• Hindi News
  • Time
  • stirred with an investment in america because this 1422 crore rs is close to putin

सवाल / अमेरिका में एक निवेश से हड़कंप! क्योंकि ये 1,422 करोड़ रुपए पुतिन के करीबी के है



stirred with an investment in america because this 1422 crore rs is close to putin
X
stirred with an investment in america because this 1422 crore rs is close to putin

  • रिपब्लिकन, डेमोक्रेटिक पार्टी के सांसदों ने राजनीति में रूस का दखल बढ़ने औरराष्ट्रीय सुरक्षा को खतरे का अंदेशा जताया
  • रूसी कंपनी ने अमेरिकी प्रतिबंधों को बेअसर करने के लिए भारी पैसा खर्च किया

Dainik Bhaskar

Aug 19, 2019, 12:42 PM IST

साइमन शूस्टर, वेरा बरगेंग्रुएन
अमेरिका में रूसी राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन के निकट सहयोगी अरबपति ओलेग डेरीपास्का के भारी इन्वेस्टमेंट पर सवाल उठाए जा रहे हैं। सत्ताधारी रिपब्लिकन पार्टी और डेमोक्रेटिक पार्टी के कई संसद सदस्यों ने एक एल्युमीनियम प्लांट में किए गए 1,422 करोड़ रुपए के निवेश पर चिंता जताई है। उनका कहना है, इससे राष्ट्रीय सुरक्षा के लिए खतरा पैदा हो सकता है। रूस के लिए अमेरिका में राजनीतिक दखल का रास्ता खुलेगा।
 

ब्रेडी इंडस्ट्रीज के एशलैंड, केंटुकी स्थित प्लांट में रूसी एल्युमीनियम कंपनी रूसाल ने 40% हिस्सेदारी खरीदी है। ब्रेडी के सीईओ क्रेग बाउचार्ड का कहना है, प्रस्तावित प्लांट से केंटुकी और अपालचिया क्षेत्र की अर्थव्यवस्था में सुधार होगा। क्षेत्र में पिछले दिनों रेल कारखाने, तेल रिफाइनरी और स्टील फैक्टरी में बड़ी संख्या में कामगारों की छंटनी हुई है। रूसी कंपनी से सौदे में अमेरिकी कोषालय विभाग के प्रतिबंध आड़े आ रहे थे। कंपनी के मालिक ओलेग के 2016 के राष्ट्रपति चुनाव में दखल की विशेष वकील रॉबर्ट मुलर ने जांच की है।

कोषालय का कहना है, रूसी सत्ता के केंद्र- क्रेमलिन की अनिष्टकारी गतिविधियों, पश्चिमी देशों में लोकतंत्र को अस्तव-्यस्त करने के प्रयासों के कारण रूसाल या उसके बॉस से अमेरिकियों का सौदा करना अवैध है। राष्ट्रीय सुरक्षा विशेषज्ञ इस बात से चिंतित नहीं हैं कि रूसाल, ब्रेडी या डेरीपास्का ने सौदे में कोई नियम तोड़े हैं। टाइम मैग्जीन की जांच में पाया गया कि रूसाल ने प्रतिबंधों को बेअसर करने के लिए राजनीतिक और आर्थिक साधनों का उपयोग किया है। इस प्रक्रिया में उसने अमेरिकी राजनीति में पांव जमा लिए हैं। पूर्व उपविदेशमंत्री हीथर कोनले का कहना है, उन्होंने हमारे कानूनों, बैंकों, हमारे वकीलों और लॉबीइस्ट का उपयोग रणनीति के तहत किया है।


प्रतिबंध खत्म कराने के लिए रूसाल ने वॉशिंगटन में कई माह प्रयास किए। भारी मेहनताने पर लॉबीइंग करने वालों की सेवाएं ली गईं। केंटुकी के सांसद मिच मेककोनेल ने प्रतिबंध समाप्त कराने में मदद की है। मेककोनेल के दो पूर्व कर्मचारी संसद में ब्रेडी की तरफ से लॉबीइंग कर रहे हैं। 2018 के मध्यावधि चुनाव से पहले रूसाल के शेयरहोल्डर लेन ब्लावटनिक ने मेककोनेल से जुड़े रिपब्लिकन पार्टी के एक फंड मेंं सात करोड़ रुपए से अधिक दिए। वैसे, डेरीपास्का अमेरिका के मामलों में दिलचस्पी होने से इनकार करते हैं।
 

सौदे के समर्थकों का कहना है, अालोचक राजनीति कर रहे हैं। उनका कहना है, विदेशी ताकतों से आर्थिक संबंधों से अमेरिका को फायदा है। डोनाल्ड ट्रम्प के राष्ट्रपति बनने के बाद अमेरिकी सरकार ने राष्ट्रीय सुरक्षा के लिए खतरा बनने वाले विदेशी पूंजी निवेश को रोकने कड़ेनियम बनाए थे। लेकिन, रूसी अरबपति की कंपनी से सौदे का राष्ट्रपति की तरफ से कोई विरोध नहीं हुआ। रूसाल और डेरीपास्का पर अमेरिकी प्रतिबंधों की घोषणा से ग्लोबल अर्थव्यवस्था में हलचल मच गई थी। बड़े कॉर्पोरेशनों और यूरोपीय सरकारों ने अमेरिका से रूसाल पर प्रतिबंध हटाने की अपील की थी। जुलाई 2018 में रूसाल पर प्रतिबंध शिथिल कर दिए गए।
(साथ में एलाना अब्राम्सन)
 

COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना