• Hindi News
  • Time
  • life of 44 lakh americans life depend on tip modest jobs and their low salaries remains

अमेरिका / बख्शीश के सहारे चलता है 44 लाख अमेरिकियों का जीवन, मामूली जॉब्स और कम वेतन ही रह गया है उनका भविष्य



life of 44 lakh americans life depend on tip modest jobs and their low salaries remains
X
life of 44 lakh americans life depend on tip modest jobs and their low salaries remains

  • कई सेक्टर में न्यूनतम वेतन 28 साल से स्थिर, मोटी तनख्वाह के जॉब बढ़े, मध्यम जॉब की गति धीमी
  • फूड डिलीवरी, कुकिंग, ड्राइविंग, घर की सफाई जैसी नौकरियों बढ़ीं
  • बीस साल में मैन्युफैक्चरिंग से जुड़े जॉब्स में 25% की गिरावट

Dainik Bhaskar

Aug 24, 2019, 08:15 PM IST

एलाना सेमुअल्स, मेल्कॉम बर्नले
अमेरिका में अगले दशक में वेटर और वेट्रेस जैसे जॉब के बढ़ने की संभावना ज्यादा नजर आ रही है। कम वेतन, काम के असीमित घंटे और न्यूनतम सुविधाएं ही ऐसे लोगों की जिंदगी का हिस्सा रहेंगे। बीते दस साल में अमेरिकी अर्थव्यवस्था के विस्तार का सबसे ज्यादा फायदा अमीरों को मिला है। लाखों कामगार बहुत पीछे छूट गए हैं। खासतौर से 44 लाख लोगों, जिनमें दो तिहाई महिलाएं हैं,की जिंदगी बख्शीश (टिप्स) पर ही निर्भर है। अन्य क्षेत्रों में तो वेतन बढ़ा है पर 1991 के बाद से टिप पर आश्रित कर्मचारियों का न्यूनतम वेतन स्थिर है।

टिप से जुड़े जॉब करने वाले लोगों के लिए केंद्र सरकार (फेडरल ) का अलग न्यूनतम वेतन है। 36 राज्यों में टिप्ड न्यूनतम वेतन 5 डॉलर प्रति घंटा से कम है। मालिकों और नियोक्ताओं से अपेक्षा रहती है कि जब टिप से न्यूनतम वेतन पूरा नहीं होता है तब वे बाकी पैसा स्वयं देंगे। लेकिन, कई रेस्तरां और अन्य नियोक्ता इसका पालन नहीं करते हैं। बहरहाल, अभी हाल के महीनों में अमेरिका में ऊंचे वेतन वाले सर्विस जॉब्स तेजी से बढ़े हैं पर मध्यम वेतन के जॉब धीमी गति से मिल रहे हैं। मूडी एनालिटिक्स के मार्क जेंडी कहते हैं, मंदी आने पर इनमें तेजी से गिरावट आ सकती है। मंदी में जिन लोगों की नौकरियां जाती हैं। बाद में  नौकरी लगने पर उनका वेतन बढ़ता नहीं बल्कि घटता है।

ब्यूरो ऑफ लेबर स्टेटिसटिक्स (बीएलएस) के अनुसार अमेरिका में पर्सनल केयर सहायक (मध्यम सालाना वेतन 24200 डॉलर), कुक (21250 डॉलर), वेट स्टाफ (21780 डॉलर) जैसी नौकरियां तेजी से बढ़ने वाले जॉब्स में शामिल हैं। अमेरिकी में अस्थायी रोजगार से जुड़ा सिस्टम (गिग इकोनॉमी) बढ़ रहा है। इस सिस्टम में लोग फूड डिलीवरी, ड्राइविंग और घर की सफाई जैसे काम एप के जरिये हासिल करते हैं।

बीएलएस की स्टडी के मुताबिक पिछले बीस वर्ष में फूड सर्विस जॉब्स 50% बढ़कर एक करोड़ 22 लाख हो गए हैं। ये अमेरिका के मैन्युफैक्चरिंग वर्क फोर्स-एक करोड़ 28 लाख को पीछे छोड़ देंगे। इनमें 25% गिरावट आई है। पिछले कुछ सप्ताहों से मंदी की आशंका में बाजार में उतार-चढ़ाव दिखने लगा है। इससे देश का रुख मैन्युफैक्चरिंग की बजाय सर्विस सेक्टर की ओर जारी रह सकता है। 2007 से 2009 के बीच आई मंदी से अमेरिका की मैन्युफैक्चरिंग इंडस्ट्री में भारी गिरावट देखी गई थी। मंदी के बाद पांच वर्ष में कंसट्रक्शन और मैन्युफैक्चरिंग में दो करोड़ 80 लाख जॉब खत्म हो गए थे। दूसरी तरफ इसी अवधि में स्वास्थ्य सेवाओं और फूड सर्विस जैसे उद्योगों में हजारों जॉब्स निकले थे।

