फेसबुक / हिंसा की लाइव स्ट्रीमिंग रोकने के लिए बनाई वन स्ट्राइक पॉलिसी, अकाउंट पर लगेगा बैन

Dainik Bhaskar

May 15, 2019, 06:08 PM IST



One Strike Policy: Facebook restricts live-streaming feature over Christchurch terror attack
X
One Strike Policy: Facebook restricts live-streaming feature over Christchurch terror attack

  • फोटो और वीडियो विश्लेषण तकनीक के सुधार पर काम, अमेरिकी विश्वविद्यालयों से अनुबंध किया
  • यूजर किसी आतंकवादी संगठन के बयान का लिंक साझा करता है तो अकाउंट पर बैन लगेगा

गैजेट डेस्क. फेसबुक ने हिंसा की लाइव स्ट्रीमिंग और इसकी शेयरिंग को रोकने के लिए वन स्ट्राइक पॉलिसी बनाई है। कंपनी ने न्यूजीलैंड के क्राइस्टचर्च में हमलावर द्वारा हिंसा की लाइव स्ट्रीमिंग के बाद ये फैसला लिया। फेसबुक में 'इंटीग्रिटी' के वीपी गाय रोसेन ने बताया कि जिन लोगों ने तय नियम तोड़े हैं, उन पर फेसबुक के लाइव स्ट्रीमिंग फीचर का गलत इस्तेमाल करने के लिए प्रतिबंध लगाया जाएगा। अगर किसी यूजर ने फेसबुक वॉल पर हिंसक वीडियो की लाइव स्ट्रीमिंग की है, तो वे आगे इस फीचर का इस्तेमाल नहीं कर पाएंगे।


रोसेन ने बताया कि मार्च में क्राइस्टचर्च में आंतकी हमले की लाइव स्ट्रीमिंग की गई थी। साथ ही, इस वीडियो को कई यूजर्स ने शेयर भी किया था। ऐसे में हमारी कोशिश है कि इस तरह की सर्विस को सीमित किया जाए, ताकि लोग फेसबुक पर नफरत फैलाने का काम ना कर सकें। इसके लिए वन स्ट्राइक पॉलिसी को लागू किया जाएगा। इस पॉलिसी के लागू होने के बाद जो यूजर इसमें दी गईं कंडीशन का तोड़ेगा उसके अकाउंट, या फीचर्स पर प्रतिबंध लगा दिया जाएगा।

 

फेसबुक ने न्यूजीलैंड हमले के वीडियो डिलीट किए

रोसेन ने कहा कि कोई यूजर किसी आतंकवादी संगठन के बयान का लिंक साझा करता है, तब ये भी पॉलिसी के खिलाफ होगा। उसके अकाउंट पर प्रतिबंध लगा दिया जाएगा। न्यूजीलैंड में हुए आंतकी हमले के वीडियो को फेसबुक ने कई यूजर्स की वॉल से डिलीट किया, लेकिन कई लोगों ने इसके एडिटेड वीडियो भी शेयर किए। यह भी हमारे लिए चुनौती है।

 

आर्टिफिशियल इंटेलीजेंस का इस्तेमाल कर रहा फेसबुक

ऑस्ट्रेलिया और न्यूजीलैंड में नफरत फैलाने वाले ग्रुप्स की पहचान कर उन्हें अपने प्लेटफॉर्म से हटाने के लिए फेसबुक आर्टिफिशियल इंटेलीजेंस का इस्तेमाल भी कर रहा है। ऐसे ग्रुप्स फेसबुक की कोई भी सर्विस यूज नहीं कर पाएंगे। फेसबुक ने पिछले दिनों यह ऐलान भी किया था कि वह श्वेत राष्ट्रवाद और श्वेत अलगाववाद की तारीफ या उसके सपोर्ट को बैन करेगा। फेसबुक और इंस्टाग्राम पर यह बैन अगले हफ्ते लागू हो जाएगा।

 

फेसबुक ने फोटो और वीडियो विश्लेषण तकनीक में सुधार करने के लिए अमेरिका के तीन विश्वविद्यालयों के साथ अनुबंध किया है। इसके लिए वो 75 लाख डॉलर (करीब 51 करोड़ रुपए) खर्च कर रहा है।

COMMENT

किस पार्टी को मिलेंगी कितनी सीटें? अंदाज़ा लगाएँ और इनाम जीतें

  • पार्टी
  • 2019
  • 2014
336
60
147
  • Total
  • 0/543
  • 543
कॉन्टेस्ट में पार्टिसिपेट करने के लिए अपनी डिटेल्स भरें

पार्टिसिपेट करने के लिए धन्यवाद

Total count should be

543