फ्लाइंग एके 47 / 300 मीटर की दूरी तक लक्ष्य भेदने में सक्षम



russian invents flying ak47 by strapping guns to drone
russian invents flying ak47 by strapping guns to drone
russian invents flying ak47 by strapping guns to drone
russian invents flying ak47 by strapping guns to drone
X
russian invents flying ak47 by strapping guns to drone
russian invents flying ak47 by strapping guns to drone
russian invents flying ak47 by strapping guns to drone
russian invents flying ak47 by strapping guns to drone

Dainik Bhaskar

Mar 26, 2019, 01:10 PM IST

गैजेट डेस्क. रोबोट टैंक बनाने के बाद रूस की आर्मी अब उड़ने वाली एके 47 बना रही है, जो हवा में उड़ान भरेगी और दुश्मनों का सफाया करेगी। दो प्रोपेलर की मदद से उड़ान भरने वाला यह ड्रोन गन 300 मीटर की दूरी तक लक्ष्य भेदने में सक्षम है जो स्टैंडर्ड एके 47 की तरह एक मिनट में 600 राउंड फायर करने में सक्षम है। हाल ही वीडियो सामने आया था जिसमें रशियन आर्मी को एआई बेस्ड रोबोट टैंक और ड्रोन का परीक्षण करते देखा गया था।

एक बार में 30 राउंड ही फायर करेगी

  1. ड्रोन गन को रशियन आर्म्स मेकर अल्माज़ आंटे में डिजाइन किया है। फरवरी 2018 में इसका पेटेंट फाइल कराया गया था।

  2. तस्वीरों में देखकर अंदाजा लगाया जा सकता है कि फ्लाइंग एके 47 को दो प्रोपेलर की मदद से उड़ाया जाएगा, हालांकि अभी इस बात की पुष्टी नहीं हो पाई है कि यह रिमोट से कंट्रोल किया जाएगा या यह एआई तकनीक पर आधारित होगी।

  3. इसके व्हीकल को हवा में दो स्टेबलाइजर की मदद से कंट्रोल किया जाएगा। वहीं आइकॉनिक गन एके 47 को हल्के मेटल फ्रेम में फिट किया जाएगा।

  4. यह फ्लाइंग एके 47 स्टैंडर्ड एके 47 राइफल की तरह ही एक मिनट में 600 राउंड फायर करने में सक्षम है। यह 300 मीटर की दूरी तक दुश्मनों का सफाया कर सकती है, हालांकि फ्लाइंग गन की मैग्जीन में सिर्फ 30 राउंड ही है।

  5. यह काफी हल्के मेटल से बनी है। हवा का दवाब तेज होने पर या तूफान की स्थिति में इसे कंट्रोल करना बेहद मुश्किल हो जाता है।

  6. एके 47 को खासतौर पर छोटे टार्गेट को भेदने के लिय इस्तेमाल किया जाता है। फ्लाइंग एके 47 को एक अनुभवी व्यक्ति ही चला सकता है जो छोटे टार्गेट पर सटिक निशाना लगा सके।

  7. युद्धस्थल में फ्लाइंग एके 47 को काफी मुश्किलों को सामना करना पड़ेगा क्योंकि इसे हवा में रिलोड नहीं किया जा सकता, 30 राउंड फायर करने के बाद इसे वापस जमीन पर लैंड करना होगा।

  8. रशियन आर्मी ने पिछले साल भी कई ड्रोन से पर्दा उठाया था। जिसमें एक अंडरवाटर गिज्मों भी शामिल था, जिसे खासतौर पर मिलिट्री डाइवर्स के लिए तैयार किया गया था। इसमें भी राइफल अटैच थी।

COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना