• Hindi News
  • Tech auto
  • Tech
  • Scientists create smart bracelet, this will prevent Amazon Alexa and Apple Siri smart speakers from spying on the owner

इनोवेशन / स्मार्ट ब्रेसलेट, जो एलेक्सा जैसे स्मार्ट स्पीकर के माइक्रोफोंस को जाम कर देगा ताकि यूजर की बातें लीक न हों

फिलहाल इसे प्रोटोटाइप मॉडल के तौर पर डिजाइन किया गया है। फिलहाल इसे प्रोटोटाइप मॉडल के तौर पर डिजाइन किया गया है।
X
फिलहाल इसे प्रोटोटाइप मॉडल के तौर पर डिजाइन किया गया है।फिलहाल इसे प्रोटोटाइप मॉडल के तौर पर डिजाइन किया गया है।

  • स्मार्ट ब्रेसलेट यूनिवर्सिटी ऑफ शिकागो के वैज्ञानिकों ने तैयार किया है, लागत सिर्फ 1400 रु. आएगी
  • इसमें 23 स्पीकर हैं, जो अल्ट्रासोनिक सिग्नल के जरिए आसपास मौजूद माइक्रोफोन को 96% तक जाम करते हैं

दैनिक भास्कर

Feb 19, 2020, 10:39 AM IST

गैजेट डेस्क. एपल सिरी और अमेजन एलेक्सा से जैसे स्मार्ट स्पीकर उस समय विवाद में आ गए थे, जब इन पर अपने मालिक की बातें लीक करने के आरोप लगे थे। पिछले साल खुद अमेजन ने इस बात को स्वीकार किया था। अमेजन ने कहा था कि उसके पास सैकड़ों यूजर की वॉयस रिकॉर्डिंग है, जिन्हें उनके स्टाफ द्वारा सुना गया। इसे यूजर की निजता का उल्लंघन माना गया था। 

इसी समस्या से निपटने के लिए वैज्ञानिकों ने ऐसा ब्रेसलेट तैयार किया है, जो स्मार्ट स्पीकर्स में लगे माइक्रोफोन को जाम कर देगा। इससे कोई भी इसके यूजर की बातें नहीं सुन पाएगा। वैज्ञानिकों ने बताया कि फिलहाल इसका प्रोटोटाइप मॉडल के तौर पर डिजाइन किया गया है। वैज्ञानिकों का मानना है कि इसे बनाने की में सिर्फ 1400 रुपए की लागत आएगी।

ब्रेसलेट में लगे 23 स्पीकर 
ब्रेसलेट को यूनिवर्सिटी ऑफ शिकागो की टीम ने डिजाइन किया है। उन्होंने इसे ब्रेसलेट ऑफ साइलेंस नाम दिया है। इसमें 23 स्पीकर लगे हैं। ये स्पीकर अल्ट्रासोनिक सिग्नल का उत्सर्जन करते हैं, जो ब्रेसलेट पहनने वाले की बातों को लीक नहीं होने देता। वैज्ञानिकों का मानना है कि इस डिवाइस को जासूसी रोकने के लिए इस्तेमाल किया जा सकता है। वैज्ञानिकों ने बताया कि हमने इस टेक्नोलॉजी को ब्रेसलेट के रूप में इसलिए डिजाइन किया, ताकि यह यूजर के नेचुरल जेश्चर का इस्तेमाल कर सके। यह बातें करते समय होने वाले हैंड मूवमेंट्स को पढ़ता है।

ऑन होने के लिए यह यूजर के नेचुरल मूवमेंट का इस्तेमाल करता है

  • यूनिवर्सिटी ऑफ शिकागो के असिस्टेंट प्रोफेसर पेड्रो लोप्स ने बताया कि अपने साथी के साथ निजी बातचीत करते समय आप इस ब्रेसलेट को रियल टाइम में एक्टिवेट कर सकते हैं। ऐसा करने से स्मार्ट स्पीकर बातें रिकॉर्ड नहीं कर पाएंगे। हालांकि, यह ब्रेसलेट उस समय ऑटोमैटिक एक्टिवेट हो जाता है, जब यूजर बातें करना शुरू करता है, क्योंकि ऑन होने के लिए यह यूजर के नेचुरल मूवमेंट का इस्तेमाल करता है। इसके अंदर वेब जनरेटर लगे हैं, जो अल्ट्रासोनिक जैमिंग सिग्नल जनरेट करते हैं, यह 12.5MHzतक की वेब प्रोड्यूस करते हैं।
  • इसके अलावा, इसमें माइक्रोप्रोसेसर, एलईडी स्टेट्स इंडिकेटर और लीथियम पॉलीमर बैटरी लगी है। वैज्ञानिकों ने बताया कि यह वियरेबल डिवाइस 96 फीसदी तक स्मार्ट स्पीकर को जाम करता है। फिलहाल, इसे प्रोटोटाइप के तौर पर तैयार किया गया है। उन्होंने आगे बताया कि इसे बनाने की लागत लगभग 1400 रुपए आएगी।

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना