इंडिया Vs चाइना /अपने ही देश में पहचान खो रही इंटेक्स और लावा समेत ये 6 स्मार्टफोन कंपनियां



indian smartphone companies struggled in its own country due to chinese phone
X
indian smartphone companies struggled in its own country due to chinese phone

  • रिपोर्ट के मुताबिक 33% बिकने वाले स्मार्टफोन 11 से 18 हजार रुपए कीमत के होते हैं

Dainik Bhaskar

May 04, 2019, 01:34 PM IST

गैजेट डेस्क. जैसे जैसे चीनी स्मार्टफोन कंपनियों की पैठ भारत में बढ़ती जा रही है वैसे वैसे भारतीय स्मार्टफोन कंपनियां अपनी पहचान खोती जा रही है। जिसे देखते हुए अंदाजा लगाया जा सकता है कि आने वाले दिनों में भारत में सिर्फ चीनी स्मार्टफोन कंपनियों का ही राज होगा। काउंटरप्वाइं की एक रिपोर्ट के मुताबिक भारतीय स्मार्टफोन मार्केट में चीनी कंपनी श्याओमी पहले पायदान पर अपनी जगह बनाए हुए है, कंपनी के पास 29% मार्केट शेयर है जबकि दूसरे नंबर पर कोरियाई कंपनी सैमसंग अपनी जगह बनाए हुए हैं, सैमसंग के पास 23% मार्केट शेयर है। इसके अलावा वीवो, ओप्पो और वनप्लस जैसे चीनी कंपनियां भी भारत में व्यापार कर भारी मुनाफा कमा रही है।

  • कार्बन मोबाइल

    कुछ दिन पहले ही खबर आई थी कि भारतीय कंपनी कार्बन मोबाइल ने मिनिस्ट्री ऑफ कॉर्पोरेट अफेयर्स को पत्र लिखकर सूचित किया था कंपनी अपने कारोबार समेटने की तैयारी में है। कभी दिग्गज स्मार्टफोन में गिनी जाने वाली कार्बन कंपनी के बंद होने का कारण कोई और नहीं बल्कि चीनी स्मार्ट कंपनियों की बढ़ती लोकप्रियता है जिसका खामियाजा कार्बन समेत कई भारतीय स्मार्टफोन कंपनियों को उठाना पड़ रहा है। जानिए और कौनसी भारतीय स्मार्टफोन कंपनियां है जो मार्केट से बाहर होने की कगार पर है।

  • इंटेक्स मोबाइल

    लंबे समय तक स्मार्टफोन मैन्युफैक्चरिंग में रही इंटेक्स कंपनी के स्मार्टफोन को भी लोगों ने ज्यादा पसंद नहीं किए, क्योंकि इससे कम दाम में कई चाइनीज स्मार्टफोन उपलब्ध है जो फीचर्स के मामले में कहीं ज्यादा आगे हैं। कंपनी का हेड क्वार्टर नई दिल्ली में स्थित है। हालांकि कंपनी स्मार्टफोन और फीचर फोन के साथ होम एप्लाइंसेस जैसे वॉशिंग मशीन, ए.सी., फ्रिज, टीवी, म्यूजिक सिस्टम, कूलर जैसे डिवाइस भी मैन्युफैक्चरिंग भी तैयार करती है। साल 2017-18 की रिपोर्ट के मुताबिक कंपनी के रेवेन्यू में 32.3% की गिरावट देखने को मिली थी। जुलाई-सितंबर 2018 में भारतीय स्मार्टफोन सेगमेंट में कंपनी का सिर्फ 8% मार्केट शेयर था।

  • माइक्रोमैक्स मोबाइल

    माइक्रोमैक्स का नाम भारत की मुख्स स्मार्टफोन कंपनियों में लिया जाता है। कंपनी का हेडक्वार्टर गुरुग्राम (हरियाणा) में है। कंपनी स्मार्टफोन और फीचर फोन के साथ डेटा कार्ड, टीवी भी बनाती है। कंपनी हांगकांग और दुबई में भी व्यापार करती है। कंनपी ने पिछले साल दिसंबर में माइक्रोमैक्स इंफिनिटी एन12 को बाजार में लॉन्च किया था जिसके बाद कंपनी का कोई भी फोन मार्केट में नहीं आया है। साल 2018 कि रिपोर्ट के मुताबिक स्मार्टफोन सेगमेंट में कंपनी के सिर्फ 6% मार्केट शेयर है।

  • iBall मोबाइल

    iBall भी भारतीय स्मार्टफोन कंपनी है,  जिसका हेडक्वार्टर मुंबई, महाराष्ट्र में है। कंपनी स्मार्टफोन और फीचर फोन, टैबलेट बनाने के साथ-साथ कंप्यूटर एक्सेसरीज भी बनाती है जिसमें माउस, की-बोर्ड, हेडफोन शामिल है लेकिन लंबे समय से कंपनी का कोई भी फोन मार्केट में नहीं आया है। 2017 की रिपोर्ट के मुताबिक टैबलेट सेगमेंट में कंपनी के पास सिर्फ 16% मार्केट शेयर है।

  • जियो फोन

    रिलायंस जियो ने अपने दो फीचर फोन मार्केट में लॉन्च किए है जो चाइनीज कंपनियों को टक्कर दे रहे हैं। मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक फीचर फोन सेगमेंट में जियो के पास 30% मार्केट शेयर है। जियो स्मार्टफोन भी तैयार करती है जिसे लोगों ने इतना पसंद नहीं किया जिसना फीचर फोन को किया था।

  • लावा मोबाइल

    लावा मोबाइल भारत का सबसे तेजी से बढ़ने वाले ब्रांड में से एक है। कंपनी का सब-ब्रांड जोलो भी है जो एंड्रॉयड स्मार्टफोन लॉन्च करती है। लावा स्मार्टफोन के साथ साथ फीचर फोन, लैपटॉप और मोबाइल एक्सेसरीज भी बनाती है।

COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना