--Advertisement--

गर्लफ्रेंड की दी हुई रिंग के देकर कराई बीवी की हत्या, बंदर दिखाकर घोंटा था गला

एक ने पकड़े थे रजनी के पैर, फिर लॉयर की गर्लफ्रेंड ने प्लास्टिक की रस्सी से दबाया था गला...

Danik Bhaskar | Jan 29, 2018, 02:32 AM IST
मृतका रजनी के दोनों बच्चे। मृतका रजनी के दोनों बच्चे।

पंचकूला. शादी के बावजूद एडवोकेट मनमोहन का मोनिका से अफेयर के कारण साजिश रचकर लॉयर मनमोहन ने अपनी ही बीवी का कत्ल करवा दिया। लॉयर की जानकार मोनिका और उसके जीजा संदीप ने 16 जनवरी को कत्ल को अंजाम दिया। रजनी का शव सेक्टर-23 के डंपिंग ग्राउंड पर ही फेंक दिया। यहां शव फेंकने पर मनमोहन ने मोनिका को गाली भी दी थीं कि उसने लाश को यहीं क्यों फेंका। फिर यूपी से अपने दोस्त इमशाद अली को बुलाकर बीवी की लाश ठिकाने लगाने का जिम्मा दिया। ये था मामला...

- इमशाद इस काम को अंजाम देने अपने एक दोस्त के साथ पहुंचा। इसके लिए डेढ़ लाख रुपए रकम तय हुई थी। पुलिस की जांच में सामने आया कि पेशगी के तौर पर मनमोहन ने उन्हें एक गोल्ड रिंग दी, जो उसे मोनिका ने ही गिफ्ट की थी।

- इमशाद व उसका साथी एमपी नंबर की गाड़ी से रजनी की लाश लेकर निकल गए और लाश एमपी में नीमच के जंगलों में फेंकी गई है। अब पंचकूला पुलिस मनमोहन के साथ शव बरामद करने वहां जाएगी। इस केस में मनमोहन, मोनिका और संदीप गिरफ्तार किए जा चुके हैं।
- मोनिका और संदीप पहले से ही पुलिस रिमांड पर हैं। रविवार को कोर्ट ने मनमोहन को 6 दिन के पुलिस रिमांड पर भेज दिया।
- इमशाद और उसके दोस्त की तलाश में क्राइम ब्रांच की एक टीम को भेजा गया है। इन दोनों के फोन नंबर से इनकी लोकेशन पता की जा रही है।
- पुलिस इनको पकड़कर नीमच ले जाएगी, क्योंकि यही जानते हैं कि लाश कहां फेंकी है।

रजनी को बंदर देखने को कहा व पीछे से गले में डाल दी थी रस्सी : मोनिका

- मोनिका ने अपने बयानों में कहा है- मैंने रजनी को शीशे की ओर बंदर देखने को कहा और पीछे से रस्सी उठाकर उसके गले में डाल दी।

- जब वह बचाव करने लगी तो संदीप ने लातों पर दबाव देकर उसकी बाजुओं को पकड़ लिया। चंद मिनटों में ही रजनी ने दम तोड़ दिया।

- पुलिस के मुताबिक मोनिका की कार में प्लास्टिक की वह रस्सी मौजूद हो सकती है जिससे रजनी का गला दबाया गया।

बयान पर साइन नहीं कर रहा, लोगों की कमेटी बना करवाए मनमोहन से साइन

- मनमोहन ने पुलिस को सारी कहानी बयां कर दी है लेकिन जब लिखित बयानों पर साइन करने की बारी आई तो वह मुकर गया।

- बार-बार पुलिस ने उसे साइन करने को कहती रही, लेकिन वह नहीं माना। इस पर पुलिस ने धारा-180 के तहत एक कमेटी बनाकर वहां मौजूद सभी लोगों के साइन करवा दिए कि सामने मनमोहन ने हमारे सामने बयान दिए हैं।

रजनी मामले का शिकायतकर्ता बदला

- 16 जनवरी को जब रजनी संदिग्ध हालत में गायब हुई तो उसके पति मनमोहन ने ही पुलिस में शिकायत दी थी। पुलिस ने गुमशुदगी का केस दर्ज किया था।

- अब मामला पलट गया है तो केस का शिकायतकर्ता ही बदल दिया गया है। अब रजनी के मौसी के बेटे राजिंदर को शिकायतकर्ता बनाया गया है।

मनमोहन बोला- जज साहब पुलिस ने पीटा, मैं बेकसूर

- मनमोहन पूरे दिन कोर्ट में ड्रामा करता रहा और कानून का जानकार होने के कारण बारीकियों से खेलता रहा।

- कोर्ट में कहा- मुझे पुलिस ने बहुत पीटा है। मुझे कई दिन पहले राउंड-अप किया गया था लेकिन गिरफ्तारी 27 जनवरी की दिखाई गई है। यह गलत है। मुझे इस बारे में कुछ नहीं पता। मैं कुछ नहीं जानता।

जज- मोनिका तुम्हारे खिलाफ खुलकर बयान दे रही है

- जज ने कहा : मोनिका तुम्हारे खिलाफ खुलकर बयान दे रही है। वह सारी बात बता रही है। तुम पुलिस की मदद करो। जो भी बात है वह बताओ। गलत कुछ नहीं होगा।

मनमोहन के लिए कोई ‌भी वकील खड़ा नहीं हुआ

- इस दौरान पंचकूला कोर्ट में एक दर्जन से ज्यादा वकील मौजूद थे। किसी भी वकील ने न तो मनमोहन का हाल पूछा और न ही केस के बारे में बात की।

- जब कोर्ट में मनमोहन के वकील के बारे में पूछा गया तो कोई भी उसकी ओर से अपीयर होने के लिए आगे नहीं आया। बार एसोसिएशन ने फैसला किया है कि वह मनमोहन का साथ नहीं देगी। पुलिस इस मामले में फेयर इन्वेस्टिगेशन करे।

आगे की स्लाइड्स में पढ़ें, मर्डर से लेकर लाश ठिकाने लगाने तक की कहानी...