--Advertisement--

शादी के 4 महीने बाद ही 40 लाख हड़प कर भाग गया दूल्हा, एक ही साड़ी पहनाता था सभी लड़कियों को

10 रु. के स्टांप पर लिखकर देता है- नहीं लूंगा दहेज, शादी के 15 दिन बाद ही बहन की शादी का रचा था खेल

Danik Bhaskar | May 23, 2018, 06:44 AM IST
नोएडा में शादी के बाद आरती को गिफ्ट की साड़ी। नोएडा में शादी के बाद आरती को गिफ्ट की साड़ी।

नोएडा. अगर आपको मेट्रिमोनियल वेबसाइट से रिश्ता आए तो उसके हर दावे का वेरिफिकेशन जरूर करा लें। ऐसा न करने पर आप भी नोएडा की स्टाफ नर्स की तरह ठगी का शिकार हो सकती हैं। वह खुद को एक ऑनलाइन वेबसाइट पोर्टल का मालिक बताता था। कहता था कि माता-पिता की सड़क हादसे में मौत हो चुकी है। वह गर्लफ्रेंड को बहन बताकर परिचय कराता था। उसने शादी डॉट कॉम से स्टाफ नर्स से संपर्क किया और फिर झांसे में लेकर शादी रचा ली।

ये था पूरा मामला...

आदमी शादी के 4 महीने के भीतर ही 40 लाख रु. हड़पकर भाग निकला। इन दोनों पर 2011 से लेकर अब तक मेरठ, चंडीगढ़ और नोएडा में फर्जीवाड़े के केस दर्ज हो चुके हैं लेकिन गिरफ्तारी नहीं हुई है। नोएडा सेक्टर-24 थाने में 23 सितंबर 2017 में फर्जीवाड़े की रिपोर्ट दर्ज कराई गई लेकिन पुलिस ने अभी तक आरोपी को अरेस्ट नहीं किया है।

ऐसे फंसाता है...10 रु. के स्टांप पर लिखकर देता है- नहीं लूंगा दहेज

नोएडा सेक्टर-73 में रह चुके जालसाज और लुटेरे दूल्हे का नाम है- तरुण शर्मा। उम्र - 39 साल। वैसे इसके कई आधार और पैन कार्ड भी मिले हैं। वह बुलंदशहर का रहने वाला है और अनाथ है। उसने 2017 में आप को ऑनलाइन पोर्टल वेबसाइट का मालिक बताते हुए शादी डॉट कॉम पर प्रोफाइल बनाया था। इसके बाद स्टाफ नर्स की जॉब करने वाली आरती से संपर्क किया।

तरुण को पता चला कि आरती की मां सरकारी नौकरी करती हैं तो उसने बिना दहेज ही शादी का प्रस्ताव दिया। यह भी बताया कि उसके माता-पिता की 2010 में सड़क हादसे में मौत हो गई थी और चाचा-चाची परेशान करते हैं इसलिए वह अपनी बहन के साथ रहता है। स्टांप पेपर पर लिखा था कि वह दहेज नहीं लेगा सिर्फ एक अंगूठी और 1 जोड़ा कपड़े ले लेगा।

ऐस करता था नाटक... शादी के 15 दिन बाद ही बहन की शादी का खेल रचा

आरती ने बताया कि तरुण शर्मा के झांसे में आकर मां ने शादी के लिए सहमति दे दी। इसके बाद नोएडा में 18 अप्रैल 2017 को शादी हो गई। सेक्टर-71 के फ्लैट में रहने लगे। 15 दिन बाद कथित बहन दुर्गांशु किसी लड़के के साथ चली गई। तरुण ने बताया कि बहन को ब्लैकमेल किया जा रहा है, इसलिए ये सेक्टर-34 में फ्लैट लेकर रहने लगे। वह बहन को ले आया और फिर मां को रिटायरमेंट में मिलने वाले पैसे को निवेश कराने के नाम पर नोएडा में प्लॉट दिलाने का झांसा दिया।

1 महीने बाद प्लॉट दिखाया और खुद साढ़े 3 लाख बयाना देने की बात कही। उसने प्लॉट को 40 लाख रु. देने को 3 चेक पर साइन करा लिए और उसे अकाउंट में ट्रांसफर करा लिया। वह 14 सितंबर 2017 को कथित बहन के साथ कीमती सामान और कार लेकर फरार हो गया।

ऐसे मिला सुराग... मेमोरी कार्ड से पता चला कि माता-पिता दोनों अभी जिंदा हैं


घर छोड़कर सभी सामान लेकर भागने के दौरान तरुण ने घर पर कोई भी कागजात नहीं छोड़ा था। इसलिए सिर्फ पैसे हड़पने के संबंध में उसके खिलाफ नोएडा में रिपोर्ट दर्ज कराई गई थी। काफी दिन बाद तरुण के फोन का एक मेमोरी कार्ड मिल गया। उसे देखने पर उसकी पोल खुली। उसमें पता चला कि चंडीगढ़ की एक लड़की को शादी का झांसा देकर उसने जो उसे साड़ी पहनाकर फोटो खिंचवाई थी, वही साड़ी तरुण ने आरती को मुंह दिखाई में दी थी। इसे वह अपनी बहन बताता था।

दरअसल वह उसे देहरादून से 2007 में ही लेकर भाग आया था। यही नहीं, उसके माता-पिता के साथ भी फोटो मिल गई। इस बारे में जानकारी जुटाई तो पता चला कि उसके माता-पिता दोनों जीवित हैं और बुलंदशहर में रहते हैं।

अगर मेट्रिमोनियल साइट पर दूल्हा या दुल्हन ढूंढ रहे हैं तो सावधान रहें

- शख्स की पढ़ाई से संबंधित मार्कशीट और सभी सरकारी कागजातों को जरूर देख लें।

- कोई माता-पिता न होने की बात कहे तो स्थायी पता भी वेरिफाई कर लें।

- अगर कोई अपने कागजात को लेकर स्टांप या एफिडेविट दे तो गंभीरता से जांच कराएं।

आरती से पहले यही साड़ी इसे भी पहना चुका है। आरती से पहले यही साड़ी इसे भी पहना चुका है।
दोनों के लिए निकला वांटेड का एड। दोनों के लिए निकला वांटेड का एड।

Related Stories