Hindi News »Union Territory News »Chandigarh News »News» A Girl Win 100 Medal In Three Year

3 साल में अक्षिता ने स्केटिंग में जीते 100 मेडल, जीत के पीछे छिपी है माता-पिता की मेहनत

Bhaskar news | Last Modified - Feb 12, 2018, 07:43 AM IST

चेन्नई में ओपन नेशनल गेम्स में अंडर-12 स्केटिंग में पार्टीसिपेट करते हुए गोल्ड मेडल और सिल्वर मेडल जीता।
3 साल में अक्षिता ने स्केटिंग में जीते 100 मेडल, जीत के पीछे छिपी है माता-पिता की मेहनत

मोहाली. सिर्फ 3 साल की प्रेक्टिस में ही मोहाली की 11 साल की अक्षिता ने 100 से ज्यादा मेडल अपने नाम करके न सिर्फ अपने स्केटिंग कोच गौरव रहेजा का नाम रोशन किया, बल्कि माता-पिता का भी सिर फर्क से ऊंचा कर दिया है। सेक्टर-71 की अक्षिता ने हालही में चेन्नई में ओपन नेशनल गेम्स में अंडर-12 स्केटिंग में पार्टीसिपेट करते हुए गोल्ड मेडल और सिल्वर मेडल जीता। अक्षिता की मां दविंदर कौर ने बताया 3 साल पहले अक्षिता ने स्केटिंग शुरू की थी। अक्षित रेयान इंटरनेशनल स्कूल में 6वीं क्लास की स्टूडेंट है और अब तक स्केटिंग में वो अंडर-12 और
14 ग्रुप में खेलते हुए 100 से ज्यादा मेडल जीत चुकी है। अक्षिता के पिता प्रकाश बिष्ट ने बताया कि अक्षिता ने महज
टाइम पास करने के लिए स्केटिंग ज्वॉइन की थी। उन्होंने बताया कि धीरे-धीरे वो अपनी गेम में काफी इंप्रूव करने लगी। उन्होंने बताया कि अक्षिता रोजाना 2 घंटे फेज-10 के एक प्राइवेट स्कूल में प्रेक्टिस करती है।

सोचा था बेटी खेलेगी तो हेल्थ अच्छी रहेगी

अक्षिता की मां दविंदर कौर ने बताया उन्होंने अपनी बेटी को घर में बैठा कर खिलौनों से खिलाना ठीक नहीं समझा बल्कि वो सोचते थे कि अगर बेटी घर में बैठकर खेलने की बजाए ग्राउंड में जाकर कोई गेम खेले तो इससे न सिर्फ उसकी हेल्थ अच्छी रहेगी और साथ ही वो एक अच्छी स्पोर्ट्स वुमन भी बन सकती है। इसके लिए उन्होंने अक्षिता को कोई गेम ज्वाॅइन करवाने के बारे में सोचा था, लेकिन स्केटिंग ज्वाॅइन करने के लिए अक्षिता ने ही कहा था। जिसके बाद उसे उसकी फेवरेट गेम ज्वाॅइन करवाई गई।

जीत के पीछे छिपी है माता-पिता की मेहनत...जितनी मेहनत अक्षिता ने ग्राउंड में की उससे ज्यादा संघर्ष उनके माता-पिता ने ग्राउंड के बाहर अपनी डेली लाइफ में किया। अक्षिता के पिता उसे सुबह-शाम प्रेक्टिस के लिए लेकर जाते हैं।

ओलंपिक्स जाकर मेडल जीतना लक्ष्य...अक्षिता ने बताया उसका लक्ष्य नेशनल तक ही सीमित नहीं है। वो आइस स्केटिंग में ओलंपिक्स तक जाकर अपने देश के लिए गोल्ड मेडल जीतना चाहती है।

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए Chandigarh News in Hindi सबसे पहले दैनिक भास्कर पर | Hindi Samachar अपने मोबाइल पर पढ़ने के लिए डाउनलोड करें Hindi News App, या फिर 2G नेटवर्क के लिए हमारा Dainik Bhaskar Lite App.
Web Title: 3 saal mein aksitaa ne sketinga mein jeete 100 medl, jeet ke pichhe chhipi hai maataa-pitaa ki mehnt
(News in Hindi from Dainik Bhaskar)

Stories You May be Interested in

      More From News

        Trending

        Live Hindi News

        0
        ×