--Advertisement--

डॉक्टर से छेड़छाड़, किडनैपिंग की कोशिश में कॉन्स्टेबल और दो स्टूडेंट हुए अरेस्ट

किडनैपिंग की कोशिश के आरोपी विकास बराला को आज तक नहीं मिली है जमानत, पर लोग सबक नहीं लेते...

Dainik Bhaskar

Dec 19, 2017, 08:34 AM IST
डेमोफोटो डेमोफोटो

चंडीगढ़. हरियाणा कैडर के आईएएस अफसर के बेटी का पीछा करने, रास्ता रोककर छेड़छाड़ और किडनैपिंग की कोशिश 4 अगस्त को हुई थी। तब से लेकर आज तक आरोपी विकास बराला को जमानत नहीं मिली है। विकास हरियाणा भाजपा के अध्यक्ष सुभाष बराला का बेटा है। पर लोगों ने इस घटना से सबक नहीं लिया।

रविवार को सहेली को छोड़कर घर जा रही 44 साल की डॉक्टर का पीछा करने, छेड़छाड़ और किडनैपिंग की कोशिश के आरोप में पुलिस ने पंजाब पुलिस के कॉन्स्टेबल जसकरण सिंह, एसडी कॉलेज के स्टूडेंट्स कर्मबीर सिंह और गुरदास सिंह को गिरफ्तार किया है। जसकरण और गुरदास बठिंडा के रहने वाले हैं, जबकि कर्मबीर फाजिल्का का। तीनों सेक्टर-63 में किराये पर रहते हैं। जसकरण मोहाली पुलिस में है। कर्मबीर और गुरदास बीए कर रहे हैं। तीनों ने रविवार रात सेक्टर-35 में कार सवार डॉक्टर का पीछा शुरू किया। कोर्ट ने तीनों को एक दिन के पुलिस रिमांड पर भेजा है।

चार किलोमीटर तक पीछा, लेडी डॉक्टर बची क्योंकि...

1. कार लॉक थी- रास्ता रोका पर आरोपी दरवाजा नहीं खोल पाए

2. मोहाली के सुनसान रास्ते पर न जाकर सेक्टर-35 गईं

रविवार रात साढ़े 12 बजे यह डॉक्टर अपनी सहेली को सेक्टर-35 में छोड़कर कार से मोहाली सेक्टर-67 में अपने घर जा रही थी। इनोवा कार सवार तीनों आरोपियों ने उनका पीछा शुरू कर दिया। सेक्टर 34-35 लाइट प्वाइंट पर डॉक्टर को एहसास हुआ कि उनका पीछा किया जा रहा है। लेडी डॉक्टर 34-35 लाइट प्वाइंट से साउथएंड चौक तक गई, फिर 33-45 लाइट प्वाइंट पर पहुंची और यू-टर्न लिया। फिर साउथएंड चौक तक चल पड़ी। पीछा जारी था। इसी रास्ते में आरोपियों ने अपनी कार डॉक्टर की कार के आगे लगाकर उनका रास्ता रोक दिया। आरोपियों ने उनकी कार का दरवाजा खोलने की कोशिश भी की, लेकिन कार लॉक थी इसिलए आरोपी अपने मकसद में कामयाब नहीं हो सके। इतने में डॉक्टर ने कार बैक करके भगा ली। इसके बाद भी आरोपी पीछा करते रहे। इसके बाद डॉक्टर ने दिमाग से काम लिया और मोहाली जाने के बजाय सेक्टर-35 के बाहर एक शोरूम के बाहर तक पहुंचीं। चूंकि मोहाली तक जानेवाले रास्ते सुनसान थे, जबकि यह शोरूम रात तक खुला रहता है। यहीं डॉक्टर ने अपनी कार से ही 100 नंबर डायल कर दिया और पुलिस को आरोपियों की गाड़ी का नंबर और मेक भी बता दिया। इसके बाद आरोपियों ने लड़की का पीछा करना छोड़ दिया। माना जा रहा है कि उन्होंने उसे फोन करते देख लिया था। उधर, पीसीआर से कार का नंबर फ्लैश हुआ और आरोपी सेक्टर-35 में पकड़े गए।

इन धाराओं में केस दर्ज

पुलिस ने लड़की के घर जाकर शिकायत ली है। तीनों आरोपियों के खिलाफ धारा 354डी यानी पीछा करना, 341 रास्ता रोकना, 365 और 511 किडनैपिंग की कोशिश के तहत एफआईआर दर्ज की है।

कार भी बरामद की पुलिस ने

तीनों युवकों ने लड़की का पीछा किया था। उन्हें थोड़ी ही देर में पकड़ लिया गया था। शिकायत के आधार पर जो धाराएं बनती हैं उनके तहत एफआईआर रजिस्टर कर दी गई है। कार को बरामद कर लिया गया है।
-नसीब सिंह, एसएचओ सेक्टर 36 थाना

X
डेमोफोटोडेमोफोटो
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..