--Advertisement--

नशे को प्रमोट करने वाले पंजाबी सॉन्ग सिंगर पर दर्ज होगा केस, कमीशन बनाने का एलान

अगर वे फिर भी न मानेतो उनके खिलाफ धारा 290 और 294 के तहत एफआईआर दर्ज कराई जाएगी।

Danik Bhaskar | Apr 01, 2018, 09:19 AM IST
यह ऐलान सांस्कृतिक मंत्री नवज यह ऐलान सांस्कृतिक मंत्री नवज

चंडीगढ़. नशे और हथियारों को प्रमोट करने वाले लचर गीत गाकर पंजाब के युवाओं पर बुरा असर डाल रहे पंजाबी कलाकारों पर सरकार ने शिकंजा कसने का फैसला कर लिया है। इसके लिए सरकार पंजाब सभ्याचारक कमीशन का गठन करने जा रही है। इस बारे में ड्राफ्ट दो हफ्ते में तैयार कर लिया जाएगा और कमीशन काम शुरू कर देगा। यह ऐलान सांस्कृतिक मंत्री नवजोत सिंह सिद्धू ने शनिवार को किया। उन्होंने बताया कि यह कमीशन लचर गीत गाने वालों को नोटिस देगा। अगर वे फिर भी न मानेतो उनके खिलाफ धारा 290 और 294 के तहत एफआईआर दर्ज कराई जाएगी। ऐसे कलाकारों को अधिकतम तीन साल कैद का प्रावधान है।

सीएम चीफ पैटर्न और सिद्धू होंगे पैटर्न

सिद्धू ने दोहराया कि मुख्यमंत्री इस आयोग के पैटर्न इन चीफ और वह खुद पैटर्न होंगे। आयोग के बाकी सदस्यों के नाम प्रस्तावित करने के अधिकार पंजाब कला परिषद के चेयरमैन पद्मश्री डा. सुरजीत पातर को सौंपे गए हैं जोकि इस आयोग के चेयरमैन होंगे। सिद्धू ने कहा कि आयोग अपनी रिपोर्ट 2 सप्ताह में देगा और यह रिपोर्ट मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह के पास पेश की जाएगी। उन्होंने कहा कि कैप्टन अमरिंदर सिंह के नेतृत्व वाली सरकार पंजाब की आने वाली पीढ़ी को बचाने के लिए मन से वचनबद्ध है। यह यकीनी बनाया जाएगा कि आम लोग साफ सुथरे गीत अपने परिवारिक सदस्यों के साथ बैठ कर सुन सके।

कमीशन तय करेगा, कौन सा गीत लचर

पंजाब सभ्याचारक कमीशन खुद यह तय करेगा कि कौन सा गीत लचर है और कौन सा नहीं। कमीशन में कला और साहित्य से जुड़े लोगों को रखा जाएगा, जो इस बारे में फैसला लेंगे। सिद्धू ने बताया कि जो लोग लचर गीतों को सोशल मीडिया या नेट पर डालते हैं, वो भी इस दायरे में आएंगे। इस मौके पर गुरप्रीत सिंह घुग्गी और पम्मी बाई भी मौजूद थे। सिद्धू ने पहले इस बारे में कलाकारों और अफसरों से मीटिंग की, जिसके बाद कमीशन बनाने का ऐलान किया गया।