खतरा / 6 कंपनियों के ढाई करोड़ यूजर्स का डेटा हैक, डार्क वेब पर पर्सनल इंफॉर्मेशन बेच रहा सीरियल हैकर



serial hacker is selling 26 million user's data on dark web
X
serial hacker is selling 26 million user's data on dark web

  • हैक हुए डेटा में गेमसलाद, लाइफबेयर और यूथमैन्युअल कंपनियों का डेटा शामिल है
  • इस हैकर ने पहले करीब 16 वेबसाइट के 61 करोड़ यूजर्स के डेटा हैक करके बेचे थे

Dainik Bhaskar

Mar 19, 2019, 02:35 PM IST

गैजेट डेस्क. डार्क वेब पर 6 बड़ी कंपनियों के करीब ढाई करोड़ यूजर्स का पर्सनल डेटा बेचा जा रहा है। एक सीरियल हैकर ने इस डेटा को हैक किया था और वो अब इसे डार्क वेब पर बेच रहा है। डेटा की कीमत 3 लाख रुपए से ज्यादा है। इसमें अकाउंट होल्डर का नाम, ईमेल और पासवर्ड जैसी महत्वपूर्ण जानकारी शामिल है। 

 

लीक हुआ डेटा गेम डेवलपमेंट प्लेटफॉर्म गेम सलाद, ब्राजिलियन बुक स्टोर एसटेंट वर्चुअल, ऑनलाइन टास्क मैनेजर और शेड्यूलिंग एप कॉबिक और लाइफबेयर के अलावा इंडोनेशिया की ई कॉमर्स कंपनी बुकालापाक और इंडोनेशिया की स्टूडेंट करियर साइट यूथमैन्युअल कंपनी के यूजर्स का है। गेमसलाद एक गेम डेवलपमेंट प्लेटफॉर्म है, जिसके 75 से ज्यादा गेम्स एपल एप स्टोर के टॉप 100 में जगह बना चुके हैं। लीक डाटा कंपनियों में से गेमसलाद, कॉबिक और लाइफबेयर को भारतीय भी इस्तेमाल करते हैं। हालांकि यह भारत में ज्यादा प्रचलित नहीं है।

 

सीरियल हैकर नोस्टिक प्लेयर नाम से जाना जाता है। इस हैकर ने पिछले महीने भी 16 कंपनियों के 61 करोड़ से ज्यादा यूजर्स का डेटा इसी तरह डार्क वेब पर उपलब्ध करवाया था। जिसमें ट्रेवल बुकिंग साइट इक्सिगो और वीडियो स्ट्रीमिंग साइट यूनाओ का डेटा शामिल था।

 

हैकर नोस्टिक प्लेयर ने जेडनेट से बात करते हुए कहा, 'मुझे यह देखकर दुख होता है कि कोई भी सीखना नहीं चाहता। 2019 में भी सुरक्षा का ऐसा स्तर देखकर मुझे गुस्सा आता है।'


चेक करें कहीं आपकी डिटेल तो नहीं हुई लीक
अगर आप चेक करना चाहते हैं कि आपका डेटा लीक हुआ है या नहीं तो आप haveibeenpwned.com पर जाकर भी चेक कर सकते हैं। इस वेबसाइट पर जाकर आपको अपनी ईमेल आईडी डालनी होगी। यदि वेबसाइट बताती है कि आपका डेटा चोरी हुआ है, तो आपको पासवर्ड बदल लेना चाहिए।

 

क्या होता है डार्क वेब?
साइबर सिक्योरिटी एक्सपर्ट के मुताबिक इंटरनेट का 96% डार्क वेब है और हम जो इंटरनेट देखते हैं वो सिर्फ 4% है। डार्क वेब पर इंटरनेट के आम ब्राउजर पर नहीं खुलते और इन्हें सिर्फ TOR ब्राउजर पर ही खोला जा सकता है और इन्हें ट्रैक करना काफी मुश्किल होता है। डार्क वेब का इस्तेमाल ज्यादातर आपराधिक गतिविधियों के लिए ही किया जाता है। यहां पर हैकिंग सर्विस की तरह होती है, मतलब पैसे देकर किसी की भी हैकिंग करवाई जा सकती है।

COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना