--Advertisement--

लॉयर पति ने गर्लफ्रेंड संग मिलकर की पत्नी की हत्या, साले को दी थी ऐसी धमकी

एक ने पकड़े थे रजनी के पैर, फिर लॉयर की गर्लफ्रेंड ने प्लास्टिक की रस्सी से दबाया था गला...

Danik Bhaskar | Jan 28, 2018, 05:38 AM IST
प20 जनवरी को रोने का ड्रामा करता रजनी का पति मनमोहन। इनसेट में -लाश की जगह मिली थी कुत्ते की बॉडी। प20 जनवरी को रोने का ड्रामा करता रजनी का पति मनमोहन। इनसेट में -लाश की जगह मिली थी कुत्ते की बॉडी।

पंचकूला. एडवोकेट मनमोहन की पत्नी रजनी 16 जनवरी से गायब थी। उसके कत्ल के आरोप में पुलिस ने मनमोहन की परिचित मोनिका और उसके जीजा संदीप को 25 जनवरी को अरेस्ट किया था। इनसे पूछताछ में खुलासा हुआ है कि बीवी को मरवाने का प्लान मनमोहन ने ही रचा। 16 जनवरी को ही मोनिका और संदीप ने रजनी का मर्डर किया। लाश को ठिकाने मनमोहन ने लगाया था। हो सकता है लाश का किया हो ये हाल...

- शनिवार को पुलिस मनमोहन को राउंड-अप कर पूछताछ करती रही। देर रात सेक्टर-20 पुलिस थाने ने मनमोहन की गिरफ्तारी दिखाई। पहले पुलिस उसे फरार बता रही थी।

- रजनी की लाश अब भी नहीं मिली है तो पुलिस का मानना है कि हो सकता है सबूत मिटाने के लिए मनमोहन ने लाश जला दी हो।

- मोनिका और संदीप 7 दिन के पुलिस रिमांड पर हैं। संदीप ने डेढ़ लाख रुपए के लालच में इस कत्ल को अंजाम दिया।

भास्कर पहुंचा रजनी की मां तक, बोली मनमोहन ने ही सब कुछ करवाया

- रजनी की मां रामवती की उम्र 65 के पार है। पिछले 12 दिनों से वह रो रही हैं। जुबान पर सिर्फ एक ही बात है- मनमोहन को पूछो, कहां मारा है मेरी रज्जो को। रामवती ने बताया- 2004 में रजनी की शादी की थी, हैसियत से ज्यादा ही दिया था।

- पिछले कई महीनों से बेटी बताती थी, कि मनमोहन की जिंदगी में कोई है, वो फोन पर किसी महिला से बात करता है, मिलने भी जाता है। कई बार तो रात को घर आता ही नहीं।

- सितंबर से दिसंबर के बीच रजनी से मारपीट भी की। मेरे बेटे नरेश ने मनमोहन से बात की, तो बोला- बहुत से क्रिमिनल मेरे जानकार हैं, तेरी बहन को ऐसी जगह पहुंचाऊंगा, न तो तलाश पाओगे, न सोच पाओगे। रही बात कानून की तो वो मैं संभाल ही लूंगा।

ऐसे पकड़े गए...5 जनवरी से पहले रेगुलर कॉलिंग, लोकेशन भी थी साथ

- पुलिस के मुताबिक मोनिका का मनमोहन से प्रेम प्रसंग था। मनमोहन अपना मोबाइल बंद करके अक्सर उससे मिलता था।

- मर्डर से कुछ दिन पहले उसने मोबाइल कॉल करना छोड़ दिया, लेकिन वॉट्सएप पर कॉल करता था।
- पुलिस ने दोनों की 25 दिनों की कॉल डिटेल निकलवाई तो सामने आया कि 5 जनवरी से पहले तो दोनों के बीच रेगुलर कॉलिंग हो रही थी, लोकेशन भी साथ मिल रही थी। इसके बाद पुलिस ने पहले मोनिका को पकड़ा।

- मोनिका के साथ कैथल के संदीप की भी रेगुलर कॉल और लोकेशन मिली। इसके बाद संदीप को पकड़ा गया। पूछताछ में संदीप ने पहले ही जुबान खोल दी।

लोकेशन कहीं और दिखाने को अपना फोन बहन को देकर उसे चंडीगढ़ भेजा

- साजिश के तहत अपनी लोकेशन कहीं और दिखाने के लिए उसने पहले ही अपना मोबाइल अपनी बहन को देकर चंडीगढ़ जाने को कहा था।

- अपनी लोकेशन को पुख्ता करने के लिए पंचकूला में एक रिक्शा चालक से फोन लेकर अपने ही नंबर पर कॉल की थी।

आगे की स्लाइड्स में पढ़ें आरोपी मृतका को किस तरह ले गए थे साथ...

