चंडीगढ़ समाचार

--Advertisement--

जेटली के करीबी श्वेत मलिक पंजाब भाजपा अध्यक्ष, सांपला को हटाया

पार्टी ने खेला था दलित कार्ड, गुटबाजी नहीं रोक पाए सांपला

Danik Bhaskar

Apr 01, 2018, 07:52 AM IST
पार्टी ने खेला था दलित कार्ड, गुटबाजी नहीं रोक पाए सांपला (श्वेत मलिक) पार्टी ने खेला था दलित कार्ड, गुटबाजी नहीं रोक पाए सांपला (श्वेत मलिक)

चंडीगढ़/अमृतसर/जालंधर/ नई दिल्ली. केंद्रीय मंत्री और पंजाब भाजपा के प्रधान विजय सांपला को तीन साल का कार्यकाल पूरा होने से पहले ही ओहदे से हटा दिया गया है। भाजपा हाईकमान ने केंद्रीय वित्त मंत्री अरुण जेटली के काफी करीबी राज्यसभा सांसद श्वेत मलिक को सूबे का नया प्रधान बनाया है। वह आरएसएस के भरोसेमंद माने जाते हैं। पद की दौड़ में राष्ट्रीय सचिव तरुण चुघ और पूर्व मंत्री मनोरंजन कालिया का नाम भी शामिल था। खत्री समुदाय से संबंध रखने वाले श्वेत मलिक साल 2007 से 2012 तक अमृतसर के मेयर भी रहे हैं। 2014 के लोकसभा चुनाव में उनकी पार्टी कैंडिडेट रहे अरुण जेटली से नजदीकी बढ़ी थी। मलिक को प्रधान बनाने की घोषणा शनिवार को भाजपा प्रधान अमित शाह ने दिल्ली में की।

आरएसएस से जुड़ा रहा है मलिक का परिवार

- श्वेत मलिक के पिता दिवंगत रजिंदर मलिक आरएसएस के प्रचारक रहे हैं। मलिक 1994-1999 तक जिला भाजपा युवा मोर्चा के प्रधान, 1999 से 2002 तक राष्ट्रीय कार्यकारिणी के सदस्य रहे। इसके बाद 2016 में उन्हें प्रदेश भाजपा प्रवक्ता, लुधियाना जिला प्रभारी और प्रेसिडेंशियल इलेक्शन आॅफ इंडिया फाॅर पंजाब की भी जिम्मेदारी दी गई थी। 2012 के निगम चुनाव में वह मेयर रहते हुए पार्षद का चुनाव हार गए थे।

वक्त से पहले पद से हटाने की वजहें...

- सांपला के प्रधान बनने के बाद विस चुनाव में भाजपा ने 23 सीटों पर गठबंधन कर चुनाव लड़ा था, जबकि सिर्फ तीन उम्मीदवार ही जीत पाए।

- सांपला पार्टी में गुटबाजी को भी नहीं रोक पाए। पार्टी सूत्र बताते हैं कि उनके खिलाफ बदले की भावना से काम करने की शिकायतें भी मिल रही थीं।

- सांपला के आने के बाद भी उम्मीद के मुताबिक दलितों में पार्टी का आधार नहीं बढ़ पाया। दलितों को लेकर स्थिति जस की तस बनी हुई है।

मेरे पास काफी जिम्मेदारियां थीं, जिन्हें साथ-साथ निभाना मुश्किल था। मुझे एक साल के लिए प्रधान बनाने की बात हुई थी। पद छोड़ने के लिए मैं पहले ही कह चुका था। अब पूरी तरह अपने हलके पर फोकस करूंगा।

-विजय सांपला, सांसद

तीन महीने पहले ही हो  गई थी हटाने की तैयारी (विजय सांपला) तीन महीने पहले ही हो गई थी हटाने की तैयारी (विजय सांपला)
Click to listen..