पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

अमेरिका में गन हिंसा के शिकार घायलों में सीसे के दुष्प्रभावों के गंभीर परिणाम

2 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
  • शरीर में रह गई गोलियों के कारण जानलेवा बीमारियां
  • सीसे के बुलेट्स से जानवरों के शिकार पर पाबंदी लेकिन मनुष्यों की पीड़ा पर किसी का ध्यान नहीं
  • सामूहिक गोलीकांड की घटना में तो बच गए लेकिन वर्षों बाद भी खून में गोलियों का जहर दौड़ रहा है

मेलिसा चान
अमेरिका में गन हिंसा के साथ बड़ी संख्या में मौतों के अलावा कुछ अन्य नुकसान भी जुड़े हैं। देशभर में हजारों व्यक्ति शरीर के भीतर रह गई गोलियों की धातु- सीसा (लैड) के जहरीले दुष्प्रभावों से जूझ रहे हैं। यूएस डिसीज कंट्रोल, प्रिवेंशन सेंटर्स (सीडीसी) के अनुसार हर साल गोलियां लगने से  80 हजार 500 लोग घायल होते हैं। इनमें से बड़ी संख्या में लोग शरीर में सीसा के कारण होने वाली तकलीफों से पीड़ित हैं।

सीडीसी ने 2017 में सीसा के जहर को बुलेट के टुकड़ों से जोड़ने के परिणामों पर पहली रिपोर्ट जारी की थी। रिपोर्ट में बताया गया, 2003 से 2012 के बीच गोलियों के शिकार 457 लोगों के खून में सीसे का स्तर ज्यादा पाया गया। इनके शरीर में गोलियों के टुकड़े रह गए थे। यह डेटा 41 राज्यों में खून में सीसा का स्तर जांचने के प्रोग्राम एबल्स से मिला है। कई राज्यों ने प्रोग्राम में हिस्सा नहीं लिया। इससे समस्या का सही अंदाजा नहीं लगाया जा सकता है। सीडीसी मेंं महामारियों की विशेषज्ञ डेबोरा वीस कहती हैं, वास्तविक संख्या 457 से ज्यादा हो सकती है। केन्द्र सरकार ने 2013 में प्रोग्राम के लिए पैसा देना बंद कर दिया था। 2015 में फंडिंग फिर शुरू हुई। पर केवल 26 राज्यों ने इसमें हिस्सा लिया।

लैड के जहर से प्रभावित कोलिन गोडार्ड 16 अप्रैल 2007 को वर्जीनिया टेक में हुए सामूहिक जनसंहार में बुरी तरह घायल हुए थे। यह अमेरिका के इतिहास में स्कूलों में शूटिंग की सबसे भयावह घटना थी। इसमें अधिकतर छात्रों सहित 32 व्यक्ति मारे गए थे। गोडार्ड के शरीर के पिछले हिस्से और बाएं घुटने में तीन गोलियां लगी थीं। चूंकि गोलियों के टुकड़ों से जान का खतरा नहीं था इसलिए सर्जनों ने उन्हें शरीर में ही छोड़ दिया था। 

फरवरी 2017 में  थकान ज्यादा लगने पर गोडार्ड  सोचते थे, बहुत व्यस्त रहने के कारण ऐसा हो रहा है। लेकिन, उनकी मांं ने सीडीसी की रिपोर्ट पढ़ने के बाद खून की जांच कराने की सलाह दी। उनके शरीर में सुरक्षित लेवल से सात गुना अधिक लैड पाई गई । उन्हें न्यूरोलॉजिकल और किडनी की बीमारियों का खतरा है। इस वर्ष ऑपरेशन के बाद उनके शरीर से गोलियों के कुछ टुकड़े निकाले गए। इससे लैड का लेवल थोड़ा कम हुआ है। टोक्सिकोलॉजिस्ट का कहना है, बाकी 50 टुकड़ों को भी निकालना जरूरी है। पर डॉक्टरों का कहना है, यह बहुत खतरनाक होगा। गोडार्ड को शरीर से जहरीली धातुएं निकालने के लिए रोज 31 गोलियां खानी पड़ती हैं।

कैलिफोर्निया यूनिवर्सिटी में टोक्सिकोलॉजी के प्रोफेसर डोनाल्ड स्मिथ कहते हैं, \"लैड से होने वाले नुकसान पर काफी रिसर्च हो चुकी है। इसको लेकर कोई संदेह नहीं है\'। उनकी टीम की रिसर्च के कारण कैलिफोर्निया में शिकारियों के लैड एम्युनिशन इस्तेमाल पर प्रतिबंध लगा है। विश्व के सबसे बड़े पक्षियों में एक कैलिफोर्निया कोंडोर्स पर लैड के जहरीले प्रभावों के अध्ययन में  पाया गया, बड़ी संख्या में ये पक्षी लैड के जहर से मर रहे हैं या गंभीर रूप से बीमार पड़ गए हैं। इन्होंने उन जानवरों का मांस खाया जिन्हें लैड की गोलियों से मारा गया था। इन्हें भी ऐसी गोलियां लगी थीं। स्मिथ कहते हैं, \"कोंडोर्स का उदाहरण देखिए। एम्युनीशन में लगा सीसा घातक होता है\'।

