Hindi News »Union Territory »Chandigarh »News» 40 Million Jewelery And Cash In The Closed Flat Of The Retired Officer

एटीएस में रिटायर्ड कर्नल और बैंक मैनेजर के बंद फ्लैट में चोरी, 40 लाख की ज्वेलरी और कैश चुराया

डेराबस्सी में एटीएस प्रोजेक्ट परल्यूट टावर्स में वारदात

Bhaskar News | Last Modified - Jun 15, 2018, 06:45 AM IST

एटीएस में रिटायर्ड कर्नल और बैंक मैनेजर के बंद फ्लैट में चोरी, 40 लाख की ज्वेलरी और कैश चुराया

डेराबस्सी, चंडीगढ़. एटीएस अपार्टमेंट्स के परल्यूट टावर्स के दो बंद फ्लैट्स के ताले तोड़कर चोर लाखों रुपए के गहने और नकदी समेट फरार हो गए। दाेनों फ्लैट एक ही टावर नंबर-10 में हैं। एक फ्लैट रिटायर्ड कर्नल का है, जबकि दूसरा बैंक मैनेजर का। एटीएस अपार्टमेंट्स में तीसरी मंजिल पर 1034 नंबर फ्लैट रिटायर्ड कर्नल टीएस कालरा का है। वे करीब 1 महीने से दिल्ली गए हुए हैं। कर्नल कालरा की बेटी गुरप्रीत आहलुवालिया इसी अपार्टमेंट में टावर नंबर-11 में रहती हैं।

- उन्होंने बताया कि घर में करीब 40 लाख रुपए के गहने और 60 हजार रुपए की नकदी गायब है। चोरों ने दूसरा शिकार इसी टावर में फ्लैट नंबर 1064 को बनाया, जिसके मालिक विक्रम कुमार एक्सिस बैंक की अंबाला ब्रांच में मैनेजर हैं।

- विक्रम 9 जून से जबलपुर गए हुए हैं। उन्होंने कहा है कि वापस लौट कर चेक करने पर ही असली नुकसान के बारे में बता पाऊंगा।

पुलिस बुलाई 2 बजे...

-प्रोजेक्ट के फैसिलिटी मैनेजर गुरप्रीत सिंह के अनुसार सुबह करीब 11 बजे सफाई कर रहे कर्मियों ने फ्लैट का लॉक टूटा मिला। इसके बाद गार्ड को सूचित किया। उसने आगे सीनियर फैसिलिटी मैनेजर संदीप को सूचना दी।

- गुरप्रीत के अनुसार डेढ़ बजे सूचना मिलने पर वे मौके पर पहुंचे, जिसके बाद पुलिस को सूचित किया गया। चोरों ने फ्लैट के मेनडोर समेत सभी अलमारियों व सेफ के ताले तोड़ चोरियां अंजाम की हैं। ड्रेसिंग टेबल से लेकर बेड सहित से सामान निकालकर तसल्ली से तालाशी लेकर कीमती सामान खंगाला गया।

परल्यूड टावर्स में 300 परिवार रहते हैं, मेंटेनेंस चार्ज भी ज्यादा फिर भी सिक्योरिटी नहीं: एसोसिएशन

- बंद फ्लैट्स के ताले तोड़ लाखों के गहने, नकदी चोरी

- शहर के सबसे हाईफाई हाउसिंग प्रोजेक्ट एटीएस अपार्टमेंट्स के परल्यूट टावर्स के 2 बंद फ्लैट्स के ताले तोड़ चोर लाखों रुपए के गहने और नकदी समेत फरार हो गए। अपार्टमेंट की रेजिडेंशियल एसोसिएशन के उपप्रधान राजधन, महासचिव डॉ. आनंद, सदस्य बलजीत कारकौर व गौरव सिंगला ने बताया कि परल्यूड टावर्स में करीब 300 साधन संपन्न परिवार रहते हैं।

- सोसायटी में रहने के पीछे लोगों का सबसे बड़ा कारण सामाजिक, आर्थिक व नागरिक सिक्योरिटी है, लेकिन सिक्योरिटी के पुख्ता इंतजाम नहीं हैं। इस अपार्टमेंट में मासिक मेंटेनेंस चार्ज 5 हजार रुपए से लेकर 7 हजार रुपए तक है जो डेराबस्सी में सबसे महंगे हैं।

- प्रबंधकों को 20 लाख रुपए से ज्यादा मेंटेनेंस शुल्क हर महीने इकट्ठा होता है। उन्होंने कहा कि चोरी बड़ी सुनियोजित तरीके से की गई और सीसीटीवी फुटेज में कहीं कुछ नजर नहीं आ रहा। चोरी का सुबह पता चलने पर पुलिस को 5 घंटे बाद बुलाया गया। एसोसिएशन कई बार सिक्योरिटी समेत नागरिक सुविधाओं में कमी को लेकर प्रबंधकों को लिखित में शिकायत दे चुकी है, लेकिन प्रबंधकों ने इसे गंभीरता

से नहीं लिया।

सीसीटीवी फटेज खंगाल रही पुलिस...

- मैनेजर गुरप्रीत के अनुसार हर टावर में 3 सीसीटीवी कैमरे लगे हैं, जिनका कंट्रोल सीनियर फैसिलिटी मैनेजर संदीप के पास है। उन्होंने दावा किया कि सभी वर्किंग कंडिशन में ही हैं। चोरी रात के समय हुई है।

- थाना प्रभारी मोहिंदर सिंह के अनुसार सीसीटीवी कैमरों की फुटेज खंगाली जा रही है जिसकी सहायता से संदिग्ध लोगों से पूछताछ भी शुरू हो गई है। जल्द ही चोर पकड़े जाएंगे। फ्लैट मालिकों के आने पर उनके मुताबिक शिकायत दर्ज की जाएगी।

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए Chandigarh News in Hindi सबसे पहले दैनिक भास्कर पर | Hindi Samachar अपने मोबाइल पर पढ़ने के लिए डाउनलोड करें Hindi News App, या फिर 2G नेटवर्क के लिए हमारा Dainik Bhaskar Lite App.
Web Title: eties mein ritaayrd karnl aur bank manager ke band flait mein chori, 40 laakh ki jvelri aur kaish churaayaa
(News in Hindi from Dainik Bhaskar)
Reader comments

More From News

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×