--Advertisement--

दृश्यम मूवी में अजय के किरदार जैसा है ये पति, वाइफ का मर्डर कराकर ऐसे सीन किए क्रिएट

फिल्मी स्टाइल में पुलिस को इतने दिन गुमराह करता रहा लॉयर

Danik Bhaskar | Feb 09, 2018, 05:56 AM IST

पंचकूला. 16 जनवरी से संदिग्ध हालत में गायब हुई एडवोकेट मनमोहन की पत्नी रजनी के मर्डर मामले में अभी भी पुलिस को डेड बॉडी नहीं मिली है। पंचकूला पुलिस मनमोहन के 11 दिनों के रिमांड के बाद भी उससे डेड बॉडी के बारे में सच उगला नहीं पाई है। नतीजतन गुरूवार को पंचकूला कोर्ट ने उसे न्यायिक हिरासत में भेज दिया। अब पुलिस उससे कुछ पूछताछ भी नहीं कर पाएगी। जबकि इस मामले में ही मनमोहन की प्रेमिका और मर्डर की दूसरी आरोपी रजनी और उसका जीजा पहले से ही न्यायिक हिरासत में चल रहे हैं। बता दें कि मनमोहन मूवी दृश्यम मूवी की तर्ज पर ही पुलिस को घुमा रहा है। ये था मामला...

- शादी के बावजूद एडवोकेट मनमोहन का मोनिका से अफेयर के कारण साजिश रचकर लॉयर मनमोहन ने अपनी ही बीवी का कत्ल करवा दिया।

- लॉयर की जानकार मोनिका और उसके जीजा संदीप ने 16 जनवरी को कत्ल को अंजाम दिया। रजनी का शव सेक्टर-23 के डंपिंग ग्राउंड पर ही फेंक दिया।

- यहां शव फेंकने पर मनमोहन ने मोनिका को गाली भी दी थीं कि उसने लाश को यहीं क्यों फेंका।

- फिर यूपी से अपने दोस्त इमशाद अली को बुलाकर बीवी की लाश ठिकाने लगाने का जिम्मा दिया।

रजनी को बंदर देखने को कहा व पीछे से गले में डाल दी थी रस्सी : मोनिका

- मोनिका ने अपने बयानों में कहा है- मैंने रजनी को शीशे की ओर बंदर देखने को कहा और पीछे से रस्सी उठाकर उसके गले में डाल दी।

- जब वह बचाव करने लगी तो संदीप ने लातों पर दबाव देकर उसकी बाजुओं को पकड़ लिया। चंद मिनटों में ही रजनी ने दम तोड़ दिया।

- पुलिस के मुताबिक मोनिका की कार में प्लास्टिक की वह रस्सी मौजूद हो सकती है जिससे रजनी का गला दबाया गया।

क्या नार्को या लाई डिटेक्टर टेस्ट तोड़ पाएगा ये सम्मोहन?

- मनमोहन पहले भी पुलिस रिमांड में रह चुका है। शायद यही वजह रही कि 11 दिन के रिमांड के बाद भी पुलिस उससे सच निकाल नहीं पाई। अब पंचकूला पुलिस और रजनी के घरवालों को एक ही उम्मीद बची है वो है लाई डिटेक्टर टेस्ट व ब्रेन मैपिंग पर।

- मनमोहन के ये टेस्ट करवाने के लिए पंचकूला पुलिस ने कोर्ट में एप्लीकेशन दायर की है। इस पर 12 फरवरी काे सुनवाई होगी।
- एसपी क्राइम आदर्शदीप का कहना है कि हमारे पास पुख्ता सबूत हैं कि मनमोहन इस मर्डर केस का मास्टरमाइंड है। इसलिए हमने कोर्ट में एप्लीकेशन दी है कि हम उसका लाई डिटेक्टर टेस्ट और ब्रेन मैपिंग टेस्ट करवाना चाहते हैं।
- रजनी का मां का कहना है कि इस मामले की सीबीआई जांच होनी चाहिए। हम गरीब हैं इसका मतलब ये नहीं कि हमें न्याय न मिले। मेरी बेटी की डेड बॉडी तो दे दो, ताकि हम उसका अंतिम संस्कार ठीक से कर सकें।