Hindi News »Union Territory »Chandigarh »News» High Court Said, Aditya Insaa Is Powerful, Who Has Not Been Caught

हाईकोर्ट ने कहा, आदित्य इंसा माॅडर्न शक्तिमान है, जो पकड़ा नहीं गया

जांच रिपोर्ट पर असंतुष्टि, एसआईटी को लगाई फटकार।

Bhaskar News | Last Modified - Dec 21, 2017, 08:11 AM IST

हाईकोर्ट ने कहा, आदित्य इंसा माॅडर्न शक्तिमान है, जो पकड़ा नहीं गया

चंडीगढ.पंचकूला हिंसा मामले में एसआईटी ने पंजाब एंड हरियाणा हाइकोर्ट में रिपोर्ट पेश की। रिपोर्ट से असंतुष्ट हाईकोर्ट ने मामले में आगामी सुनवाई के लिए 17 जनवरी की तारीख तय की है। आदित्य इंसा की अभी तक गिरफ्तारी होने पर अदालत ने जांच कमेटी को आड़े हाथों लेते हुए कहा कि क्या वो मॉडर्न शक्तिमान है, जो अभी तक पकड़ से बाहर है, पुलिस के हाथ अभी तक खाली क्यों है। डेरे से सर्च के दैारान नष्ट हालात में मिली हार्ड डिस्क पर कोर्ट ने एजी हरियाणा से पूछा, ये अभी तक जांच में शामिल क्यों नहीं की गई।

- रिपोर्ट के मुताबिक बलात्कारी बाबा गुरमीत सिंह को दोषी करार दिए जाने के बाद 25 अगस्त को डेरा समर्थकों ने पंचकूला में बड़े पैमाने पर जो तोड़फोड़, हिंसा और आगजनी की घटनाएं हुई थीं उनकी प्लानिंग पहले से की गई थी।

- हनीप्रीत ने पहले डेरा मुख्यालय में एक मीटिंग बुलाई थी। इसमें बाबा के सभी राजदार और खास लोगों को भी बुलाया गया था। इसमें तय किया गया था कि अगर बाबा को दोषी करार दिया जाता है तो सरकार पर दबाव बनाने के लिए किस तरह के कदम उठाए जाएंगे, ताकि सरकार पर दबाव बनाया जा सके। मीटिंग में तय किया कि अगर बाबा को दोषी करार दिया तो किसकी क्या ड्यूटी होगी और किस तरह से बाबा के श्रद्धालुओं को दंगे के लिए भड़काया जाएगा।

समर्थकों को दंगे के लिए दिए गए कोड वर्ड
- हाईकोर्ट को बताया कि डेरे की ओर से समर्थकों को टमाटर फोड़ना, झाड़ू किस तरफ निकालनी है, जैसे कोड वर्ड से निर्देश दिए जा रहे थे। हाईकोर्ट को बताया कि पंचकूला में हिंसा और दंगे करने के लिए 1.25 करोड़ रुपए जारी किए गए थे। यह राशि पंचकूला के स्थानीय मुखी चमकौर सिंह को दी गई थी।

पूर्व नियोजित थे दंगे

पंचकूला के हैफेड चौक पर आदित्य इंसा, सुरिंदर धीमान, पवन इंसा, गोबिंद और मोहिंदर ने समर्थकों के साथ 25 अगस्त को डेरा मुखी के मामले में फैसला आने से पहले ही इन दंगों, तोड़फोड़, हिंसा और आगजनी की तैयारी कर ली थी। हाईकोर्ट को बताया गया कि जांच के दौरान चमकौर सिंह ने 25 लाख बरामद हुए थे। अदालत को बताया कि यह दंगे पूर्व नियोजित थे और डेरा मुखी को चंडीगढ़ लाए जाते समय वाहनों में इसी योजना के चलते हथियार लाए गए थे।

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From News

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×