--Advertisement--

जाखड़ दूसरी पार्टियों से आए नेताओं को भी टिकट देने के हक में, दावेदार भड़के

जाखड़ के इस बयान से पार्टी के पुराने उम्मीदवारों में रोष फैल गया है।

Danik Bhaskar | Dec 03, 2017, 04:19 AM IST

चंडीगढ़. नगर निगम चुनाव की डेट तय होते ही जहां सभी राजनीतिक पार्टियों ने तैयारियां शुरू कर दी हैं, वहीं टिकट आवंटन को लेकर कांग्रेस में बवाल पैदा हो गया है। टिकट पाने के लिए विभिन्न दावेदारों ने पूरी ताकत लगा रखी है। अपने जिला अध्यक्षों से मिलकर जोड़तोड़ की कोशिश में लगे हैं। कई तो पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष तक अप्रोच लगा रहे हैं। इसी बीच पार्टी प्रदेश अध्यक्ष सुनील जाखड़ ने स्पष्ट कर दिया है कि योग्य नेताओं को ही चुनाव के लिए टिकट सौंपी जाएगी। उन्होंने कहा कि दूसरी पार्टियों को छोड़कर जो योग्य नेता कांग्रेस में आए हैं, उन्हें भी मौका दिया जाएगा, ताकि उन्होंने कांग्रेस में जो भरोसा जताया है, उसे कायम रखा जा सके। जाखड़ के इस बयान से पार्टी के पुराने उम्मीदवारों में रोष फैल गया है।

उनका कहना है कि अगर दूसरी पार्टियों से आए नेताओं को टिकट दी जाती है तो ऐसे में पुराने उम्मीदवारों के टिकट कटेंगे। ये उनकी अनदेखी होगी। इधर पता चला है कि नगर निगम, नगर परिषद और अन्य चुनावों को लेकर कांग्रेस के उम्मीदवारों का फैसला 4 दिसंबर तक कर दिया जाएगा। इसके लिए मीटिंग्स का दौर जारी है।

अकालीदल ने निगम चुनाव में वोटर सूचियां बनने का मसला इलेक्शन कमिश्नर जगपाल संधू के सामने उठाते हुए संबंधित अफसरों के खिलाफ सख्त कार्रवाई की मांग की है। पार्टी के सीनियर वाइस प्रेसिडेंट डाॅ. दलजीत सिंह चीमा ने कहा, अजीब बात है कि नामांकन प्रक्रिया शुरू हो चुकी है, लेकिन अभी तक कई जगह वोटर सूचियां प्राप्त नहीं हुई हैं। मोगा में पड़ती म्यूनिसिपल कमेटियां धर्मकोट, बाघापुराना, फतेहगढ़ और पंजतूर में वोटर सूचियां उपलब्ध नहीं हैं।

इसके अलावा पटियाला और अमृतसर नगर निगम की सूचियां भी उपलब्ध नहीं है। कोई भी उम्मीदवार बिना वोटर सूची अपना नामांकन दायर नही ंकर सकता। इससे चुनाव की तैयारियों की पोल खुल गई है। पंजाब के स्थानीय निकाय मंत्री इसका जवाब दें। उन्होंने कहा कि इसका जिम्मेदार स्थानीय निकाय विभाग है। उन्होंने चुनाव की जानकारी होने के बावजदू इस पर कोई कदम नहीं उठाया। इसकी जिम्मेदारी मंत्री नवजोत सिंह सिद्धू की बनती है। संबंधित अफसरों से जवाब मांगा जाए और 24 घंटों में सूचियां उपलब्ध कराई जाएं ताकि नामांकन दायर करने में कोई परेशानी आए।