Hindi News »Union Territory »Chandigarh »News» HCS Paper Leak Also Had Tear Off The Ancestor Sheets

HCS पेपर लीक में आन्सर शीट्स से भी हुई थी छेड़छाड़, जज को पता था पर मुंह बंद रखने को कहा

2400 पेजों की चार्जशीट से खुलासा...

Bhaskar News | Last Modified - Jan 18, 2018, 05:25 AM IST

  • HCS पेपर लीक में आन्सर शीट्स से भी हुई थी छेड़छाड़, जज को पता था पर मुंह बंद रखने को कहा

    चंडीगढ़.हरियाणा के 109 जजों की भर्ती के लिए सिर्फ पेपर ही लीक नहीं हुए थे, बल्कि आन्सर शीट्स (ओएमआर शीट्स) से भी छेड़छाड़ की गई थी। रिजल्ट आने से पहले ही पंजाब एंड हरियाणा हाईकोर्ट के ऑफिस सुपरिंटेंडेंट ईश्वर सिंह ने इसकी जानकारी मुख्य आरोपी हाईकोर्ट के पूर्व रजिस्ट्रार व जज बलविंदर शर्मा को दी थी। शर्मा ने उन्हें चुप रहने को कहा था। इस केस में 2400 पेजों की चार्जशीट से यह खुलासा हुआ है। ईश्वर सिंह केस में पुलिस के मुख्य गवाह हैं।

    जहां पेपर रखे थे उस रूम के बाहर गार्ड देख गुस्से में आ गए थे शर्मा, हटवा दिया था गार्ड...

    पुलिस इंटेरोगेशन में हाईकोर्ट के असिस्टेंट रजिस्ट्रार वजिंदर सिंह ने बताया कि पेपर कंडक्ट करवा रहे सुपरिंटेंडेंट ईश्वर सिंह ने हाईकोर्ट के प्रिंटिंग रूम के बाहर एक गार्ड तैनात करने को कहा था। इस रूम में आन्सर शीट्स रखे गए थे। 4 अगस्त को गार्ड तैनात कर दिया गया था। 5 अगस्त को बलविंदर शर्मा ने वहां गार्ड को तैनात देखा तो गुस्से में आ गए और वजिंदर सिंह को लताड़ लगाई। गार्ड को वहां से हटवा दिया।

    आन्सर शीट्स दूसरी जगह मिले तो शर्मा ने मुंह बंद रखने को कहा था
    सुपरिंटेंडेंट ईश्वर सिंह ने पुलिस को बताया है कि अगले दिन वह प्रिंटिंग रूम में गए तो उन्हें आन्सर शीट्स और संंबंधित मैटिरियल में छेड़छाड़ का शक हुआ। आन्सर शीट्स व अन्य सामान अपनी जगह से अलग दूसरी जगह शिफ्ट किए गए थे। इस पर ईश्वर सिंह ने वजिंदर और जज बलविंदर शर्मा के सामने छेड़छाड़ का शक जाहिर किया था। शर्मा ने उन्हें मुंह बंद रखने और छुट्टी वाले दिन बात करने को कहा था। शर्मा ने हिदायत दी थी कि किसी सीनियर से बात मत करना।

    टॉपर सुनीता की जमानत अर्जी दूसरी बार खारिज

    पेपर लीक मामले में गिरफ्तार सुनीता की जमानत अर्जी कोर्ट ने दूसरी बार खारिज कर दी है। सुनीता को पिछले साल पुलिस ने दिल्ली से गिरफ्तार किया था। तब से वह जेल में ही है। सुनीता के वकील ने पहली बार 19 दिसंबर को जिला अदालत में जमानत के लिए अर्जी दायर की थी, जिसे खारिज कर दिया गया था। बुधवार को सुनीता के वकील ने कोर्ट में दलील दी कि उन्हें केस में झूठा फंसाया गया है। वे तकरीबन ढाई महीने से कस्टडी में है, अब और जेल में रखने की जरूरत नहीं है और ना ही वह जांच को प्रभावित करेगी। इस केस में चालान भी पेश हो चुका है। सभी आरोपी भी पकड़े जा चुके हैं। पुलिस ने जमानत अर्जी का विरोध करते हुए कहा कि केस की जांच अभी तक चल रही है। सुनीता को जमानत मिलती है तो वह गवाहों को प्रभावित कर सकती है। एडिशनल डिस्ट्रिक्ट एंड सेशंस जज जेएस सिद्धू की कोर्ट ने जमानत अर्जी खारिज कर दी।

    ये है मामला- जज से 1100 बार फोन पर कॉन्टैक्ट करने वाली सुनीता बनी थी टॉपर...

    पिंजौर की वकील सुमन ने हाईकोर्ट में याचिका दायर कर कहा था कि एचसीएस का पेपर डेढ़ करोड़ में बिक रहा है। उसे भी पेशकश की गई थी। उसने सुशीला नाम की एक लड़की से लेक्चर की वीडियो क्लिप मंगवाई थी, लेकिन उसने गलती से सुनीता से हुई बातचीत की रिकॉर्डिंग भेज दी। इसमें पेपर में आने वाले सवालों को लेकर बातचीत हो रही थी। इस याचिका पर हाईकोर्ट ने अपने स्तर पर जांच शुरू की। सामने आया कि हाईकोर्ट के ही रिक्रूटमेंट रजिस्ट्रार डॉ. बलविंदर शर्मा के मोबाइल फोन से सुनीता के फोन पर सालभर में 1100 बार संपर्क हुआ था। सुनीता ही एग्जाम में टॉपर बनी। सुशीला रिजर्व कैटेगरी की टॉपर बनी। कोर्ट ने परीक्षा रद्द कर दी थी।

    आज सुशीला की पेशी
    तीसरी आरोपी और रिजर्व कैटेगरी की टॉपर एडवोकेट सुशीला का दो दिन का पुलिस रिमांड खत्म होने पर वीरवार को उसे कोर्ट में पेश किया जाएगा। केस के मुख्य आरोपी जज बलविंदर शर्मा और सुनीता पहले से जेल में हैं।

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From News

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×