लाश की जगह मिली थी कुत्ते की बॉडी। लाश की जगह मिली थी कुत्ते की बॉडी।

जीजा को दिया डेढ़-दो लाख का ऑफर, कहा- फंसे तो बचा लेगा लॉयर मनमोहन

 

- मोनिका ने रजनी के कत्ल के लिए जीजा संदीप से मदद मांगी थी। संदीप ने पहले इनकार किया था, पर डेढ़-दो लाख के लालच में मान गया।

- मोनिका ने हिदायत दी थी कि मनमोहन का नाम नहीं आना चाहिए। अगर हम फंस भी गए, तो वह हमें बचा लेगा।

मोनिका और उसके जीजा संदीप को रिमांड पर लेकर जाती पुलिस। मोनिका और उसके जीजा संदीप को रिमांड पर लेकर जाती पुलिस।

दोस्त बनकर रजनी को बुलाया, उसका फोन ऑफ कर दिया


- मनीमाजारा में रहने वाली मोनिका बतौर ब्यूटीशियन काम करती है। मोनिका ने कहा है कि वो मनमोहन को डेढ़-दो साल से जानती थी।

- 16 जनवरी को उसने रजनी को कॉल कर बुलाया था। रजनी का मोबाइल लेकर स्विच ऑफ कर दिया था। खुद रजनी के साथ पिछली सीट पर बैठी थी। 

मोनिका और उसके जीजा को 7 दिन के रिमांड पर रखा है। मोनिका और उसके जीजा को 7 दिन के रिमांड पर रखा है।

लाश फेंकने पर मनमोहन ने दी थी मोनिका को गाली

 

- कार में मोनिका ने प्लास्टिक की रस्सी से रजनी का गला दबाया, संदीप ने रजनी की टांगें पकड़ीं। दोनों लाश लेकर सेक्टर-21 के आसपास घूमते रहे।

- शाम को डंपिंग ग्राउंड के पास जाकर लाश खाली जगह पर फेंक दी। फिर मनमोहन को बताया। मनमोहन ने गालियां दीं कि लाश सेक्टर-23 में ही क्यों फेंक दी।

मौके से रजनी की जूती मिली थी। मौके से रजनी की जूती मिली थी।

पंचकूला बार एसो. भी मनमोहन के खिलाफ

 

 

पंचकूला बार एसोसिएशन एडवोकेट मनमोहन के खिलाफ आ गई है। एसोसिएशन के प्रधान एडवोकेट संदीप लॉरा ने बताया कि पंचकूला बार एसोसिएशन ऐसे लोगों का कभी भी साथ नहीं देगी। हम मीटिंग बुलाकर तय करेंगे कि पंचकूला के वकील इस केस को ही न लड़ें। हम गलत काम में उनके साथ नहीं हैं।

रजनी की जूती इससे ही पुलिस को शक हुआ था। रजनी की जूती इससे ही पुलिस को शक हुआ था।

जो सवाल आपके मन में उठ रहे होंगे...

 

18 जनवरी को बच्चे का लाश देखना, 2 दिन बाद पुलिस का पहुंचना
18 जनवरी को सेक्टर-23 के डंपिंग ग्राउंड के पास कबाड़ी का काम करने वाले एक बच्चे ने किसी महिला की लाश देखी। जहां वह काम करता था, उसके मालिक को बताया।

 

जहां महिला की लाश निकलनी थी, वहां निकली कुत्ते की लाश
20 जनवरी को लाश देखने की सूचना पुलिस तक पहुंची। पुलिस ने शक के आधार पर जगह को खुदवाया तो वहां से किसी महिला की नहीं, एक कुत्ते की लाश निकली। 

 

रजनी के कत्ल में पुलिस का मोनिका और संदीप को पकड़ना
मोनिका और मनमोहन का मिलना-जुलना था। मोनिका ने रजनी से भी दोस्ती कर ली थी। वह रजनी की जगह लेना चाहती थी।

 

रजनी के शव का अबतक बरामद न होना
27 जनवरी तक पुलिस रजनी का शव नहीं बरामद कर सकी थी। कातिल यही हैं तो क्या ये तीनों इतने हार्डकोर क्रिमिनल हैं कि पुलिस उनसे यह तक उगलवा नहीं पा रही है, कि लाश कहां दबाई?

 

 

 

पुलिस झाड़ियों में लाश सर्च करती हुई। पुलिस झाड़ियों में लाश सर्च करती हुई।

इससे शांत हो सकती है जिज्ञासा...

 

16 को ही मर्डर कर लाश सेक्टर-23 के डंपिंग ग्राउंड में फेंकी गई थी
अब तक की जांच पर यकीन करें तो कबाड़ का काम करने वाले बच्चे ने वाकई लाश देखी थी। मोनिका और संदीप ने रजनी का मर्डर कर लाश सेक्टर-23 के डंपिंग ग्राउंड में फेंक दी थी।

 

सेक्टर-23 के डंपिंग ग्राउंड से लाश गायब की गई थी
16 जनवरी को ही मोनिका ने मनमोहन को बताया कि लाश सेक्टर-23 में फेंकी है। मनमोहन नाराज हुआ। इसके बाद लाश गायब हो गई। मनमोहन रोने-धोने का ड्रामा करता रहा।

 

मोनिका-संदीप ने कबूला जुर्म
पुलिस पूछताछ में मोनिका और संदीप ने जुर्म कबूल लिया है। मोनिका जहां डेढ़-दो साल से मनमोहन के साथ संपर्क में थी, वहीं संदीप डेढ़ लाख रुपए के लालच में इस जुर्म में शामिल हुआ।

 

हो सकता है लाश जला दी गई हो
पुलिस का मानना है कि हो सकता है सबूत मिटाने के लिए लाश जला दी गई हो, क्योंकि मनमोहन वकील है और कानून जानता है। जब तक लाश नहीं मिलती, तब तक केस बहुत कमजोर है।

 

 

 

क्रेन की सहायता से हटाई गई थीं झाड़ियां। क्रेन की सहायता से हटाई गई थीं झाड़ियां।
पुलिस मौके पर जांच करते हुए। पुलिस मौके पर जांच करते हुए।
मृतका रजनी। मृतका रजनी।