस पर कोई बयान नहीं दिया है। 

एक इंटरव्यू में इस मोबाइल का जिक्र किया था

  1. रुबिन ने पिछले साल एक इंटरव्यू में कहा था कि वे एक बड़े प्रोजेक्ट की शुरुआत कर रहे हैं। उन्होंने कहा था

    मैं ऐसा फोन लाना चाहता हूं जो यूजर का वर्चुअल वर्जन बन जाए। आप परिवार के साथ बैठकर शांति से खाना खा सकें। मोबाइल की वजह से किसी तरह का व्यवधान न आए। साथ ही आप अपने मोबाइल पर भरोसा कर सकें कि आपकी ओर से वह जो भी कर रहा है वह सही होगा।

वॉयस कमांड से ऑपरेट किया जा सकेगा इसे

  1. कंपनी का दावा है कि यह बाजार में उपलब्ध सभी मोबाइल से पूरी तरह अलग होगा। इसे इस तरह डिजाइन किया जा रहा है कि यह वॉयस कमांड से ऑपरेट हो सके। स्क्रीन का आकार थोड़ा छोटा होगा।

  2. इसमें मौजूद आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस सॉफ्टवेयर मीटिंग तय करना, ईमेल के जवाब देना और मैसेज भेजना जैसे कई काम यूजर के बिना इनपुट दिए भी करेगा। 

  3. रुबिन का कहना है कि इस मोबाइल को बनाने के पीछे कंपनी उद्देश्य यह है कि जो लोग मोबाइल एडिक्शन के शिकार हैं, उन्हें इस समस्या से निजात दिलाई जा सके। 

  4. दरअसल रुबिन लोगों की कल्पनाओं को डिवाइस के रूप में हकीकत बनाना चाहते हैं।

एपल-सैमसंग भी इसी तरह के फोन बनाने पर कर रही काम

  1. टेक जगत से जुड़े विशेषज्ञों का कहना है कि एपल और सैमसंग को चुनौती देने के लिए रुबिन इस मोबाइल पर पूरा जोर लगा रहे हैं। 

  2. गूगल भी जीमेल के लिए ऐसी ही टेक्नोलॉजी पर काम कर रही है, जिसमें मेल का जवाब ऑटोमेटिक जाएगा। पर इसमें यूजर का इनपुट जरूरी है।

एक्सपर्ट ने बताया- इनोवेटिव आइडिया

  1. एक्सपर्ट्स का कहना है कि पूरी तरह स्वतंत्र एआई इनोवेटिव आइडिया है। जो भी स्मार्ट असिस्टेंट का इस्तेमाल करता है, वह अच्छी तरह जानता है कि यह सिस्टम उन्हें कितना निर्भर बना सकता है। जो सिरी (एपल) और एलेक्सा (अमेजन) का इस्तेमाल करते हैं, वे वर्चुअल असिस्टेंट की सीमाएं समझते हैं। 

Bhaskar Whatsapp
Click to listen..