--Advertisement--

न पुलिस केस दर्ज कर रही, न चाइल्ड राइट्स कमीशन ले रहा है कोई एक्शन

पॉलिटिकल कनेक्शन बताई जा रही वजह, एबीवीपी से जुड़ा रहा है आरोपी लेक्चरर

Danik Bhaskar | Dec 28, 2017, 07:34 AM IST
डेमोफोटो डेमोफोटो

चंडीगढ़. स्कूल में टीन शेड गिरने जैसे मामलों में संज्ञान लेने वाला चंडीगढ़ कमीशन फॉर प्रोटेक्शन ऑफ चाइल्ड राइट्स (सीसीपीसीआर) 11वीं की तीन स्टूडेंट्स से हुई शारीरिक छेड़छाड़ के मामले में खामोश है। न इस मामले में अभी तक स्टूडेंट्स या उनके पेरेंट्स से बात की गई है, न ही स्कूल या पुलिस को समन किया गया है। इसके पीछे आरोपी बिमल कुमार का पॉलिटिकल कनेक्शन बताया जा रहा है।

स्कूल में लेक्चरर बिमल पहले एबीवीपी से जुड़ा रहा है। बिमल और लैब अटेंडेंट पर तीन स्टूडेंट्स ने शारीरिक छेड़छाड़ की शिकायत दी थी, जिसके बाद एजुकेशन डिपार्टमेंट की कमेटी ने दोनों को सस्पेंड कर दिया था। डिपार्टमेंट ने इस साल मई में पुलिस को भी एफआईआर दर्ज करने को कहा था, लेकिन आज तक केस नहीं दर्ज किया गया। सीसीपीसीआर का गठन बच्चों को प्रोटेक्शन देने के मकसद से ही किया गया था। कमीशन को अधिकार दिए गए थे कि पॉक्सो एक्ट जैसे गंभीर मसले में पुलिस को भी समन दे सकते हैं। कमीशन की चेयरपर्सन हरजिंद्र कौर का कहना है कि ये मामला पुराना है इसलिए कमीशन ने इसमें समन नहीं किया। इस मामले में कुछ इंटरनल अपडेट्स हैं जो बाद में शेयर किए जाएंगे। एजुकेशन डिपार्टमेंट ने पहले ही इस मामले में कमेटी गठित कर टीचर और लैब अटेंडेंट को सस्पेंड कर दिया है, पुलिस में भी शिकायत दे दी है।