Hindi News »Union Territory »Chandigarh »News» Kidnap Looti Fortune Looty

ड्राइवर को किडनैप कर लूटी फॉर्च्यूनर बॉर्डर एरिया से सेफ निकल गए अपराधी

मरा समझकर लुटेरे फॉर्च्यूनर गाड़ी लेकर फरार हो गए।

bhaskar news | Last Modified - Jan 08, 2018, 06:08 AM IST

  • ड्राइवर को किडनैप कर लूटी फॉर्च्यूनर बॉर्डर एरिया से सेफ निकल गए अपराधी

    पंचकूला. पुलिस बढ़ते क्राइम को रोकने में नाकाम है। शनिवार देर रात सेक्टर-9 की मेन मार्केट से एक ड्राइवर को गाड़ी सहित गन प्वॉइंट पर किडनैप किया गया। उसे पीटते हुए ले गए और जीरकपुर के पास पटियाला रोड पर एक सुनसान जगह पर गाड़ी रोककर ड्राइवर को नीचे उतार कर खूब पीटा। ड्राइवर रणधीर सिंह बेहोश हो गया। उसे मरा समझकर लुटेरे फॉर्च्यूनर गाड़ी लेकर फरार हो गए।

    रणधीर की आंखें खुली तो पास की एक सोसायटी के सिक्योरिटी गार्ड के पास पहुंचा। रणधीर का मोबाइल छीन लिया गया था। उसने सिक्योरिटी गार्ड के लैंडलाइन नंबर से अपने मालिक को वारदात के बारे में बताया। इसके बाद अरुणदीप सिंगला ने पुलिस को जानकारी दी। 12.45 बजे के आसपास पुलिस को मामले की जानकारी मिली। इसके बाद रणधीर सिंह को मौके से लाया गया और फिर सारी रात वह पूरे रूट और जहां उसे छोड़ा गया उस जगह की निशानदेही करवाई गई। सरेआम मेन मार्केट में हुई इस वारदात के बाद पुलिस सीसीटीवी कैमरों को खंगाल रही है, लेकिन अभी तक कोई कामयाबी नहीं मिल पाई है।

    3 बार दी जान से मारने की धमकी
    पुलिस को दिए बयान के अनुसार रणधीर इस पूरे वाकया से डर गया। उसे चोटें आई हैं। सेक्टर-6 के जनरल अस्पताल में उसका इलाज कराया गया। उसने बताया कि किडनैपर सिर्फ दो नहीं थे, उन दो के अलावा एक अन्य स्कॉर्पियो गाड़ी में दो और किडनैपर भी थे। रास्ते में किडनैपर्स ने उसे खूब पीटा। दो बार गाड़ी से नीचे उतारा और गोली चलाने की धमकी दी। एक किडनैपर ने ऐसा करने से रोका। इसके बाद रणधीर को किडनैपर्स ने अपनी स्कॉर्पियो गाड़ी में बिठा लिया और पटियाला रोड पर पिटाई के बाद मरा हुआ सोचकर फरार हो गए।

    चंडीगढ़ के रहने वाले अरुणदीप सिंगला का यहां सेक्टर-9 की मेन मार्केट में ब्रू इस्टेट नाम से रेस्टोरेंट है। शनिवार को सिंगला यहां अपने ड्राइवर रणधीर के साथ आए हुए थे। देर रात सिंगला रेस्टोरेंट के अंदर और ड्राइवर बाहर गाड़ी में था। रणधीर अपनी फॉर्च्यूनर गाड़ी में बैठा था तभी दो युवक आए और उससे सिगरेट लाइटर के बारे में पूछा। रणधीर ने उन्हें जवाब देकर गाड़ी का शीशा ऊपर करना चाहा तो एक लुटेरे ने उसे गन प्वाॅइंट पर ले लिया। इसके बाद लुटेरों ने रणधीर को पिछली सीट पर गिरा दिया और खुद वहां से गाड़ी लेकर कालका-शिमला हाईवे की ओर निकल लिए। हाईवे से जीरकपुर की ओर रवाना हो गए। उनके पीछे एक स्कॉर्पियों गाड़ी में दो लुटेरे और थे।

    2017 में बढ़ा था क्राइम ग्राफ
    बालिगोंके साथ रेप के 19 और नाबालिगों के साथ रेप के 26 मामले आए थे। 19 मर्डर केस में 4 अनसॉल्व्ड हैं। लूट के 8 केस में से 5 पुलिस ने सॉल्व किए थे। कातिलाना हमलों के 62 और व्हाइट कॉलर क्राइम 129 केस सामने आए थे।

    पुलिस की नाकामी यह
    ऐसापहली बार नहीं हुआ है। पहले भी पंचकूला में कई आपराधिक मामले सामने चुके हैं। पंचकूला में वारदात को अंजाम देने के बाद अपराधी बॉर्डर एरिया से होते हुए आसानी से भाग जाते हैं। पुलिस कुछ नहीं कर पाती। अगर एंट्री प्वॉइंट्स पर प्रॉपर नाके लगाकर चेकिंग की जाए तो शायद क्राइम कंट्रोल करने में मदद मिल सके। पुलिस अफसर दावा करते हैं कि मार्केट्स में राइडर्स की ड्यूटी लगाई गई है। ये गश्त पर रहते हैं। इसके बावजूद भीड़ वाली मार्केट्स से लूट की वारदात हो जाना पुलिस गश्त पर सवाल है।

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From News

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×