वाशिंगटन यूनिवर्सिटी के अर्थशास्त्री जेकब विगडोर कहते हैं,  अगर मंदी आती है तो ऐसे सेक्टर सबसे ज्यादा प्रभावित होगे जो दूसरे लोगों को बुनियादी सेवाएं मुहैया नहीं कराते हैं। 20 अगस्त को राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प  ने अर्थव्यवस्था के मजबूत रहने की घोषणा की थी। उन्होंने यह भी कहा कि सरकार अर्थव्यवस्था को मजबूत बनाने के विभिन्न उपायों का परीक्षण कर रही है। फिर भी, जब भी अगली मंदी आएगी अधिकतर कामगारों को उफान मार रही सर्विस इंडस्ट्री का रास्ता पकड़ना पड़ेगा।  कम वेतन, काम के असीमित घंटे और खराब परिस्थितियां इस इंडस्ट्री की पहचान बन चुके हैं।

सर्विस सेक्टर की मजबूती से महिलाओं को वेट्रेस का कठिन जॉब तो मिलता है लेकिन उनकी सुरक्षा की स्थितियां ठीक नहीं हैं। वहां यौन प्रताड़ना, शोषण और दुर्व्यवहार आम है। समान रोजगार अवसर आयोग को किसी अन्य इंडस्ट्री की तुलना मंे रेस्तरां इंडस्ट्री से यौन प्रताड़ना की सबसे ज्यादा शिकायतें मिलती हैं।

 

वेतन के दोहरे सिस्टम से गरीबी बढ़ी
टिप पाने वाले कर्मचारी के लिए फेडरल न्यूनतम वेतन अन्य कर्मचारियों से 71% कम है। यह अंतर टिप से खत्म होता है। टिप्ड कर्मचारी ऐसा काम करता है जिसमें उसे टिप के बतौर हर माह 30 डॉलर से अधिक मिलते हैं। टिप पाने वाले कर्मचारी को उसके मालिक या नियोक्ता को केवल 2.13 डॉलर प्रति घंटा न्यूनतम वेतन देना पड़ता है। 
फेडरल न्यूनतम वेतन- 7.25 डॉलर (पिछली बार 2009 में बढ़ा।)
फेडरल टिप्ड वेतन-2.13 डॉलर (पिछली बार 1991 में बढ़ा।)
43 राज्य वेतन के टू टायर सिस्टम का उपयोग करते हैं। 17 राज्य 2.13 डॉलर फेडरल टिप्ड दर जबकि 26 अन्य राज्य 2.13 डॉलर से अधिक वेतन का नियम मानते हैं। 7 राज्यों में टिप्ड और नॉन टिप्ड जॉब्स के लिए एक समान न्यूनतम वेतन है।

महिलाओं पर ज्यादा प्रभाव

  • अमेरिका में 40 लाख से अधिक लोग टिप पाने वाले जॉब्स में हैं। इनमें तीन में से दो महिलाएं हैं।
  • महिलाओं का प्रतिशत
  • वेटर और वेट्रेस-70%
  • हेयरड्रेसर-94%
  • बारटेंडर-58%


महिलाओं को कम वेतन
टिप की नौकरियों में महिलाओं के वेतन में बहुत अंतर है। 2015 की स्टडी में पाया गया कि रेस्तरां में काम करने वाली महिला कर्मचारी को औसतन 9.81 डॉलर प्रति घंटा जबकि पुरुष कर्मचारी को 12.95 डॉलर मिलते हैं। रेस्तरां, बार में वेट्रेस के जॉब में महिलाओं को ग्राहकों की फब्तियां और आपत्तिजनक टिप्पणियां सुनने मिलती हैं।

सभी तरह के फुल टाइम जॉब्स में महिलाओं की आय पुरुषों की तुलना में 19% कम है। टिप्ड रेस्तरां जॉब्स में महिलाओं की आय पुरुषों से 24 % कम है।
 

COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना