फेसबुक, गूगल फीस न लेकर लोगों का निजी डेटा बेच रहीं

3 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
  • एमनेस्टी इंटरनेशनल की मानवाधिकारों पर रिपोर्ट
  • इन कंपनियों का व्यापार मॉडल मानवाधिकारों के लिए खतरा

लंदन. फेसबुक, गूगल समेत अन्य इंटरनेट कंपनियों का निगरानी-आधारित व्यवसाय मॉडल मानवाधिकारों के लिए खतरा है। एमनेस्टी इंटरनेशनल ने यह दावा एक रिपोर्ट में किया है। इसमें कहा है कि इंटरनेट कंपनियों के बिजनेस मॉडल ऐसे हैं, जिससे यूजर्स की निजता के अधिकारों का हनन हो रहा है। यह कंपनियां यूजर्स के निजी डेटा का इस्तेमाल विज्ञापन व्यापार के लिए कर रही हैं। गूगल और फेसबुक लोगों की स्वतंत्रता, अभिव्यक्ति की आजादी, समानता का अधिकार और गैर-भेदभाव जैसे दूसरे मानवाधिकारों के लिए भी खतरा हैं।


रिपोर्ट में सरकारों से आग्रह किया गया है कि वे ऐसी नीति बनाएं, जिससे लोगों की निजता की सुरक्षा हो, साथ ही उनकी पहुंच ऑनलाइन सेवा तक सुनिश्चित हो पाए। रिपोर्ट में कहा गया है कि कंपनियों के विज्ञापनों के लिए व्यक्तिगत डेटा का इस्तेमाल निजता के अधिकारों पर अभूतपूर्व हमला है।