कई बार शरीर में बुलेट या उसके टुकड़ों के आसपास सुरक्षा घेरा बन जाता है। इससे कोई क्षति नहीं होती है। कुछ मामलों में समय बीतने के साथ टुकड़े खून में घुलते हैं। और जहर फैलता है। 5 नवंबर 2017 को सूदरलैंड स्प्रिंग्स, टैक्सास में फर्स्ट बैपटिस्ट चर्च में रविवार की प्रार्थना के दौरान गोलीबारी में 26 व्यक्ति मारे गए थे। मोर्गन वर्कमैन के बाएं पांव में कई छर्रे घुसे थे। वे बताती हैं, इन्हें निकालने के लिए डॉक्टरों को मेरे पांव की पूरी चीर-फाड़ करना पड़ती। अन्य लोगों की तुलना में उनका जख्म मामूली था। एक साल बाद उनके दोनों पैर नियंत्रण से बाहर हो गए। जांच कराने पर खून में सीसे का स्तर ज्यादा पाया गया। अब वे दोनों पैरों को सहारा देने के लिए ब्रेसेस पहनती हैं।

अमेरिकी सरकार ने 1991 में लैड एम्युनिशन पर नियंत्रण के नियम बनाए थे। इनसे प्रवासी जलीय पक्षियों के शिकार पर पाबंदी लगा दी गई थी। ये प्रतिबंध अन्य प्रजातियों के पक्षियों पर लगाने की मांग हो रही है लेकिन गन अधिकारों के समर्थक इसका विरोध करते हैं। 2017 में ओबामा सरकार ने लैड एम्युनिशन से बाहरी वन्य जीवों के शिकार पर प्रतिबंध लगाया था। राष्ट्रपति ट्रम्प की सरकार ने फैसले को पलट दिया। अब वन्य जीवों की सुरक्षा से जुड़े एक्टिविस्ट राज्यों के कानूनों में बदलाव पर जोर दे रहे हैं। 30 से अधिक राज्यों में लैड हंटिंग एम्युनिशन पर प्रतिबंध लगा दिया गया है। जानवरों के लिए तो थोड़ी सुरक्षा के प्रावधान हो रहे हैं लेकिन मनुष्यों की तकलीफ कोई नहीं देख रहा है। टैक्सास यूनिवर्सिटी की मेडिकल ब्रांच में सर्जरी की प्रमुख इकेना ओकेरेके कहती हैं, निश्चित रूप से मानवों के लिए कुछ नहीं किया जा रहा है।

95%एम्युनीशन में सीसे का इस्तेमाल

  • लंबे समय से लैड एम्युनिशन सहित कई उद्योगों की पसंदीदा मैटल है। फायरआर्म्स के इतिहासविद माइकेल हेल्म्स कहते हैं, यह सस्ता है। लैड भारी और घना होता है। इस कारण तांबे से बनी बुलेट की तुलना में लैड की गोली लगाातार सीधी दिशा बनाए रखती है। टारगेट हिट होने पर अधिकतम क्षति होती है। नेशनल शूटिंग स्पोर्ट्स फाउंडेशन के अनुसार हर वर्ष अमेरिका में बने या आयातित 9 अरब एम्युनिशन राउंड्स में 95% लैड होता है। 


शरीर में सीसे के दुष्प्रभाव का पता लगाना मुश्किल

  • शरीर में फंसी गोलियों से लैड के प्रभाव का पता लगाना मुश्किल होता है। लैड के दुष्प्रभाव के संकेतों- थकान, सिरदर्द, पेट में दर्द, उबकाई को अक्सर सामान्य बीमारी लेते हैं। शिकागो में गोलियों से घायल लोगों का ऑपरेशन करने वाली ट्रामा सर्जन जेनिफर कोने कहती हैं, ऐसे मरीजों का वर्षों से इलाज कर रहे फिजिशियन के लिए भी कई बार इन समस्याओं का पता लगाना कठिन होता है।


75% लोगों के शरीर में गोलियों के टुकड़े रह जाते हैं

  • शिकागो मेडिसिन यूनिवर्सिटी में हर साल गोलियों से घायल 1000 लोगों का इलाज होता है। ट्रामा सर्जन कोने के अनुसार इनमें से 75% लोगों के शरीर में गोलियों के हिस्से, छर्रे आदि रह जाते हैं। ट्रामा सर्जन कार्ल फ्रीमैन बताते हैं, सेंट लुई यूनिवर्सिटी अस्पताल, सेंट लुई में प्रति वर्ष गन हिंसा के शिकार 450 लोग आते हैं। इनमें से 75% लोगों के शरीर में गोलियों के टुकड़े रह जाते हैं। कई बार बुलेट निकालने पर अधिक नुकसान हो सकता है। 

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- वर्तमान परिस्थितियों को समझते हुए भविष्य संबंधी योजनाओं पर कुछ विचार विमर्श करेंगे। तथा परिवार में चल रही अव्यवस्था को भी दूर करने के लिए कुछ महत्वपूर्ण नियम बनाएंगे और आप काफी हद तक इन कार्य...

और पढ़ें