--Advertisement--

पिंजौर के जंगल में मरा मिला तेंदुआ, लगी थी गोली

पिंजौर ब्लॉक के गांव खड़कुआं में सोमवार को मादा तेंदुए का तीन दिन पुराना शव मिला।

Danik Bhaskar | Jan 09, 2018, 07:10 AM IST

पिंजौर. पिंजौर ब्लॉक के गांव खड़कुआं में सोमवार को मादा तेंदुए का तीन दिन पुराना शव मिला। तेंदुए को गोली लगी हुई थी। बीड़ शिकारगाह, जहां शव मिला वह सुरक्षित वन क्षेत्र है। क्षेत्र में पहली बार किसी तेंदुए को गोली से मरा हुआ पाया गया है। करीब 4 साल पहले पिंजौर-नालागढ़ रोड पर शोरी अस्पताल के सामने अज्ञात वाहन की चपेट में आने से एक तेंदुए की मौत हो गई थी। गांव की आबादी से मात्र आधा किलोमीटर दूर यह शव मिला, लेकिन किसी वन कर्मचारी की नजर तक नहीं पड़ी। सोमवार को जंगल में सूखी लकड़ियां लेने गई कुछ महिलाओं ने शव को देखा। उन्होंने सोचा कि तेंदुआ सोया हुआ है, इसलिए उस तरफ नहीं गईं। वन्य प्राणी संरक्षण विभाग को सूचना दी गई तो इंस्पेक्टर जयवीर सिंह और सब इंस्पेक्टर रामकेश, पिंजौर थाना प्रभारी सुखबीर सिंह मौके पर पहुंचे। शव को पोस्टमॉर्टम के लिए पिंजौर स्थित पशु चिकित्सालय ले जाया गया। वहां के डॉक्टर की तबीयत खराब होने के कारण शव पेट एनिमल हॉस्पिटल पंचकूला ले गए। पोस्टमॉर्टम के बाद शव को बीड़ शिकारगाह के जंगल में दफना दिया गया।

}किसी किसान ने सूअर समझकर गोली चलाई होगी: डिविजनल ऑफिसर...
वाइल्ड लाइफ डिविजनल ऑफिसर शिव कुमार रावत ने तेंदुए की मौत शिकारी की गोली से होने से इनकार किया है। रावत के मुताबिक जंगली सूअरों से खेतों की रखवाली करने वाले किसी किसान ने अंधेरे में तेंदुए को सूअर समझकर गोली चलाई होगी। जंगली सूअर रात को खेतों में फसलों की जड़ खाने आते हैं। इन सूअरों का शिकार करने तेंदुए आते हैं। शिकार किया गया होता तो शिकारी खाल ले जाते। जांच कर रहे हैं कि गांव में किसके पास बंदूकें हैं। पता कर रहे हैं कि मौत किसी गोली से हुई है।

पिंजौर थाना प्रभारी सुखबीर
सिंह ने बताया कि वाइल्ड लाइफ प्रोटेक्शन एक्ट की धारा-9 (शेड्यूल वन के जानवर के शिकार पर)के तहत अज्ञात के खिलाफ केस दर्ज किया है।

05 साल की सजा
25 हजार रुपए जुर्माना

इलाके में 55-60 तेंदुए
वाइल्ड लाइफ के इंस्पेक्टर रामकेश ने बताया कि एरिया में लगभग 55 से 60 तेंदुए हैं। जिस तेंदुए की मौत हुई वह दो साल की मादा थी। अपनी मां से अलग होकर अपना एरिया बना रही थी।