पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App
  • Hindi News
  • National
  • The Atmosphere Of The Democratic Party Against The Rich Rises Against Capitalism

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

पूंजीवाद के खिलाफ जोर पकड़ता माहौल, डेमोक्रेटिक पार्टी का एक खेमा अमीरों के खिलाफ

एक वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
डेमोक्रेटिक राष्ट्रपति पद के उम्मीदवार जो बिडेन ने शनिवार को आयोवा के एक स्कूल में कार्यक्रम को संबोधित किया। - Dainik Bhaskar
डेमोक्रेटिक राष्ट्रपति पद के उम्मीदवार जो बिडेन ने शनिवार को आयोवा के एक स्कूल में कार्यक्रम को संबोधित किया।
  • राष्ट्रपति चुनाव के लिए डेमोक्रेटिक पार्टी की उम्मीदवारों के दावेदार कैपिटलिज्म की बुराइयों को सामने ला रहे हैं
  • डेमोक्रेटिक बनीं सेंडर्स, एलिजाबेथ वारेन और पीट बुटिगिएग ने पूंजीवाद के विरोध को अपना प्रमुख मुद्दा बनाया

1) यूएस और ब्रिटेन में पिछले 40 वर्ष में आमराय रही है

मध्यमार्गी पीट बुटिगिएग ने अभी हाल में कहा है कि अमेरिका और ब्रिटेन में पिछले 40 वर्ष में राजनीतिक, आर्थिक क्षेत्र में नव उदारवाद पर आमराय रही है। इसकी विफलता ने राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प को राजनीति में आने का अवसर दिया है। अब हमें इसके स्थान पर किसी बेहतर विकल्प की जरूरत है। समाजवाद और वामपंथ के तेवरों में नई ऊर्जा से अरबपति और बड़ी कंपनियों के प्रमुख अधिकारी चिंतित हैं। फिर भी, उनमें से कई पूंंजीवाद के संकट पर आवाज उठा रहे हैं। इन्वेस्टमेंट फर्म ब्रिजवाटर एसोसिएट के अरबपति चेयरमैन रे डेलियो ने अप्रैल में चेतावनी दी थी कि अमेरिकी पूंजीवाद की अधिक लोगों को फायदा पहुंचाने में विफलता से राष्ट्रीय आपातकाल सामने आए हैं।

2018 के मध्यावधि चुनावों में डेमोक्रेटिक पार्टी के उम्मीदवारों ने पूंजीवाद के खिलाफ आवाज उठाना शुरू किया था। न्यूयॉर्क की एलेक्जेंड्रिया ओकेसियो कॉर्टेज इनमें सबसे प्रमुख हैं। 2019 में वारेन एंडरसन ने जो एजेंडा पेश किया है, वह बिजनेस के हितों से टकराता है। वारेन और सेंडर्स बड़े कारोबारियों के दुश्मन के रूप में सामने आए हैं। वैसे, अरबपति और न्यूयॉर्क के पूर्व मेयर माइकेल ब्लूमबर्ग ने डेमोक्रेटिक पार्टी की तरफ से दावेदारी प्रस्तुत की है। वे देर से मैदान में आए हैं। उनके आने से वोटरों को लगेगा कि पार्टी पूरी तरह पूंजीवाद के खिलाफ नहीं है।

पूंजीपतियों के खिलाफ बढ़ते माहौल के बीच कुछ उदाहरणों पर गौर करना ठीक होगा। साल के प्रारंभ में अमेजन ने न्यूयॉर्क शहर में अपना दूसरा मुख्यालय खोलने की योजना रद्द कर दी। स्थानीय सरकार ने करोड़ों रुपए की टैक्स रियायतें देने की घोषणा की थी। कई लोगों ने बड़ी कंपनियों को अरबों रुपए की टैक्स रियायत देने पर सवाल उठाए थे। फिर कॉलेजों में रिश्वत लेकर अमीरों के बच्चों को एडमिशन देने का घोटाला सामने आया। अमेरिकी राजनीति पर पूंजीवाद के आलोचकों का कहना था कि हमारा सिस्टम सालों से सड़ रहा है। जुलाई में फेसबुक पर पांच अरब डॉलर का जुर्माना लगाने पर प्रतिक्रिया बहुत अच्छी नहीं थी।

फेसबुक के लिए यह धनराशि मामूली है। जबकि कंपनी पर लोगों के डेटा का दुरुपयोग करने का आरोप है। अरबपति जेफ्री एपस्टीन द्वारा कई लड़कियों से लंबे समय तक दुष्कर्म ने भी लोगों की राय को प्रभावित किया है। जलवायु परिवर्तन पर हमले और उसके पक्ष में छिड़ा अभियान भी नई कहानी कहता है। इस बीच कामगारों को अधिक सुरक्षा देने की मांग उठने लगी है। इन सब स्थितियों के बीच भी सुधारों के लिए अत्यंत संगठित अभियान की जरूरत है। तमाम विरोध के स्वरों के बीच पूंजीवाद के समर्थक पूरी तरह पीछे भी नहीं हटे हैं।

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- आज कोई लाभदायक यात्रा संपन्न हो सकती है। अत्यधिक व्यस्तता के कारण घर पर तो समय व्यतीत नहीं कर पाएंगे, परंतु अपने बहुत से महत्वपूर्ण काम निपटाने में सफल होंगे। कोई भूमि संबंधी लाभ भी होने के य...

और पढ़ें

Open Dainik Bhaskar in...
  • Dainik Bhaskar App
  • BrowserBrowser