--Advertisement--

झूठे एफिडेविट देकर एक से ज्यादा खरीदे प्लॉट, कई चौंकाने वाले नामों का खुलासा

झूठे एफिडेविट देकर हुडा से एक से ज्यादा प्लॉट लेने के मामले में कई चौंकाने वाले खुलासे हुए हैं।

Danik Bhaskar | Feb 22, 2018, 07:14 AM IST

पंचकूला. झूठे एफिडेविट देकर हुडा से एक से ज्यादा प्लॉट लेने के मामले में कई चौंकाने वाले खुलासे हुए हैं। एफआईआर में पंजाब एंड हरियाणा हाईकोर्ट के रिटायर्ड जस्टिस जेएम टंडन, पूर्व केंद्रीय मंत्री कुमारी सैलजा की मृतक मां कलावती देवी और जीजा रिटायर्ड आईएएस अफसर आरके रंगा के नाम भी शामिल हैं। अभी तक ये नाम सामने नहीं आए थे।

- कलावती के नाम पर पंचकूला सेक्टर-6 में प्लॉट नंबर 600 है। इसके बाद कलावती के नाम पर फरीदाबाद में प्लॉट नंबर 925 अलॉट हुआ। इसी तरह जस्टिस टंडन को पहले पंचकूला सेक्टर-8 में प्लॉट मिला था, बाद में एक प्लॉट फरीदाबाद में अलॉट हुआ।

- इनके अलावा कई रिटायर्ड आईएएस-आईपीएस अफसर और टाउन प्लानिंग के अफसर भी आरोपी बनाए गए हैं। पंचकूला पुलिस ने केस दर्ज करने के बाद इन सभी केसों के लिए अलग-अलग इन्वेस्टिगेशन ऑफिसर लगाए हंै, ताकि जांच तेजी से हो सके। पूछताछ के लिए सोमवार तक सभी आरोपियों को नोटिस जारी किए जाएंगे।

हां पंचकूला में मेरी मां का प्लॉट है, लेकिन फरीदाबाद में प्लॉट की जानकारी नहीं: सैलजा
- राज्यसभा सांसद कुमारी सैलजा ने कहा- ‘हां मेरी मां के नाम पर पंचकूला में प्लॉट है। मां-पिता अब इस दुनिया में नहीं हैं। मुझे फरीदाबाद वाले प्लॉट की जानकारी नहीं है। इसलिए मैं इस बारे में कुछ नहीं कह सकती।’

इन रसूखदारों के खिलाफ दर्ज किए गए मामले...

- डीबी गुलाटी, पूर्व आईएएस अफसर। पंचकूला सेक्टर-11 में प्लॉट नंबर 1121 अलॉट था। बाद में रिजर्व कैटेगिरी में फरीदाबाद सेक्टर 21ए में प्लॉट नंबर 681 लिया।
- आरके रंगा, पूर्व आईएएस अफसर। पंचकूला सेक्टर-11 में प्लॉट नंबर 1176 अलाॅट हुआ था। बाद में इन्हें भी फरीदाबाद सेक्टर-21ए में प्लॉट नंबर 646 अलॉट हुआ।
- एसपी वोहरा, टाउन एंड कंट्री प्लानिंग डिपार्टमेंट से रिटायर्ड अफसर। पंचकूला सेक्टर-7 में प्लाॅट नंबर 1083पी अलॉट हुआ था, जिसके बाद इन्होंने फरीदाबाद सेक्टर-21ए में प्लॉट नंबर 1452 लिया।
- सुरिंदर सिंह आहूजा, टाउन एंड कंट्री प्लानिंग डिपार्टमेंट से रिटायर्ड अफसर। पंचकूला सेक्टर-11 में प्लॉट नंबर 1010 अलॉट हुआ। बाद में फरीदाबाद सेक्टर-21ए में प्लॉट नंबर 43पी लिया।
- रमा सिन्हा, पूर्व आईएएस अफसर की पत्नी। पंचकूला सेक्टर-6 में प्लॉट नंबर 667पी अलॉट हुआ था, इसके बाद इन्होंने फरीदाबाद सेक्टर-19 में प्लॉट नंबर 1147 अलॉट करवाया।
- एलएम मेहता, पूर्व आईएएस अफसर। पंचकूला सेक्टर-8 में प्लॉट नंबर 900पी अलॉट हुआ था। बाद में फरीदाबाद सेक्टर 21ए में प्लॉट नंबर 494 को अलॉट करवाया।
- आरएल सुधीर, पूर्व आईएएस अफसर। पंचकूला सेक्टर-11 में प्लॉट नंबर 1168पी मिला था। फिर फरीदाबाद सेक्टर-15ए में प्लॉट नंबर 818 अलॉट करवाया।
- कमल शर्मा, पूर्व एडिशनल एडवोकेट जनरल। पंचकूला सेक्टर-8 में प्लॉट नंबर 917पी अलॉट हुआ था, इसके बाद भी उन्होंने फरीदाबाद सेक्टर-17 में प्लॉट नंबर 731 लिया।
- महा सिंह, पूर्व आईएएस अफसर। पंंचकूला सेक्टर-12ए में प्लॉट नंबर 999 अलॉट था। बाद में इन्होंने रिजर्व कैटेगरी में फरीदाबाद सेक्टर-29 में प्लॉट नंबर 232 अलॉट करवाया।
ऐसे हुआ स्कैम...
- प्लॉट पहले तो ड्रॉ के जरिए लिए गए। उसके बाद रिजर्व कैटागिरी में रेट में छूट लेने के लिए झूठे एफिडेविट दिए गए कि उनके पास पहले से कोई भी प्लॉट नहीं हैं। यानी इन एफिडेविट के दम पर दोबारा प्लॉट लिए गए।
ये पूर्व एमएलए भी आरोपी
- शांति राठी|पंचकूला सेक्टर-12ए में प्लॉट नंबर 686 अलॉट हुआ था। इसके बाद इन्होंने फरीदाबाद में प्लॉट नंबर 169ए को अलॉट करवाया। इन पर भी मामला दर्ज किया गया है।
- मूलचंद जैन|पंचकूला सेक्टर-6 में प्लॉट नंबर 590 अलॉट हुआ था। बाद में इन्होंने भी फरीदाबाद सेक्टर-21ए में प्लॉट नंबर 41 को अलॉट करवाया। इसके लिए झूठे एफिडेविट दिए गए।
- गया लाल|पंचकूला सेक्टर-8 में प्लॉट नंबर 951 अलॉट हुआ था। बाद में उन्होंने फरीदाबाद सेक्टर-21ए में प्लॉट नंबर 713 को अलॉट करवा लिया।